सतगुरु तारणहार मुगत के दाता भजन लिरिक्स | Satguru Taranhar Mugat Ke Data Bhajan Lyrics

675

सतगुरु तारणहार मुगत के दाता भजन लिरिक्स

सतगुरु तारणहार मुगत के दाता भजन लिरिक्स, Satguru Taranhar Mugat Ke Data Nirguni Satguru Mahima Bhajan Lyrics

।। दोहा ।।
सतगुरु मेरे सागड़ी , भगवत सु देय मिलाय।
ज्ञान गोला बरसाय के, जम का फंद छुड़ाय।


~ सतगुरु तारणहार मुगत के दाता ~

सतगुरु तारणहार ,
मुगत के दाता।
कर लेवो गुरु से हेत,
जनम सुख पाता।


अगत में जाता गुरू,
गत में मिलावे।
जब देवे ज्ञानरी फुख,
अजब रंग लावे।
साँचा शब्द सुनाय,
वचन फरमाता।
कर लेवो गुरु से हेत,
जनम सुख पाता। टेर। ..


गुरु बिना सुना देश ,
सुनी सब काया।
बिन गुरु अन्धा जाण ,
जगत बिसराया।
गुरु बिन घोर अंधेर ,
ज्ञान नहीं आता।
कर लेवो गुरु से हेत,
जनम सुख पाता। टेर। ..


चित में चेतन होय ,
गुरा ने ध्यावे।
गुरु करदे बेडा पार ,
राम सु मिलावे।
गुरु चेतन के चरणा माय ,
रोशन गुणगाता।
कर लेवो गुरु से हेत,
जनम सुख पाता। टेर। ..


जरूर पढ़े :- माने दर्शन दो महावीर पवन सूत

जरूर पढ़े :- दुनिया अजब अनोखी बाता

Nirguni Satguru Mahima Bhajan Lyrics

~ Satguru Taranhar Mugat Ke Data ~

Satguru Taranhar,
mugat ke data.
kar levo guru se het,
janam sukh pata.


agat me jata guru ,
gat me milave.
jab deve gyanari fukh,
ajab rang lave.
sancha sabad sunay,
vachan farmata.
kar levo guru se het,
janama sukh pata.


guru bina suna desh,
suni sab kaya.
bin guru andha jan ,
jagat bisaraya.
guru bin ghor andher,
gyan nhi aata.
kar levo guru se het,
janama sukh pata.


chit me chetan hoy,
gura ne dhyave.
guru karde beda par,
ram su milave.
guru chetan ke charna may,
roshan gurgata.
kar levo guru se het,
janama sukh pata.


जरूर पढ़े :- गुरु शब्दा रो जीके लागो झटको

जरूर पढ़े :- साधो भाई सतगुरु तार लियो

निर्गुणी सतगुरु महिमा भजन लिरिक्स

~ सतगुरु तारणहार मुगत के दाता ~

सतगुरु तारणहार ,मुगत के दाता।
कर लेवो गुरु से हेत,जनम सुख पाता।

अगत में जाता गुरू, गत में मिलावे।
जब देवे ज्ञानरी फुख, अजब रंग लावे।
साँचा शब्द सुनाय, वचन फरमाता।
कर लेवो गुरु से हेत, जनम सुख पाता। टेर। ..

गुरु बिना सुना देश , सुनी सब काया।
बिन गुरु अन्धा जाण , जगत बिसराया।
गुरु बिन घोर अंधेर , ज्ञान नहीं आता।
कर लेवो गुरु से हेत, जनम सुख पाता। टेर। ..

चित में चेतन होय , गुरा ने ध्यावे।
गुरु करदे बेडा पार , राम सु मिलावे।
गुरु चेतन के चरणा माय , रोशन गुणगाता।
कर लेवो गुरु से हेत, जनम सुख पाता। टेर। ..

भजन :- सतगुरु तारणहार मुगत के दाता
लेबल :- राजस्थानी भजन लिरिक्स

जरूर पढ़े :- मारे गुरुदेव घर आया जी

जरूर पढ़े :- साधु भाई ऐसा अण घड ध्याया 

पिछला लेखमाने दर्शन दो महावीर पवन सूत अंजनी के लाला भजन लिरिक्स | Maane Darshan Do Mahaveer Pavan Sut Anjani Ke Lala Bhajan Lyrics
अगला लेखनर क्या करता क्या करता भजन लिरिक्स | Nar Kya Karta Kya Karta Bhajan Lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

15 − four =