साधु भाई ऐवी होली मनाई भजन लिरिक्स | Sadhu Bhai Aivi Holi Manai Bhajan Lyrics

206

साधु भाई ऐवी होली मनाई भजन लिरिक्स

साधु भाई ऐवी होली मनाई भजन लिरिक्स, Sadhu Bhai Aivi Holi Manai nirguni bhajan lyrics

।। दोहा ।।
गुरु बिन माला फेरते, गुरु बिन देते दान।
गुरु बिन सब निष्फल गया, पूछौ वेद पुरान॥


~ ऐवी होली मनाई ~

काम क्रोध रा कांटा जलाया ,
विरह अगनि जलाई।
साधु भाई ऐवी होली मनाई।


गुरुगम गैर हिरदा में मांडी ,
शब्दा रो ढोल बजाई।
सत्य शब्दा रा कनिया लीना ,
सोऽहं धुन बजाई।
साधु भाई ऐवी होली मनाई। टेर। ..


मान बढ़ाई छोड़ परेरी ,
प्रेम री रंग लगाई।
अणभे लेहर उठी हिरदा में ,
आनन्द रूप समाई।
साधु भाई ऐवी होली मनाई। टेर। ..


बल जल कांटा हुआ सफाया ,
निश्चय भया मन माई।
ब्रह्मास्वरूपी गुलाल उडी है ,
द्वैत नजर नहीं आई।
साधु भाई ऐवी होली मनाई। टेर। ..


देवाराम सतगुरु मिलिया ,
होली रूप समझाई।
गणपतराम तो होली रमिया ,
रंग में रंग मिलाई।
साधु भाई ऐवी होली मनाई। टेर। ..


जरूर देखे :- संता केवु भजन वालो खाको

जरूर देखे :- भक्ति भगवत ने है प्यारी

nirguni bhajan lyrics in hindi

~ Sadhu Bhai Aivi Holi Manai ~

Kaam krodh ra kanta jalaya,
virah agani jalai.
sadhu bhai aivi holi manai.


gurugam gair hirda me mandi,
shabada ro dhol bajai.
satye shabada ra kaniya lina,
soham dhun bajai.
sadhu bhai aivi holi manai.


maan badhai chod pareri,
prem ri rang lagai.
anbhe lehar uthi hirda me,
aanand rup samai.
sadhu bhai aivi holi manai.


bal jal kanta hua safaya,
nishchay bhaya man mai.
brahmarupi gulal udi hai,
dwet najar nhi aai.
sadho bhai aivi holi manai.


Devaram satguru miliya,
holi rup samjhai.
ganpatram to holi ramiya,
rang me rang milai.
sadho bhai aivi holi manai.


जरूर देखे :- अब हम सत्संग की गम जानी

जरूर देखे :-  भक्ति को बाग़ लगाओ

निर्गुणी भजन लिरिक्स इन हिंदी

~ साधु भाई ऐवी होली मनाई ~

काम क्रोध रा कांटा जलाया ,विरह अगनि जलाई।
साधु भाई ऐवी होली मनाई।

गुरुगम गैर हिरदा में मांडी ,शब्दा रो ढोल बजाई।
सत्य शब्दा रा कनिया लीना ,सोऽहं धुन बजाई।
साधु भाई ऐवी होली मनाई। टेर। ..

मान बढ़ाई छोड़ परेरी ,प्रेम री रंग लगाई।
अणभे लेहर उठी हिरदा में ,आनन्द रूप समाई।
साधु भाई ऐवी होली मनाई। टेर। ..

बल जल कांटा हुआ सफाया ,निश्चय भया मन माई।
ब्रह्मास्वरूपी गुलाल उडी है ,द्वैत नजर नहीं आई।
साधु भाई ऐवी होली मनाई। टेर। ..

देवाराम सतगुरु मिलिया ,होली रूप समझाई।
गणपतराम तो होली रमिया ,रंग में रंग मिलाई।
साधु भाई ऐवी होली मनाई। टेर। ..

भजन :- साधु भाई ऐवी होली मनाई
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर देखे :- साधु भाई सतसंग अमृत धारा

जरूर देखे :- साधो भाई सतसंग मोक्ष द्वारा 

पिछला लेखसंता केवु भजन वालो खाको भजन लिरिक्स | Santa Kevu Bhajan Wako Khako Bhajan Lyrics
अगला लेखहंसला चेत चलो मेरा भाई भजन लिरिक्स | Hansala Chet chalo Mera Bhai Bhajan Lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

four × three =