रे मन प्रति स्वाँस पुकार यही भजन लिरिक्स | Re Man Prati Swash Pukar Yahi Bhajan Lyrics

133

रे मन प्रति स्वाँस पुकार यही भजन लिरिक्स

रे मन प्रति स्वाँस पुकार यही भजन लिरिक्स, Re Man Prati Swash Pukar Yahi Bhajan Lyrics

।। दोहा ।।
राम भरोसो राम बल , राम नाम बिस्वास।
सुमिरत सुभ मंगल कुसल, माँगत तुलसीदास॥


~ मन प्रति स्वास पुकार यही ~

रे मन प्रति स्वास पुकार यही ,
जय राम हरे घनश्याम हरे।
तन नौका की पतवार यही ,
जय राम हरे घनश्याम हरे।


जग में व्यापक आधार यही ,
जग में लेता अवतार वही।
है निराकार साकार यही ,
जय राम हरे घनश्याम हरे।
रे मन प्रति स्वास पुकार यही ,
जय राम हरे घनश्याम हरे। टेर। ..


ध्रुव को ध्रुव दातार यही ,
प्रह्लाद गले का हार यही।
नारद विणा का तार यही ,
जय राम हरे घनश्याम हरे।
रे मन प्रति स्वास पुकार यही ,
जय राम हरे घनश्याम हरे। टेर। ..


सब सुकृतो का आगार यही ,
गंगा यमुना की धार यही।
श्री रामेश्वर हरिद्वार यही ,
जय राम हरे घनश्याम हरे।
रे मन प्रति स्वास पुकार यही ,
जय राम हरे घनश्याम हरे। टेर। ..


सज्जन का साहूकार यही ,
प्रेमी जन का व्यापर यही।
सुख विन्दु सुधा का सार यही ,
जय राम हरे घनश्याम हरे।
रे मन प्रति स्वास पुकार यही ,
जय राम हरे घनश्याम हरे। टेर। ..


जरूर पढ़े :- तेरी पार करेंगे नैया

जरूर पढ़े :- श्री वृंदावन धाम अपार रटे जा

~ shri krishna bhajan lyrics in hindi ~

~ Re Man Prati Swash Pukar Yahi ~

Re man prati swas pukar yahi ,
jay ram hare ghanshyam hare.
tan noka ki patvar yahi,
jay ram hare ghanshyam hare.


jag me vyapak aadhar yahi,
jag me leta avtar vahi.
hai nirakar sakar yahi ,
jay ram hare ghanshyam hare.
Re man prati swas pukar yahi ,
jay ram hare ghanshyam hare.


dhruv ko dhruv datar yahi,
prahlad gale ka haar yahi.
naarad vina ka taar yahi,
jay ram hare ghanshyam hare.
Re man prati swas pukar yahi ,
jay ram hare ghanshyam hare.


sab sukrito ka aagar yahi,
ganga yamuna ki dhar yahi.
shri rameshwar haridwar yahi,
jay ram hare ghanshyam hare.
Re man prati swas pukar yahi ,
jay ram hare ghanshyam hare.


sajjan ka sahukar yahi,
premi jan ka vyapar yahi.
sukh vindu sudha ka saar yahi,
jay ram hare ghanshyam hare.
Re man prati swas pukar yahi ,
jay ram hare ghanshyam hare.


जरूर पढ़े :- रूड़ो रूपालो थारो देवरो 

जरूर पढ़े :- राम गुण गायो नहीं आय करके

कृष्णा भजन लिरिक्स इन हिन्दी

~ रे मन प्रति स्वाँस पुकार यही ~

रे मन प्रति स्वास पुकार यही ,जय राम हरे घनश्याम हरे।
तन नौका की पतवार यही ,जय राम हरे घनश्याम हरे।

जग में व्यापक आधार यही ,जग में लेता अवतार वही।
है निराकार साकार यही ,जय राम हरे घनश्याम हरे।
रे मन प्रति स्वास पुकार यही ,जय राम हरे घनश्याम हरे। टेर। ..

ध्रुव को ध्रुव दातार यही ,प्रह्लाद गले का हार यही।
नारद विणा का तार यही ,जय राम हरे घनश्याम हरे।
रे मन प्रति स्वास पुकार यही ,जय राम हरे घनश्याम हरे। टेर। ..

सब सुकृतो का आगार यही ,गंगा यमुना की धार यही।
श्री रामेश्वर हरिद्वार यही ,जय राम हरे घनश्याम हरे।
रे मन प्रति स्वास पुकार यही ,जय राम हरे घनश्याम हरे। टेर। ..

सज्जन का साहूकार यही ,प्रेमी जन का व्यापर यही।
सुख विन्दु सुधा का सार यही ,जय राम हरे घनश्याम हरे।
रे मन प्रति स्वास पुकार यही ,जय राम हरे घनश्याम हरे। टेर। ..

कृष्ण कन्हैया के भजन

भजन :- रे मन प्रति स्वास पुकार यही
गायिका :- unknown
लेबल :- राजस्थानी भजन लिरिक्स

जरूर पढ़े :- दिन नीके बीते जाते है

जरूर पढ़े :- भजले क्यों न राधे कृष्णा 

पिछला लेखतेरी पार करेंगे नैया भज मन कृष्ण कन्हैया भजन लिरिक्स | paar karenge naiya bhaj krishna kanhaiya Bhajan Lyrics
अगला लेखजग असार में सार रसना हरि-हरि बोल भजन लिरिक्स | Jag Aasaar Me Saar Rasna Bhajan Lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

six − 2 =