फकीरी कायर सु नहीं होय भजन लिरिक्स | Fakiri Kayar Su Nahi Hoy Bhajan Lyrics

384

फकीरी कायर सु नहीं होय भजन लिरिक्स

फकीरी कायर सु नहीं होय भजन लिरिक्स, Fakiri Kayar Su Nahi Hoy Bhajan Lyrics

।। दोहा ।।
सुता सुता क्या करो, सुता ने आवे नींद।
जम सिराणे यु खड़ो, ज्यू तोरण आयो बिन्द।


~ फकीरी कायर सु नहीं होय ~

कायर सु नहीं होय फकीरी ,
कायर सु नहीं होय।
फकीरी, कायर सु नहीं होय।


जिनके मन में माया ममता ,
देवे रे पलक में रोय।
काम क्रोध मद लोभ ने त्यागे ,
सो ही प्रभु को होय।
फकीरी, कायर सु नहीं होय। टेर। …


कोई नहीं है थारो ने म्हारो ,
नहीं सगा कोई सोय।
खरी टेम पर काम नहीं आवे ,
झूठा रे ए सब रोय।
फकीरी, कायर सु नहीं होय। टेर। …


जागतो जोगी जम भगावे ,
सुता सो दुखी होय।
सत चित आनंद अलख अनेरो ,
दूजो नहीं है कोय।
फकीरी, कायर सु नहीं होय। टेर। …


नव नाथा री दुर्लभ वाणी ,
अगम निगम है दोय।
जोगी री मस्ती मसाणा माहि ,
दूजी ठोड नहीं कोय।
फकीरी, कायर सु नहीं होय। टेर। …


जरूर देखे :- फकीरी मन मारे सो ही शुर

जरूर देखे :- फकीरी लागा नहीं शब्दों रा तीर

jog fakiri bhajan lyrics in hindi

~ Fakiri Kayar Su Nahi Hoy ~

kayar su nahi hoy fakiri,
kayar su nahi hoy.
fakiri kayar su nahi hoy.


jinke man me maya mamta,
dee re palak me roy.
kam krodh mad lobh ne tyage,
so hi prabhu ko hoy.
fakiri kayar su nahi hoy.


koi nhi hai tharo ne mharo,
nhi saga koi soy.
khari tem par kam nhi aave,
jhutha re e sab roy.
fakiri kayar su nhi hoy.


jagto jogi jam bhagave,
suto so dukhi hoy.
sat chit aanand alakh anero,
dujo nhi hai koy.
fakiri kayar su nhi hoy.


nav natha ri durlabh vani,
agam nigam hai doy.
jogi ri masti masana mahi,
duji thod nhi koy.
fakiri kayar su nhi hoy.


जरूर देखे :- लोक लाज दीन्ही खोय फकीरी

जरूर देखे :-  संत पधारे पांवणा म्हारी हेली

फकीरी भजन लिखित में लिरिक्स

~ फकीरी कायर सु नहीं होय ~

कायर सु नहीं होय फकीरी ,कायर सु नहीं होय।
फकीरी, कायर सु नहीं होय।

जिनके मन में माया ममता ,देवे रे पलक में रोय।
काम क्रोध मद लोभ ने त्यागे ,सो ही प्रभु को होय।
फकीरी, कायर सु नहीं होय। टेर। …

कोई नहीं है थारो ने म्हारो ,नहीं सगा कोई सोय।
खरी टेम पर काम नहीं आवे ,झूठा रे ए सब रोय।
फकीरी, कायर सु नहीं होय। टेर। …

जागतो जोगी जम भगावे ,सुता सो दुखी होय।
सत चित आनंद अलख अनेरो ,दूजो नहीं है कोय।
फकीरी, कायर सु नहीं होय। टेर। …

नव नाथा री दुर्लभ वाणी ,अगम निगम है दोय।
जोगी री मस्ती मसाणा माहि ,दूजी ठोड नहीं कोय।
फकीरी, कायर सु नहीं होय। टेर। …

कन्हैयालाल जी कोसेलाव के भजन

भजन :- फकीरी कायर सु नहीं होय
गायक :- कन्हैया लाल जी कोसेलाव
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर देखे :- सुकरत फूल गुलाब रो मारी हेली

जरूर देखे :- कटे सूती ने कटे आण खड़ी

पिछला लेखफकीरी मन मारे सो ही शुर भजन लिरिक्स | Fakiri Man Mare So Hi Shur bhajan Lyrics
अगला लेखफकीरी चालणो खाण्डा री धार भजन लिरिक्स | Fakiri Chalno Khanda Ri Dhaar Bhajan Lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

16 + 13 =