फकीरी शूरा ने गम होय भजन लिरिक्स | Fakiri Sura Ne Gum Hoy Bhajan Lyrics

129

फकीरी शूरा ने गम होय भजन लिरिक्स

फकीरी शूरा ने गम होय भजन लिरिक्स, Fakiri Sura Ne Gum Hoy Fakiri Bhajan Lyrics

।। दोहा ।।
संगती कीजे संत की, क्या नुगरा से काम।
नुगरा ले जावे नारगी, और संत मिलावे राम।


~ फकीरी सूरा ने गम होय ~

कायर का काचा मता कहिये ,
देवे पलक में रोय।
फकीरी सूरा ने गम होय।


फक्कड़ होय फिकर सब त्यागो ,
देवो वासना खोय।
आशा तृष्णा तुरंत मिटायो ,
में तू राखो मत दोय।
फकीरी सूरा ने गम होय। टेर। …..


पांच पच्चीस पकड़ बस किना ,
छूट सके नहीं कोय।
मन को मार किना सुरंगा ,
ब्रह्मा स्वरूपी होय।
फकीरी सूरा ने गम होय। टेर। …..


जैसे फक्कड़ रहवे बिना परवाह ,
नाम दीवाना होय।
होय निशंक फिरे इस जग में ,
जग की आश न कोय।
फकीरी सूरा ने गम होय। टेर। …..


कर हांड़ी गले गुदड़ी ,
और पास नहीं कोय।
जिनकी मौज रेहवे बस्ती में ,
चाहे जाय जंगल में सोय।
फकीरी सूरा ने गम होय। टेर। …..


लक्मण गिरी मिल्या गुरु पूरा ,
प्याला पाया मोय।
मंगलगिरि गूदड़ बोले ,
नमो नमो गुरु तोय।
फकीरी सूरा ने गम होय। टेर। …..


कायर का काचा मता कहिये ,
देवे पलक में रोय।
फकीरी सूरा ने गम होय।


जरूर पढ़े :- हेली ये मान वचन सत मेरो

जरूर पढ़े :- आनंद उण देश रो जोगिया

Rajasthani Desi Fakiri Bhajan Lyrics

~ Fakiri Sura Ne Gum Hoy ~

kayar ka kacha mata kahiye,
deve palak me roy.
fakiri sura ne gam hoy.


fakkad hoy fikar sab tyago,
devo vasna khoy.
aasha trishna turant mitayo,
me tu rakho mat doy.
fakiri sura ne gam hoy.


Panch pachchis pakad bas kina,
chhut sake nhi koy.
man ko maar kina suranga,
brahma swarupi hoy.
fakiri sura ne gam hoy.


jaise fakkad rahave bina parvah,
naam diwana hoy.
hoy nishank fire is jag me,
jag ki aash n koy.
fakiri sura ne gam hoy.


kar handi gale gudadi,
or paas nhi koy.
jinki moj rahave basti me,
chahe jay jangal me soy.
fakiri sura ne gam hoy.


laxman giri milya guru pura,
pyala paya moy.
mangalgiri gudad bole,
namo namo guru toy.
fakiri sura ne gam hoy.


जरूर पढ़े :- चालो रे उण देश में रे जोगिया

जरूर पढ़े :- सजन म्हारा घर आवो मेहमान

देसी फकीरी भजन लिरिक्स

~ फकीरी शूरा ने गम होय ~

कायर का काचा मता कहिये ,देवे पलक में रोय।
फकीरी सूरा ने गम होय।

फक्कड़ होय फिकर सब त्यागो ,देवो वासना खोय।
आशा तृष्णा तुरंत मिटायो ,में तू राखो मत दोय।
फकीरी सूरा ने गम होय। टेर। …..

पांच पच्चीस पकड़ बस किना ,छूट सके नहीं कोय।
मन को मार किना सुरंगा ,ब्रह्मा स्वरूपी होय।
फकीरी सूरा ने गम होय। टेर। …..

जैसे फक्कड़ रहवे बिना परवाह ,नाम दीवाना होय।
होय निशंक फिरे इस जग में ,जग की आश न कोय।
फकीरी सूरा ने गम होय। टेर। …..

कर हांड़ी गले गुदड़ी ,और पास नहीं कोय।
जिनकी मौज रेहवे बस्ती में ,चाहे जाय जंगल में सोय।
फकीरी सूरा ने गम होय। टेर। …..

लक्मण गिरी मिल्या गुरु पूरा ,प्याला पाया मोय।
मंगलगिरि गूदड़ बोले ,नमो नमो गुरु तोय।
फकीरी सूरा ने गम होय। टेर। …..

कायर का काचा मता कहिये ,देवे पलक में रोय।
फकीरी सूरा ने गम होय।

om vaishnav ke bhajan

भजन :- फकीरी सूरा ने गम होय
गायक :- ओम वैष्णव
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़े :- पियाजी रही रात दिन रोय 

जरूर पढ़े :- पियाजी लागा हे शब्दो रा बाण

पिछला लेखहेली ये मान वचन सत मेरो भजन लिरिक्स | Heli Ye Man Vachan Sat Mero Bhajan Lyrics
अगला लेखफकीरी रण में हो होशियार भजन लिरिक्स | Fakiri Ran Me Ho Hoshiyar Bhajan Lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

2 × 3 =