अब हम गुरु गम आतम चिना भजन लिरिक्स | Ab Hum Guru Gam Aatam China Bhajan Lyrics

725

अब हम गुरु गम आतम चिना भजन लिरिक्स

अब हम गुरु गम आतम चिना भजन लिरिक्स, Ab Hum Guru Gam Aatam China desi chetawani nirguni bhajan Lyrics

।। दोहा ।।
गुरु मूरति गति चंद्रमा, सेवक नैन चकोर।
आठ पहर निरखत रहे, गुरु मूरति की ओर॥


~ गुरु गम आतम चीना ~

आवु न जाऊ मरू न जन्मु ,
ऐसा निश्चय किना।
अब हम गुरु गम आतम चीना।


भेगलिया जब सुख दुःख त्यागा ,
राम रंग भीना।
घट घट में सायब सा जणिया ,
दुर्मति दुरी किना।
अब हम गुरु गम आतम चीना। टेर। …


भेग फकीरी सब कोई लेवे ,
ज्ञान फकीरी पद जीना।
जिनके शब्द लगा सतगुरु का ,
शीश उतार धर दीना।
अब हम गुरु गम आतम चीना। टेर। …


मरजीवा होय जगत में बिसरू ,
सवाल करू न कीन्हा।
जिनकी कला सकल में बरते ,
सो सायब हम लीना।
अब हम गुरु गम आतम चीना। टेर। …


फेरी नहीं फिरता मांग नहीं खाता ,
ऐसा निर्भय किना।
अजगर इधर उधर नहीं डोले ,
चुन हरी लिख दीना।
अब हम गुरु गम आतम चीना। टेर। …


भक्ति का नेन ज्ञान का दर्पण ,
स्वी वैराग मिल तीना।
धनसुखराम आतम मुख दरसे ,
लखे संत परवीना।
अब हम गुरु गम आतम चीना। टेर। …


जरूर देखे :- साधु भाई सतगुरु भेद बताया

जरूर देखे :- साधु भाई खेलो गुरु गम ऐड़ो

desi chetawani nirguni bhajan Lyrics

~ Ab Hum Guru Gam Aatam China ~

aavu ne jau maru ne janmu,
aisa nishchay kina.
ab ham guru gam aatam china.


bhegaliya jab sukh dukh tyaga,
ram rang bhina.
ghat ghat me sayab sa janiya,
durmati duri kina.
ab ham guru gam aatam china.


bheg fakiri sab koi leve,
gyan fakiri pad jina.
jinke shabad laga satguru ka,
shish utar dhar dina.
ab ham guru gam aatam china.


mar jiva hoy jagat me bisaru,
sawal karu ne kinha.
jinki kala sakal me barte,
so sayab ham lina.
ab ham guru gam aatam china.


feri nhi firta mang nhi khata,
aisa nirbhay kina.
ajagar idhar udhar nhi dole,
chun hari likh dina.
ab ham guru gam aatam china.


bhakti ka nen gyan ka darpan,
swi vairag mil teena.
dhansukhram aatam mukh darse,
lakhe sant parvina.
ab ham guru gam aatam china.


जरूर देखे :- साधु भाई इस विध सन्त चढ़ेलो

जरूर देखे :- अवधू ऐसा जोग कमाया

पुराने देसी निर्गुणी भजन लिरिक्स

~ अब हम गुरु गम आतम चिना ~

आवु न जाऊ मरू न जन्मु ,ऐसा निश्चय किना।
अब हम गुरु गम आतम चीना।

भेगलिया जब सुख दुःख त्यागा ,राम रंग भीना।
घट घट में सायब सा जणिया ,दुर्मति दुरी किना।
अब हम गुरु गम आतम चीना। टेर। …

भेग फकीरी सब कोई लेवे ,ज्ञान फकीरी पद जीना।
जिनके शब्द लगा सतगुरु का ,शीश उतार धर दीना।
अब हम गुरु गम आतम चीना। टेर। …

मरजीवा होय जगत में बिसरू ,सवाल करू न कीन्हा।
जिनकी कला सकल में बरते ,सो सायब हम लीना।
अब हम गुरु गम आतम चीना। टेर। …

फेरी नहीं फिरता मांग नहीं खाता ,ऐसा निर्भय किना।
अजगर इधर उधर नहीं डोले ,चुन हरी लिख दीना।
अब हम गुरु गम आतम चीना। टेर। …

भक्ति का नेन ज्ञान का दर्पण ,स्वी वैराग मिल तीना।
धनसुखराम आतम मुख दरसे ,लखे संत परवीना।
अब हम गुरु गम आतम चीना। टेर। …

prem nath degana bhajan

भजन :- गुरु गम आतम चीना
गायक :- प्रेम नाथ डेगाना
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर देखे :- आज हमारो मन घूमे वैरागी

जरूर देखे :- गाड़ी मारी सीधी अमरापुर जाई

पिछला लेखसाधु भाई सतगुरु भेद बताया भजन लिरिक्स | Sadhu Bhai Satguru Bhed Bataya Bhajan Lyrics
अगला लेखसाधु भाई सतगुरु सेन बताई भजन लिरिक्स | Sadhu Bhai Satguru Sen Batai Bhajan Lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

four × 2 =