कटे सूती ने कटे आण खड़ी भजन लिरिक्स | Kathe Ne Suti Kathe Aan Khadi Bhajan Lyrics

619

कटे सूती ने कटे आण खड़ी भजन लिरिक्स

कटे सूती ने कटे आण खड़ी भजन लिरिक्स, Kathe Ne Suti Kathe Aan Khadi Bhajan Lyrics

।। दोहा ।।
कबीरा खड़ा बाजार में,और सब की मांगे खेर।
ना कहु से दोस्ती , और ना कहु से बेर।


~ कठे सूती ने कठे आण खड़ी ~

कठे सूती ने कठे आण खड़ी म्हारी हेली ,
मनड़ा में कर ले विचार।


दुनिया ने देख दीवानी भई म्हारी हेली ,
बितो जाए व्यव्हार।
जद थारो पीव थने निजर नहीं आवे हेली ,
ई में जमारो जाय।
कठे सूती ने कठे आण खड़ी म्हारी हेली ,
मनड़ा में कर ले विचार। टेर। ….


नव रे द्वार बंद कर राखो म्हारी हेली ,
दशवा में चाबी रे लगाय।
दशवा में दर्शन होवसी म्हारी हेली ,
ज्यू सुलझेला वाण।
कठे सूती ने कठे आण खड़ी म्हारी हेली ,
मनड़ा में कर ले विचार। टेर। ….


में तो पुरबियों पूरब देश रो म्हारी हेली ,
जागा करे जम किन।
टुक इक सुरमो तो गुरु दियो म्हारी हेली ,
आवे है बियारी लाड।
कठे सूती ने कठे आण खड़ी म्हारी हेली ,
मनड़ा में कर ले विचार। टेर। ….


जरूर देखे :- हेली म्हारी चालो गुरांसा रे देश

जरूर देखे :- हेली धन रे घडी रो मोटो भाग

heli mari bhajan lyrics

~ Kathe Ne Suti Kathe Aan Khadi ~

kate suti ne kate aan khadi mhari heli,
manada me kar le vichar.


duniya ne dekh diwani bhai mhari heli,
bito jay vyavhar.
jad tharo peev thane nijar nhi aave heli,
e me jamaro jaay.
kate suti ne kate aan khadi mhari heli,
manada me kar le vichar.


nav re dwar band kar rakho mhari heli,
dashva me chabi re lagay.
dashva me darshan hovsi mhari heli,
jyu sul jhela van.
kate suti ne kate aan khadi mhari heli,
manada me kar le vichar.


me to purabiyo purab desh ro mhari heli,
jaaga kare jam kin.
tuk ek surmo to guru diyo mhari heli,
aave hai biyari lad.
kate suti ne kate aan khadi mhari heli,
manada me kar le vichar.


जरूर देखे :- अब तो सारा दु:ख भूलगी

जरूर देखे :- मैं तो पुरबिया पूरब देश रो

हेली मारी भजन लिरिक्स

~ कटे सूती ने कटे आण खड़ी ~

कठे सूती ने कठे आण खड़ी म्हारी हेली ,मनड़ा में कर ले विचार।

दुनिया ने देख दीवानी भई म्हारी हेली ,बितो जाए व्यव्हार।
जद थारो पीव थने निजर नहीं आवे हेली ,ई में जमारो जाय।
कठे सूती ने कठे आण खड़ी म्हारी हेली ,मनड़ा में कर ले विचार। टेर। ….

नव रे द्वार बंद कर राखो म्हारी हेली ,दशवा में चाबी रे लगाय।
दशवा में दर्शन होवसी म्हारी हेली ,सुलझेला वाण।
कठे सूती ने कठे आण खड़ी म्हारी हेली ,मनड़ा में कर ले विचार। टेर। ….

में तो पुरबियों पूरब देश रो म्हारी हेली ,जागा करे जम किन।
टुक इक सुरमो तो गुरु दियो म्हारी हेली ,आवे है बियारी लाड।
कठे सूती ने कठे आण खड़ी म्हारी हेली ,मनड़ा में कर ले विचार। टेर। ….

sanwari bai ka bhajan

भजन :- कटे सूती ने कठे आण खड़ी
गायिका :- सँवारी बाई
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर देखे :- हेली एक दिन मिन्दर में आव

जरूर देखे :- चलो गुरुजी का देश मारी हेली

पिछला लेखहेली म्हारी चालो गुरांसा रे देश भजन लिरिक्स | Chalo Gurasa Re Desh Me Mhari Heli Bhajan Lyrics
अगला लेखसुकरत फूल गुलाब रो मारी हेली भजन लिरिक्स | Sukarat Phool Gulab Ro Mari Heli Bhajan Lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

3 × four =