पियाजी रही रात दिन रोय भजन लिरिक्स | Piyaji Rahi Raat Din Roy bhajan Lyrics

211

पियाजी रही रात दिन रोय भजन लिरिक्स

पियाजी रही रात दिन रोय भजन लिरिक्स, Piyaji Rahi Raat Din Roy brahmani ke bhajan lyrics

।। दोहा ।।
सपने में साजन मिले, न सकी दो बात।
सोती थी रोती उठी, में रह गई मल मल हाथ।


~ पियाजी रही रात दिन रोय ~

दरशण री प्यास लगी मेरा मन में ,
मिलणा किस विध होय।
पियाजी रही रात दिन रोय।


बेदरदी तुझे दया न आवे ,
किस विध समझाऊ तोय।
विरहणी विचार कोयल ज्यू कूके ,
आप रया हो सोय।
पियाजी रही रात दिन रोय। टेर। ….


और तो मुखड़ा जल से धोवे ,
विरहणी आसु मुख धोय।
हरदम तपे आवाज ज्यू मेरी ,
बून्द पड़े सम होय।
पियाजी रही रात दिन रोय। टेर। ….


और तो बीती सो बीती ,
बाकी रह गई मोय।
तड़फ तड़फ कर कब तक तड्फु ,
प्राण देउला खोय।
पियाजी रही रात दिन रोय। टेर। ….


सायब कबीर करुणा के सागर ,
तुम करुणा निधि होय।
कहे कमाली मेरो कछु नहीं बिगड़े ,
लोग हँसेला तोय।
पियाजी रही रात दिन रोय। टेर। ….


जरूर देखे :- पियाजी लागा हे शब्दो रा बाण

जरूर देखे :-  फकीरी चालणो खाण्डा री धार

brahmani ke bhajan lyrics

~ Piyaji Rahi Raat Din Roy ~

darsahn ri pyas lagi mera man me,
milana kis vidh hoy.
piyaji rahi rat din roy.


bedradi tujhe daya n aave,
kis vidh samjhau toy.
virahani vichar koyal jyu kuke,
aap raya ho soy.
piyaji rahi rat din roy.


or to mukhda jal se dhove,
virahani aasu mukh dhoy.
hardam tape aavaj jyu meri,
bund pade sam hoy.
piyaji rahi rat din roy.


or to biti so biti,
baki rah gai moy.
tadaf tadaf kar kab tak tadfu,
pran deula khoy.
piyaji rahi rat din roy.


sayab kabir karuna ke sagar,
tum karuna nidhi hoy.
kahe kamali mero kachu nhi bigde,
log hansela toy.
piyaji rahi rat din roy.


जरूर देखे :- फकीरी कायर सु नहीं होय 

जरूर देखे :- फकीरी मन मारे सो ही शुर

ब्राह्मणी के भजन लिरिक्स

~ पियाजी रही रात दिन रोय ~

दरशण री प्यास लगी मेरा मन में ,मिलणा किस विध होय।
पियाजी रही रात दिन रोय।

बेदरदी तुझे दया न आवे ,किस विध समझाऊ तोय।
विरहणी विचार कोयल ज्यू कूके ,आप रया हो सोय।
पियाजी रही रात दिन रोय। टेर। ….

और तो मुखड़ा जल से धोवे ,विरहणी आसु मुख धोय।
हरदम तपे आवाज ज्यू मेरी ,बून्द पड़े सम होय।
पियाजी रही रात दिन रोय। टेर। ….

और तो बीती सो बीती ,बाकी रह गई मोय।
तड़फ तड़फ कर कब तक तड्फु ,प्राण देउला खोय।
पियाजी रही रात दिन रोय। टेर। ….

सायब कबीर करुणा के सागर ,तुम करुणा निधि होय।
कहे कमाली मेरो कछु नहीं बिगड़े ,लोग हँसेला तोय।
पियाजी रही रात दिन रोय। टेर। ….

भजन :- पियाजी रही रात दिन रोय
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर देखे :- फकीरी लागा नहीं शब्दों रा तीर

जरूर देखे :- लोक लाज दीन्ही खोय फकीरी

पिछला लेखपियाजी लागा हे शब्दो रा बाण भजन लिरिक्स | Piyaji Laga Hai Shabdo Ra Ban Bhajan Lyrics
अगला लेखसजन म्हारा घर आवो मेहमान भजन लिरिक्स | Sajan Mhara Ghar Aavo Mehman Bhajan Lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

2 × two =