भजो रे मन राम नाम सुखदाई भजन लिरिक्स | Bhajo Re Man Ram Naam Sukhdai Bhajan Lyrics

270

भजो रे मन राम नाम सुखदाई भजन लिरिक्स

भजो रे मन राम नाम सुखदाई भजन लिरिक्स, Bhajo Re Man Ram Naam Sukhdai Bhajan Lyrics

।। दोहा ।।
दया धर्म का मूल है पाप मूल अभिमान।
तुलसी दया न छोड़िये जब तक घट में प्राण।


~ भजो मन रामनाम सुखदाई ~

भजो रे मन राम नाम सुखदाई।


राम नाम के दो अक्षर में ,
सब सुख शांति समाई।
भजो रे मन राम नाम सुखदाई। टेर। ….


राम को नाम लेत मुख से ,
भवसागर तर जाई।
भजो रे मन राम नाम सुखदाई। टेर। ….


राम नाम भज ले मन मूरख ,
बनत बनत बन जाई।
भजो रे मन राम नाम सुखदाई। टेर। ….


राम नाम के कारण बन गई ,
पागल मीरा बाई।
भजो रे मन राम नाम सुखदाई। टेर। ….


गणिका गिद्ध अजामिल तारे ,
तारे सदन कसाई।
भजो रे मन राम नाम सुखदाई। टेर। ….


जूठे बेरन में शबरी के ,
भर गई कोन मिठाई।
भजो रे मन राम नाम सुखदाई। टेर। ….


मीठे समझ के ना प्रभु खाये ,
प्रेम की थी अधिकाई।
भजो रे मन राम नाम सुखदाई। टेर। ….


जरूर पढ़े :- मन मेरा मत कर तन री बढ़ाई

जरूर पढ़े :- तेरी बन जायेगी गोविन्द गुण गाये

shri ram ji ke bhajan lyrics

~ Bhajo Re Man Ram Naam Sukhdai ~

bhajo re man ram naam sukhdai.


ram naam ke do akshar me,
sab sukh shanti samai.
bhajo re man ram nam sukhdai.


ram ko naam let mukh se,
bhavsagar tar jaai.
bhajo re man ram nam sukhdai.


ram naam bhaj le man murakh,
banat banat ban jaai.
bhajo re man ram nam sukhdai.


ram naam ke karan ban gai,
pagal meera bai.
bhajo re man ram nam sukhdai.


ganika gidhdh ajamil taare,
taare sadan kasai.
bhajo re man ram nam sukhdai.


juthe beran me shabari ke,
bhar gai kon mithai.
bhajo re man ram nam sukhdai.


mithe samajh ke naa prabhu khaye,
prem ki thi adhikai.
bhajo re man ram nam sukhdai.


जरूर पढ़े :- गोविन्द जय जय गोपाल जय जय

जरूर पढ़े :- जग असार में सार रसना हरि-हरि बोल

श्री राम जी के भजन लिरिक्स

~ भजो रे मन राम नाम सुखदाई ~

भजो रे मन राम नाम सुखदाई।

राम नाम के दो अक्षर में ,सब सुख शांति समाई।
भजो रे मन राम नाम सुखदाई। टेर। ….

राम को नाम लेत मुख से ,भवसागर तर जाई।
भजो रे मन राम नाम सुखदाई। टेर। ….

राम नाम भज ले मन मूरख ,बनत बनत बन जाई।
भजो रे मन राम नाम सुखदाई। टेर। ….

राम नाम के कारण बन गई ,पागल मीरा बाई।
भजो रे मन राम नाम सुखदाई। टेर। ….

गणिका गिद्ध अजामिल तारे ,तारे सदन कसाई।
भजो रे मन राम नाम सुखदाई। टेर। ….

जूठे बेरन में शबरी के ,भर गई कोन मिठाई।
भजो रे मन राम नाम सुखदाई। टेर। ….

मीठे समझ के ना प्रभु खाये ,प्रेम की थी अधिकाई।
भजो रे मन राम नाम सुखदाई। टेर। ….

sanjeev abhyankar ke bhajan

भजन :- भजो रे मन राम नाम सुखदाई
गायक :- संजीव अभ्यंकर
लेबल :- राजस्थानी भजन लिरिक्स

जरूर पढ़े :- रे मन प्रति स्वाँस पुकार यही

जरूर पढ़े :- तेरी पार करेंगे नैया

पिछला लेखमन मेरा मत कर तन री बढ़ाई भजन लिरिक्स | Man Mera Mat kar Tan Ki Badhai Bhajan Lyrics
अगला लेखतू राम भजन कर प्राणी भजन लिरिक्स | tu ram bhajan kar prani teri do din ki zindgani Bhajan Lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

twenty − 7 =