साधो भाई सतसंग मोक्ष द्वारा भजन लिरिक्स | Sadhu Bhai Satsang Moksh Dwara Bhajan Lyrics

549

साधो भाई सतसंग मोक्ष द्वारा भजन लिरिक्स

साधो भाई सतसंग मोक्ष द्वारा भजन लिरिक्स, Sadhu Bhai Satsang Moksh Dwara satguru nirguni bhajan lyrics

।। दोहा ।।
गुरु बिन ज्ञान न उपजै, गुरु बिन मिलै न मोष।
गुरु बिन लखै न सत्य को, गुरु बिन मिटै न दोष॥


~ सतसंग मोक्ष द्वारा ~

जो कोई आवे इण सत री संगत में ,
सोऽहं होवे विचारा।
साधो भाई सतसंग मोक्ष द्वारा।


सत री संगत है सत की सीढ़ी ,
पावे ज्ञान अपारा।
आवरण अज्ञान मिटे हिरदा का ,
सोह करे पुकारा।
साधो भाई सतसंग मोक्ष द्वारा। टेर। …


सत री संगत में मोती निपजे ,
अमोलक जुहारा।
हंसा मोती चुगता ,
घट में होत उजारा।
साधो भाई सतसंग मोक्ष द्वारा। टेर। …


आना जाना मिटे जिव का ,
मिटे काल का पसारा।
अपने आप में निर्भय रहता ,
मिटे द्वैत विकारा।
साधो भाई सतसंग मोक्ष द्वारा। टेर। …


गणपतराम सतगुरु मिलिया ,
सत्य शब्द गुजारा।
मिसराराम तो अणभे किना ,
जग में रेवू निराधारा।
साधो भाई सतसंग मोक्ष द्वारा। टेर। …


जरूर देखे :- काई थारे पग मे काटो भागियो

जरूर देखे :- आजा तेजल आजा गौ माता रा राजा

satguru nirguni bhajan lyrics

~ Sadhu Bhai Satsang Moksh Dwara ~

Jo koi aave in sat ri sangat me,
soham hove vichara.
sadhu bhai satsang moksh dwara.


Sat ri sangat hai sat ki sidhi,
pave gyan apara.
aavaran agayn mite hirda ka,
soh kare pukara.
sadhu bhai satsang moksh dwara.


sat ri sagnat me moti nipje,
amolak juhara.
hansa moti chugta,
ghat me hot ujara.
sadhu bhai satsang moksh dwara.


aana jana mite jiv ka,
mite kal ka pasara.
apne aap me nirbhay rahta,
mite dwet vikara.
sadho bhai satsang moksh dwara.


ganpatram satguru miliya,
satye shabd gujara.
misraram to anbhe kina,
jag me revu niradhara.
sadho bhai satsang moksh dwara.


जरूर देखे :- साधो भाई सत्संग भाव समाई

जरूर देखे :- साधु भाई सतसंग सत जाणी 

सतगुरु महिमा निर्गुणी भजन लिरिक्स

~ साधो भाई सतसंग मोक्ष द्वारा ~

जो कोई आवे इण सत री संगत में ,सोऽहं होवे विचारा।
साधो भाई सतसंग मोक्ष द्वारा।

सत री संगत है सत की सीढ़ी ,पावे ज्ञान अपारा।
आवरण अज्ञान मिटे हिरदा का ,सोह करे पुकारा।
साधो भाई सतसंग मोक्ष द्वारा। टेर। …

सत री संगत में मोती निपजे ,अमोलक जुहारा।
हंसा मोती चुगता ,घट में होत उजारा।
साधो भाई सतसंग मोक्ष द्वारा। टेर। …

आना जाना मिटे जिव का ,मिटे काल का पसारा।
अपने आप में निर्भय रहता ,मिटे द्वैत विकारा।
साधो भाई सतसंग मोक्ष द्वारा। टेर। …

गणपतराम सतगुरु मिलिया ,सत्य शब्द गुजारा।
मिसराराम तो अणभे किना ,जग में रेवू निराधारा।
साधो भाई सतसंग मोक्ष द्वारा। टेर। …

भजन :- सतसंग मोक्ष द्वारा
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर देखे :- मन रे सत्संग आनंद पाई

जरूर देखे :- हरिजी म्हारी सुण लीजो अभिलाषा

पिछला लेखकाई थारे पग मे काटो भागियो भजन हिन्दी लिरिक्स | Kai Thare Pag Me Kato Bhagiyo Bhajan Lyrics
अगला लेखसाधु भाई सतसंग अमृत धारा भजन लिरिक्स | Sadhu bhai Satsang Amrit Dhara Bhajan Lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

two + twenty =