साधु भाई सतगुरु सेन बताई भजन लिरिक्स | Sadhu Bhai Satguru Sen Batai Bhajan Lyrics

1433

साधु भाई सतगुरु सेन बताई भजन लिरिक्स

साधु भाई सतगुरु सेन बताई भजन लिरिक्स, Sadhu Bhai Satguru Sen Batai nirguni bhajan lyrics

।। दोहा ।।
गुरु आज्ञा मानै नहीं, चलै अटपटी चाल।
लोक वेद दोनों गए, आए सिर पर काल॥


~ सतगुरु सेन बताई ~

जनम जनम की मेटि कल्पना ,
जीवत मुक्ति पाई।
साधु भाई सतगुरु सेन बताई।


सत्त चित्त आनंद रूप है तेरा ,
ऐसी वाणी सुनाई।
सत्त सब्दा री करले ओलखाई ,
सारा ही सुख मिटाई।
साधु भाई सतगुरु सेन बताई। टेर। …


हे तू आतम अटल अविनाशी ,
निर्भय रूप है ताई।
जनम मरण से है तू न्यारा ,
जिव रूप तू नाई।
साधु भाई सतगुरु सेन बताई। टेर। …


सुनता शब्द हुआ मरजीवा ,
संशय रहा न काई।
कर्म भरम का सांसा मिटया ,
आनंद रूप समाई।
साधु भाई सतगुरु सेन बताई। टेर। …


गणपतरामजी सतगुरु देवा ,
साँची सेन लखाई।
बाबूराम लो निश्चय किना ,
फिर जन्म नहीं आई।
साधु भाई सतगुरु सेन बताई। टेर। …


जरूर देखे :- अब हम गुरु गम आतम चिना

जरूर देखे :- साधु भाई सतगुरु भेद बताया

nirguni bhajan lyrics in hindi

~ Sadhu Bhai Satguru Sen Batai ~

janam janam ki meti kalpna,
jivat mukti paai.
sadhu bhai satguru sen batai.


sat chit aanand rup hai tera,
aisi vani sunai.
sat shabada ri karle olkhai.
sara hi sukh mitai.
sadhu bhai satguru sen batai.


hai tu aatam atal avinashi,
nirbhay rup hai taai.
janam maran se hai tu nyara,
jiv rup tu naai.
sadhu bhai satguru sen batai.


sunta shabad hua marjiva,
shanshay raha ne kaai.
karm bharam ka sansa mitya,
aanand rup samai.
sadho bhai satguru sen batai.


ganpatram ji satguru deva,
sanchi sen lakhai.
baburam lo nishchay kina,
fir janam nhi aai.
sadho bhai satguru sen batai.


जरूर देखे :- साधु भाई खेलो गुरु गम ऐड़ो

जरूर देखे :- साधु भाई इस विध सन्त चढ़ेलो

चेतावनी निर्गुणी भजन लिरिक्स

~ साधु भाई सतगुरु सेन बताई ~

जनम जनम की मेटि कल्पना ,जीवत मुक्ति पाई।
साधु भाई सतगुरु सेन बताई।

सत्त चित्त आनंद रूप है तेरा ,ऐसी वाणी सुनाई।
सत्त सब्दा री करले ओलखाई ,सारा ही सुख मिटाई।
साधु भाई सतगुरु सेन बताई। टेर। …

हे तू आतम अटल अविनाशी ,निर्भय रूप है ताई।
जनम मरण से है तू न्यारा ,जिव रूप तू नाई।
साधु भाई सतगुरु सेन बताई। टेर। …

सुनता शब्द हुआ मरजीवा ,संशय रहा न काई।
कर्म भरम का सांसा मिटया ,आनंद रूप समाई।
साधु भाई सतगुरु सेन बताई। टेर। …

गणपतरामजी सतगुरु देवा ,साँची सेन लखाई।
बाबूराम लो निश्चय किना ,फिर जन्म नहीं आई।
साधु भाई सतगुरु सेन बताई। टेर। …

champa lal prajapat bhajan

भजन :- सतगुरु सेन बताई
गायक :- चंपा लाल प्रजापत
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर देखे :- अवधू ऐसा जोग कमाया

जरूर देखे :- आज हमारो मन घूमे वैरागी

पिछला लेखअब हम गुरु गम आतम चिना भजन लिरिक्स | Ab Hum Guru Gam Aatam China Bhajan Lyrics
अगला लेखचेतन अखण्ड अपारा भजन लिरिक्स | Chetan Akhand Apara Bhajan Lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

seventeen − 8 =