गुरु जम्भेश्वर जी की आरती लिरिक्स | Guru Jambheshwar Ji Ki Aarti Lyrics

1270

गुरु जम्भेश्वर जी की आरती लिरिक्स

गुरु जम्भेश्वर जी की आरती लिरिक्स, Guru Jambheshwar Ji Ki Aarti Lyrics aarti lyrics in hindi

~ गुरु जम्भेश्वर जी की आरती ~

आरती कीजे गुरु जम्भ जती की।
भगत उद्धारण प्राणपति की।


पहली आरती लोवट घर आये।
बिन बादल प्रभु इमिया झुराये।


दूसरी आरती पीपासर आये।
दुधे मेड़तिये ने परचो दिखाये।


तीसरी आरती समराथल आये।
फुला रे पंवार ने सूरज दिखाये।


चौथी आरती अनवी निवाए।
पहुंच लोक प्रभु पवित्र केवाए।


पाँचवी आरती उदो जन गावे।
सो ही गावे अमरा फल पावे।


जरूर देखे :- जाए वन में हरी ने कुटिया बनाई

जरूर देखे :- जागो रे बस्ती रा लोगो

aarti lyrics in hindi

~ Guru Jambheshwar Ji Ki Aarti ~

Aarti kije guru jambh jati ki.
bhagat udhdaran pranpati ki.


pahali aarti lovat ghar aaye.
bin badal prabhu imiya jhuraye.


dusri aarti pipasar aaye.
dudhe medtiye ne parcho dikhaye.


tisari aarti samrathal aaye.
fula re panvar ne suraj dikhaye.


chothi aarti anvi nivay.
pahuch lok prabhu pavitra kevay.


panchvi aarti udo jan gave.
so hi gave amra fal pave.


राजस्थानी आरतियां लिरिक्स

भजन :- गुरु जम्भेश्वर जी की आरती
गायक :- unknown
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर देखे :- जागो रे म्हारा छैल छोगाला

जरूर देखे :- मात यशोदा टेर लगावे 

पिछला लेखजाए वन में हरी ने कुटिया बनाई भजन लिरिक्स | Jaay Ban Me Hari Ne Kutiya Banai Bhajan Lyrics
अगला लेखनाथ निरंजन आरती साजै आरती लिरिक्स | Naath Nirajan Aarti Saje Aarti Lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

eleven − eight =