फकीरी मन मारे सो ही शुर भजन लिरिक्स | Fakiri Man Mare So Hi Shur bhajan Lyrics

405

फकीरी मन मारे सो ही शुर भजन लिरिक्स

फकीरी मन मारे सो ही शुर भजन लिरिक्स, Fakiri Man Mare So Hi Shur bhajan Lyrics

             ।। दोहा ।।  (धुन:- फकीरी)
सतिया सत मत छोड़ज़ो, सत छोड़्या पथ जाय।
सत री बाँधी लक्मी, फेर मिळेला आय।


~ फकीरी मन मारे सो ही शुर ~

मन को मार इन्द्रिया जीते ,
सो ही संत बहादुर।
फकीरी मन मारे सो ही शुर।


दो दल बिच युद्ध होवे भारी ,
पग रोपे कोई शुर।
कायर देख रण पग नहीं मांडे ,
भाग जाय कही दूर।
फकीरी मन मारे सो ही शुर। टेर। ….


धर्म राखे सो शूरा जग में ,
अधर्म किया सब चूर।
शीश काट लड़े कोई शूरा ,
पद पावेला भरपूर।
फकीरी मन मारे सो ही शुर। टेर। ….


कायर जग में धरम कमावे ,
शत्रु उड़ावे धुर।
भारत भूमि लजिया मरे ,
जननी गमायो नूर।
फकीरी मन मारे सो ही शुर। टेर। ….


बड़ा फक्कड़ फकीरी साधे ,
साधना करे भरपूर।
चुन्निनाथ कहे डिगे ना डोले ,
सदा रहत अफ्रूर।
फकीरी मन मारे सो ही शुर। टेर। ….


जरूर देखे :- फकीरी लागा नहीं शब्दों रा तीर

जरूर देखे :- लोक लाज दीन्ही खोय फकीरी

 fakiri song lyrics in hindi

~ Fakiri Man Mare So Hi Shur ~

man ko maar indriya jite,
so hi sant bahadur.
fakiri man mare so hi sur.


do dal bich yudh hove bhari,
pag rope koi shur.
kayar dekh ran pag nhi mande,
bhag jay kahi dur.
fakiri man mare so hi sur.


dharam rakhe so shura jag me,
adharm kiya sab chur.
shish kaat lade koi shura,
pad pavela bharpur.
fakiri man mare so hi shur.


kayar jag me dharam kamave,
shatru udave dhur.
bharat bhumi lajiya mare,
janani gamayo nur.
fakiri man mare so hi shur.


bada fakkad fakiri sadhe,
sadhna kare bharpur.
chunninath kahe dige na dole,
sada rahat afrur.
fakiri man mare so hi shur.


जरूर देखे :- संत पधारे पांवणा म्हारी हेली

जरूर देखे :- सुकरत फूल गुलाब रो

जोग फकीरी भजन लिरिक्स

~ फकीरी मन मारे सो ही शुर ~

मन को मार इन्द्रिया जीते ,सो ही संत बहादुर।
फकीरी मन मारे सो ही शुर।

दो दल बिच युद्ध होवे भारी ,पग रोपे कोई शुर।
कायर देख रण पग नहीं मांडे ,भाग जाय कही दूर।
फकीरी मन मारे सो ही शुर। टेर। ….

धर्म राखे सो शूरा जग में ,अधर्म किया सब चूर।
शीश काट लड़े कोई शूरा ,पद पावेला भरपूर।
फकीरी मन मारे सो ही शुर। टेर। ….

कायर जग में धरम कमावे ,शत्रु उड़ावे धुर।
भारत भूमि लजिया मरे ,जननी गमायो नूर।
फकीरी मन मारे सो ही शुर। टेर। ….

बड़ा फक्कड़ फकीरी साधे ,साधना करे भरपूर।
चुन्निनाथ कहे डिगे ना डोले ,सदा रहत अफ्रूर।
फकीरी मन मारे सो ही शुर। टेर। ….

भजन :- फकीरी मन मारे सो ही शुर
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर देखे :- कटे सूती ने कटे आण खड़ी

जरूर देखे :- हेली म्हारी चालो गुरांसा रे देश 

पिछला लेखफकीरी लागा नहीं शब्दों रा तीर भजन लिरिक्स | Fakiri Laga Nhi Shabdo Ra Teer Bhajan Lyrics
अगला लेखफकीरी कायर सु नहीं होय भजन लिरिक्स | Fakiri Kayar Su Nahi Hoy Bhajan Lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

19 + 2 =