मनवा चेतन रहो मेरा भाई भजन लिरिक्स | Manva chetan Raho Mera Bhai Bhajan Lyrics

793

मनवा चेतन रहो मेरा भाई भजन लिरिक्स

मनवा चेतन रहो मेरा भाई भजन लिरिक्स, Manva chetan Raho Mera Bhai marwadi desi nirguni bhajan lyrics

।। दोहा ।।
कबीर माया मोहिनी, जैसी मीठी खांड।
सतगुरु की किरपा भई, नहीं तौ करती भांड॥


~ मनवा चेतन रहो मेरा भाई ~

सतगुरु मुझ पर मेहर करी जद ,
सूरत लहर में आई।
मनवा चेतन रहो मेरा भाई।


लागा प्रेम उलट गई अण में ,
घट भीतर गुण गाई।
दुविधा दुर्मत दूर करी जद ,
राम भजन लिव आई।
मनवा चेतन रहो मेरा भाई। टेर। ..


मन ने मार करो मूसाला ,
तन री तपत बुझाई।
पांचो पकड़ एकण घर लावो ,
थारा किया कर्म कट जाई।
मनवा चेतन रहो मेरा भाई। टेर। ..


भीतर बैठो बाहर बोले ,
ज्यारी खरी खबर लो भाई।
बोलता पुरुष री करो खोजना ,
बाहर है या माही।
मनवा चेतन रहो मेरा भाई। टेर। ..


अमर अखाड़ों सतगुरुजी री गादी ,
ता में शरण रहो मेरा भाई।
कह लिखमो सतगुरुजी शरणे ,
मारे अमर झड़ी हाथ आई।
मनवा चेतन रहो मेरा भाई। टेर। ..


जरूर देखे :- हंसला चेत चलो मेरा भाई

जरूर देखे :- साधु भाई ऐवी होली मनाई

marwadi desi nirguni bhajan lyrics

~ Manva chetan Raho Mera Bhai ~

satguru mujh par mehar kari jad,
surat lahar me aai.
manva chetan raho mera bhai.


laga prem ulat gai an me,
ghat bhitar gun gai.
duvidha durmat dur kari jad,
ram bhajan liv aai.
manva chetan raho mera bhai.


man ne mar karo musala,
tan ri tapat bujhai.
pancho pakad akan ghar lavo,
thara kiya karm kat jaai.
manva chetan raho mera bhai.


bhitar baitho bahar bole,
jyari khari khabar lo bhai.
bolta purush ri karo khojna,
bahar hai ya mahi.
manava chetan raho mera bhai.


amar akhado satguruji ri gadi,
ta me sharan raho mera bhai.
kah likhmo satguruji sharne,
mare amar jhadi hath aai.
manava chetan raho mera bhai.


जरूर देखे :- संता केवु भजन वालो खाको

जरूर देखे :- भक्ति भगवत ने है प्यारी

पुराने देसी निर्गुणी भजन लिरिक्स

~ मनवा चेतन रहो मेरा भाई ~

सतगुरु मुझ पर मेहर करी जद ,सूरत लहर में आई।
मनवा चेतन रहो मेरा भाई।

लागा प्रेम उलट गई अण में ,घट भीतर गुण गाई।
दुविधा दुर्मत दूर करी जद ,राम भजन लिव आई।
मनवा चेतन रहो मेरा भाई। टेर। ..

मन ने मार करो मूसाला ,तन री तपत बुझाई।
पांचो पकड़ एकण घर लावो ,थारा किया कर्म कट जाई।
मनवा चेतन रहो मेरा भाई। टेर। ..

भीतर बैठो बाहर बोले ,ज्यारी खरी खबर लो भाई।
बोलता पुरुष री करो खोजना ,बाहर है या माही।
मनवा चेतन रहो मेरा भाई। टेर। ..

अमर अखाड़ों सतगुरुजी री गादी ,ता में शरण रहो मेरा भाई।
कह लिखमो सतगुरुजी शरणे ,मारे अमर झड़ी हाथ आई।
मनवा चेतन रहो मेरा भाई। टेर। ..

भजन :- मनवा चेतन रहो मेरा भाई
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर देखे :- अब हम सत्संग की गम जानी

जरूर देखे :- भक्ति को बाग़ लगाओ

पिछला लेखहंसला चेत चलो मेरा भाई भजन लिरिक्स | Hansala Chet chalo Mera Bhai Bhajan Lyrics
अगला लेखऐसा मेरा सतगुरु खेल रचाया भजन लिरिक्स | Aisa Mera Satguru Khel Rachaya Bhajan Lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

one × four =