साधो भाई जाग्रत बड़ा झबाका भजन लिरिक्स | Sadho Bhai Jagrat Bada Jhabaka Bhajan Lyrics

541

साधो भाई जाग्रत बड़ा झबाका भजन लिरिक्स

साधो भाई जाग्रत बड़ा झबाका भजन लिरिक्स, Sadho Bhai Jagrat Bada Jhabaka Desi Nirguni bhajan Lyrics

।। दोहा ।।
ज्ञान रतन का जतन कर, माटी का संसार ।
हाय कबीरा फिर गया, फीका है संसार ।


~ जाग्रत बड़ा झबाका ~

है अमर कबहुँ नहीं मरता ,
उनका नूर खुदा का।
साधो भाई जाग्रत बड़ा झबाका।


चार अवस्था जाग्रत का वासा ,
रोक्या बिरले नाका।
उपत खुपत ले चढ़ो पूरब ने ,
जा का वाद अथाका।
साधो भाई जाग्रत बड़ा झबाका। टेर। …


तीन लोक शक्ति का वासा ,
चौथा पद में थाका।
सोलह खण्ड में ठोकर मारु ,
पार ब्रह्मा की साका।
साधो भाई जाग्रत बड़ा झबाका। टेर। …


आदू शक्ति घर की दासी ,
काम करे गुरा का।
रहणी करणी घट में घरणी ,
करती खूब मजाका।
साधो भाई जाग्रत बड़ा झबाका। टेर। …


भणिया पंडित वेद न जाणे ,
कल्पना री राड मनाका।
भोली दुनिया देवे हँकारा ,
काशी का पंडित थाका।
साधो भाई जाग्रत बड़ा झबाका। टेर। …


ज्ञान नदी चले घट भीतर ,
देखो उनका झंडाका।
जे कोई साधो मिले विवेकी ,
खोजत ज्ञान घरा का।
साधो भाई जाग्रत बड़ा झबाका। टेर। …


जरूर पढ़े :- साधो भाई वे रावल मस्ताना

जरूर पढ़े :- यह जग दूषित काहे दिठा 

Desi Nirguni bhajan Lyrics

~ Sadho Bhai Jagrat Bada Jhabaka ~

hai amar kabahu nhi marta,
unka nur khuda ka.
sadho bhai jagrat bada jhabaka.


char avastha jagrat ka vasa,
rokya birle naka.
upat khupat le chadho purab ne,
ja ka vaad athaka.
sadho bhai jagrat bada jhabaka.


teen lok shakti ka vasa,
chotha pad me thaka.
solah khand me thokar maru,
par brahma ki saka.
sadho bhai jagrat bada jhabaka.


aadu shakti ghar ki dasi,
kam kare gura ka.
rahani karani ghat me gharni,
karati khub majaka.
sadho bhai jagrat bada jhabaka.


bhaniya pandit ved na jane,
kalpna ri rad manaka.
bholi duniya deve hankara,
kashi ka pandit thaka.
sadhu bhai jagrat bada jhabaka.


gyan nahi chale ghat bhitar,
dekho unka jhandaka.
je koi sadho mile viveki,
khojata gyan ghara ka.
sadhu bhai jagrat bada jhabaka.


जरूर पढ़े :- साधु भाई मरियो मौज करे

जरूर पढ़े :- साधु भाई गुरुगम पेड़ो न्यारो

मारवाड़ी देसी निर्गुणी भजन लिरिक्स

~ साधो भाई जाग्रत बड़ा झबाका ~

है अमर कबहुँ नहीं मरता ,उनका नूर खुदा का।
साधो भाई जाग्रत बड़ा झबाका।

चार अवस्था जाग्रत का वासा ,रोक्या बिरले नाका।
उपत खुपत ले चढ़ो पूरब ने ,जा का वाद अथाका।
साधो भाई जाग्रत बड़ा झबाका। टेर। …

तीन लोक शक्ति का वासा ,चौथा पद में थाका।
सोलह खण्ड में ठोकर मारु ,पार ब्रह्मा की साका।
साधो भाई जाग्रत बड़ा झबाका। टेर। …

आदू शक्ति घर की दासी ,काम करे गुरा का।
रहणी करणी घट में घरणी ,करती खूब मजाका।
साधो भाई जाग्रत बड़ा झबाका। टेर। …

भणिया पंडित वेद न जाणे ,कल्पना री राड मनाका।
भोली दुनिया देवे हँकारा ,काशी का पंडित थाका।
साधो भाई जाग्रत बड़ा झबाका। टेर। …

ज्ञान नदी चले घट भीतर ,देखो उनका झंडाका।
जे कोई साधो मिले विवेकी ,खोजत ज्ञान घरा का।
साधो भाई जाग्रत बड़ा झबाका। टेर। …

Bhagirath Ji Shahpura Ke Bhajan

भजन :- साधो भाई जाग्रत बड़ा झबाका
गायक :- भागीरथ जी शाहपुरा
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़े :- साधु भाई धरु ध्यान अब कैसा

जरूर पढ़े :- क्यों बन रहा तू जीव भिखारी

पिछला लेखसाधो भाई वे रावल मस्ताना भजन लिरिक्स | Sadho Bhai Ve Rawal Mastana Bhajan Lyrics
अगला लेखसाधु भाई ऐसा अण घड ध्याया भजन लिरिक्स | Sadhu Bhai Aisa An Ghad Dhyaya Bhajan Lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

5 + six =