संता केवु भजन वालो खाको भजन लिरिक्स | Santa Kevu Bhajan Wako Khako Bhajan Lyrics

339

संता केवु भजन वालो खाको भजन लिरिक्स

संता केवु भजन वालो खाको भजन लिरिक्स, Santa Kevu Bhajan Wako Khako nirguni bhajan lyrics

।। दोहा ।।
गुरु मूरति गति चंद्रमा, सेवक नैन चकोर।
आठ पहर निरखत रहे, गुरु मूरति की ओर॥


~ केवु भजन वालो खाको ~

वाणी गावे अर्थ नहीं जाणे ,
वीरता फाडे बाको।
संता केवु भजन वालो खाको।


वाणी गावे रेहणी नहीं रेवे ,
बतावे दोष गुरा को।
बिछुड़े का जाप नहीं जाणे ,
होड़ करे सांपो को।
संता केवु भजन वालो खाको। टेर। ..


गुरु शब्द पर चाले नहीं ,
पाप अनेक जन्मो को।
अहम पने में डुबो रेवे ,
खावे मार जमा को।
संता केवु भजन वालो खाको। टेर। ..


नशे पते में घणो भाई राजी ,
भेद नहीं जाणे सत्संग को।
मेरे गुरु की निंदा करे ,
बालो मुण्डो बाको।
संता केवु भजन वालो खाको। टेर। ..


सत शब्द रा श्रवण करता ,
निश्चय कर लिया पाको।
भलाराम गणपतजी का चेला ,
सत्संग मेंदे धडाको।
संता केवु भजन वालो खाको। टेर। ..


जरूर देखे :- भक्ति भगवत ने है प्यारी 

जरूर देखे :- अब हम सत्संग की गम जानी

nirguni bhajan lyrics in hindi

~ Santa Kevu Bhajan Wako Khako ~

vani gave arth nhi jane,
virtha fade bako.
santa kevu bhajan walo khako.


vani gave rehani nhi reve,
batave dosh gura ko.
bichude ka jap nhi jane,
hod kare sanpo ko.
santa kevu bhajan walo khako.


guru shabad par chale nhi,
pap anek janmo ko.
aham pane me dubo reve,
khave maar jama ko.
santa kevu bhajan walo khako.


nashe pate me ghano bhai raji,
bhed nhi jane satsang ko.
mere guru ki ninda kare,
balo mundo bako.
santa kewu bhajan walo khako.


sat shabad ra sharvan karta,
nishchay kar liya pako.
bhalaram ganpatji ka chela,
satsang mende dhadako.
santa kewu bhajan walo khako.


जरूर देखे :- भक्ति को बाग़ लगाओ

जरूर देखे :- साधु भाई सत्संग बाग लगाया

पुराने देसी निर्गुणी भजन लिरिक्स

~ संता केवु भजन वालो खाको ~

वाणी गावे अर्थ नहीं जाणे ,वीरता फाडे बाको।
संता केवु भजन वालो खाको।

वाणी गावे रेहणी नहीं रेवे ,बतावे दोष गुरा को।
बिछुड़े का जाप नहीं जाणे ,होड़ करे सांपो को।
संता केवु भजन वालो खाको। टेर। ..

गुरु शब्द पर चाले नहीं ,पाप अनेक जन्मो को।
अहम पने में डुबो रेवे ,खावे मार जमा को।
संता केवु भजन वालो खाको। टेर। ..

नशे पते में घणो भाई राजी ,भेद नहीं जाणे सत्संग को।
मेरे गुरु की निंदा करे ,बालो मुण्डो बाको।
संता केवु भजन वालो खाको। टेर। ..

सत शब्द रा श्रवण करता ,निश्चय कर लिया पाको।
भलाराम गणपतजी का चेला ,सत्संग मेंदे धडाको।
संता केवु भजन वालो खाको। टेर। ..

भजन :- केवु भजन वालो खाको
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर देखे :- साधु भाई सतसंग अमृत धारा

जरूर देखे :- साधो भाई सतसंग मोक्ष द्वारा

पिछला लेखभक्ति भगवत ने है प्यारी भजन लिरिक्स | Bhakti Bhagwat Ne Hai Pyari Bhajan Lyrics
अगला लेखसाधु भाई ऐवी होली मनाई भजन लिरिक्स | Sadhu Bhai Aivi Holi Manai Bhajan Lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

8 − three =