जग असार में सार रसना हरि-हरि बोल भजन लिरिक्स | Jag Aasaar Me Saar Rasna Bhajan Lyrics

209

जग असार में सार रसना हरि-हरि बोल भजन लिरिक्स

जग असार में सार रसना हरि-हरि बोल भजन लिरिक्स, Jag Aasaar Me Saar Rasna Bhajan Lyrics

।। दोहा ।।
मुख माखन लिपटा दिखे, गोपी पकड़े कान।
बाल रूप में सज रहे, कैसे श्री कृष्ण भगवान।


~ जग आसार में सार रसना ~

जग आसार में सार रसना ,
हरी हरी बोल।


यह तन है एक जर्जरी नैया ,
केवल है हरिनाम खिवैया।
हरी से नाता जोड़ रसना ,
हरी हरी बोल।
जग आसार में सार रसना ,
हरी हरी बोल। टेर। …


यह तन तुझको करज मिला है ,
चुकता तूने कुछ न किया है।
जग से नाता तोड़ रसना ,
हरी हरी बोल।
जग आसार में सार रसना ,
हरी हरी बोल। टेर। …


ना पूरा तो थोड़ा कर ले ,
राम नाम हिर्दय में धर ले।
हरी सुमिरन कर शोर रसना ,
हरी हरी बोल।
जग आसार में सार रसना ,
हरी हरी बोल। टेर। …


लख चौरासी भरम गमायो ,
बड़े भाग मानुष तन पायो।
जाग हो गया भोर रसना ,
हरी हरी बोल।
जग आसार में सार रसना ,
हरी हरी बोल। टेर। …


जरूर पढ़े :- रे मन प्रति स्वाँस पुकार यही

जरूर पढ़े :- तेरी पार करेंगे नैया

shri krishna bhajan lyrics hindi

~ Jag Aasaar Me Saar Rasna ~ 

jag aasan me saar rasna,
hari hari bol.


yah tan hai ek jarjari naiya,
keval hai harinaam khivaiya.
hari se naata jod rasna,
hari hari bol.
jag aasan me saar rasna,
hari hari bol.


yah tan tujhko karaj mila hai,
chukta tune kuch n kiya hai.
jag se nata tod rasna,
hari hari bol.
jag aasan me saar rasna,
hari hari bol.


na pura to thoda kar le,
ram naam hirday me dhar le.
hari sumiran kar shor rasna,
hari hari bol.
jag aasan me saar rasna,
hari hari bol.


lakh chourasi bharam gamayo,
bade bhag manush tan payo.
jag ho gaya bhor rasna,
hari hari bol.
jag aasan me saar rasna,
hari hari bol.


जरूर पढ़े :- श्री वृंदावन धाम अपार

जरूर पढ़े :- रूड़ो रूपालो थारो देवरो 

श्री कृष्णा भजन लिरिक्स इन हिंदी

~ जग असार में सार रसना ~

जग आसार में सार रसना ,हरी हरी बोल।

यह तन है एक जर्जरी नैया ,केवल है हरिनाम खिवैया।
हरी से नाता जोड़ रसना ,हरी हरी बोल।
जग आसार में सार रसना ,हरी हरी बोल। टेर। …

यह तन तुझको करज मिला है ,चुकता तूने कुछ न किया है।
जग से नाता तोड़ रसना ,हरी हरी बोल।
जग आसार में सार रसना ,हरी हरी बोल। टेर। …

ना पूरा तो थोड़ा कर ले ,राम नाम हिर्दय में धर ले।
हरी सुमिरन कर शोर रसना ,हरी हरी बोल।
जग आसार में सार रसना ,हरी हरी बोल। टेर। …

लख चौरासी भरम गमायो ,बड़े भाग मानुष तन पायो।
जाग हो गया भोर रसना ,हरी हरी बोल।
जग आसार में सार रसना ,हरी हरी बोल। टेर। …

श्री कृष्ण कन्हैया का भजन

भजन :- जग आसार में सार रसना
गायक :- unknown
लेबल :- राजस्थानी भजन लिरिक्स

जरूर पढ़े :- राम गुण गायो नहीं आय करके

जरूर पढ़े :- दिन नीके बीते जाते है

पिछला लेखरे मन प्रति स्वाँस पुकार यही भजन लिरिक्स | Re Man Prati Swash Pukar Yahi Bhajan Lyrics
अगला लेखगोविन्द जय जय गोपाल जय जय लिरिक्स | Govind Jay Jay Gopal Jay Jay Lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

two − one =