सुकरत फूल गुलाब रो मारी हेली भजन लिरिक्स | Sukarat Phool Gulab Ro Mari Heli Bhajan Lyrics

292

सुकरत फूल गुलाब रो मारी हेली भजन लिरिक्स

सुकरत फूल गुलाब रो मारी हेली भजन लिरिक्स, Sukarat Phool Gulab Ro Mari Heli Bhajan Lyrics rajasthani heli bhajan lyrics

।। दोहा ।।
राम नाम की लूट है, लूट सके तो लूट।
अंत समय पछतायेगा, जब प्राण जायेंगे छूट।


~ सुकरत फुल गुलाब रो ~

सुकरत फूल गुलाब रो म्हारी हेली ,
सब घट रयो रे समाय।
कहो रे संतो कैसे पावसा म्हारी हेली ,
गुरु बिन लखियो न जाय।


तीन तिरवेणी रे उपरे म्हारी हेली ,
फलियों है सोहम फूल।
वठे धरम रो है बेसणो म्हारी हेली ,
निज अंतर गया भूल।
सुकरत फूल गुलाब रो म्हारी हेली ,
सब घट रयो रे समाय। टेर। …


चार योजन रे उपरे म्हारी हेली ,
पुरुष वैदेही भरपूर।
जुगत मुगत उण देश में म्हारी हेली ,
अनहद बाजे तुर।
सुकरत फूल गुलाब रो म्हारी हेली ,
सब घट रयो रे समाय। टेर। …


अमर कोठे खम्भ ही खड़ी म्हारी हेली ,
उभी गुरा रे दरबार।
खिड़की खोली जद जोवियो म्हारी हेली ,
राह अगम घर जाय।
सुकरत फूल गुलाब रो म्हारी हेली ,
सब घट रयो रे समाय। टेर। …


ओ ही हंसो उण देश रो म्हारी हेली ,
नहीं आवे नहीं जाय।
केवे कबीरसा धर्मिदास ने म्हारी हेली ,
निज गुण देऊ लखाय।
सुकरत फूल गुलाब रो म्हारी हेली ,
सब घट रयो रे समाय। टेर। …


जरूर देखे :- कटे सूती ने कटे आण खड़ी

जरूर देखे :- हेली म्हारी चालो गुरांसा रे देश

rajasthani heli bhajan lyrics

~ Sukarat Phool Gulab Ro ~

sukrat ful gulab ro mhari heli,
sab ghat rayo re samay.
kaho re santo kaise pavsa mhari heli,
guru bin lakhiyo n jay.


teen tirveni re upre mhari heli,
faliyo hai soham ful.
vathe dharam ro hai besano mhari heli,
nij antar gaya bhul.
sukrat ful gulab ro mhari heli,
sab ghat rayo re samay.


char yojan re upre mhari heli,
purush vedehi bharpur.
jugat mugat un desh me mhari heli,
anahad baje tur.
sukrat ful gulab ro mhari heli,
sab ghat rayo re samay.


amar kothe khambh hi khadi mhari heli,
ubhi gura re darbar.
khidki kholi jad joviyo mhari heli,
rah agam ghar jaay.
sukrat ful gulab ro mhari heli,
sab ghat rayo re samay.


O hi hanso un desh ro mhari heli,
nhi aave nhi jaay.
keve kabirsa dharmidas ne mhari heli,
nij gun deu lakhay.
sukrat ful gulab ro mhari heli,
sab ghat rayo re samay.


जरूर देखे :- हेली धन रे घडी रो मोटो भाग

जरूर देखे :- अब तो सारा दु:ख भूलगी

मारवाड़ी हेली फकीरी भजन लिरिक्स

~ सुकरत फूल गुलाब रो ~

सुकरत फूल गुलाब रो म्हारी हेली ,सब घट रयो रे समाय।
कहो रे संतो कैसे पावसा म्हारी हेली ,गुरु बिन लखियो न जाय।

तीन तिरवेणी रे उपरे म्हारी हेली ,फलियों है सोहम फूल।
वठे धरम रो है बेसणो म्हारी हेली ,निज अंतर गया भूल।
सुकरत फूल गुलाब रो म्हारी हेली ,सब घट रयो रे समाय। टेर। …

चार योजन रे उपरे म्हारी हेली ,पुरुष वैदेही भरपूर।
जुगत मुगत उण देश में म्हारी हेली ,अनहद बाजे तुर।
सुकरत फूल गुलाब रो म्हारी हेली ,सब घट रयो रे समाय। टेर। …

अमर कोठे खम्भ ही खड़ी म्हारी हेली ,उभी गुरा रे दरबार।
खिड़की खोली जद जोवियो म्हारी हेली ,राह अगम घर जाय।
सुकरत फूल गुलाब रो म्हारी हेली ,सब घट रयो रे समाय। टेर। …

ओ ही हंसो उण देश रो म्हारी हेली ,नहीं आवे नहीं जाय।
केवे कबीरसा धर्मिदास ने म्हारी हेली ,निज गुण देऊ लखाय।
सुकरत फूल गुलाब रो म्हारी हेली ,सब घट रयो रे समाय। टेर। …

कृष्ण लाल जी भजन

भजन :- सुकरत फुल गुलाब रो
गायक :- कृष्ण लाल जी
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर देखे :- मैं तो पुरबिया पूरब देश रो

जरूर देखे :- हेली एक दिन मिन्दर में आव

पिछला लेखकटे सूती ने कटे आण खड़ी भजन लिरिक्स | Kathe Ne Suti Kathe Aan Khadi Bhajan Lyrics
अगला लेखसंत पधारे पांवणा म्हारी हेली भजन लिरिक्स | Santh Padhare Panwana Mhari Heli Bhajan Lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

17 − 10 =