मैं तो पुरबिया पूरब देश रो मारी हेली भजन लिरिक्स | Me to purabiyo purav desh ro mari heli Bhajan Lyrics

4797

मैं तो पुरबिया पूरब देश रो मारी हेली भजन लिरिक्स

मैं तो पुरबिया पूरब देश रो मारी हेली भजन लिरिक्स, Me to purabiyo purav desh ro heli bhajan lyrics

।। दोहा ।।
सतगुरु आवत देखिया , दी जाजम बिछवाय।
फूलन की वर्षा हुई , हुई चमेली री छाय।


~ में तो पुरबियों पूरब देश रो ~

में तो पुरबियों पूरब देश रो म्हारी हेली ,
बोली रे लखे कोय।
जो म्हारी बोली लखे म्हारी हेली ,
भाग पुरबला होय।


म्हारी मरम रा साधु ना मिल्यो म्हारी हेली ,
किन संग करू में सनेह।
म्हारी मण्डली रो हरी जन ना मिल्यो म्हारी हेली ,
किन संग करू में सनेह।
में तो पुरबियों पूरब देश रो म्हारी हेली ,
बोली रे लखे कोय। टेर। ….


साधु होया तो क्या हुआ म्हारी हेली ,
चहु दिश फैली नहीं वास।
हिरदा में बीज कपट भरियो म्हारी हेली ,
करे है उगन री आस।
में तो पुरबियों पूरब देश रो म्हारी हेली ,
बोली रे लखे कोय। टेर। ….


के तो तिल कोरा भला म्हारी हेली ,
के लीजो तेल कढ़ाय।
अध् बिचली कूलर बुरी म्हारी हेली ,
दोनु बिन सु जाय।
में तो पुरबियों पूरब देश रो म्हारी हेली ,
बोली रे लखे कोय। टेर। ….


कड़वा पानी री कड़वी बोलडी म्हारी हेली ,
फल ज्या रा कड़वा होय।
ज्या री कडवाई जद मिटे म्हारी हेली ,
बेल बीछेवा होय।
में तो पुरबियों पूरब देश रो म्हारी हेली ,
बोली रे लखे कोय। टेर। ….


दव लागी बेली जली म्हारी हेली ,
कोई होयो बिच रो नाश।
केवे कबीर सा धर्मिदास ने म्हारी हेली ,
नहीं उगन री आस।
में तो पुरबियों पूरब देश रो म्हारी हेली ,
बोली रे लखे कोय। टेर। ….


जरूर देखे :- हेली एक दिन मिन्दर में आव

जरूर देखे :- चलो गुरुजी का देश मारी हेली 

heli bhajan lyrics in hindi

~ Me to purabiyo purav desh ro ~

me to purabiyo purab desh ro mhari heli,
boli re lakhe koy.
jo mhari boli lakhe mhari heli,
bhag purabala hoy.


mhari maram ra sadhu na milyo mhari heli,
kin sang karu me saneh.
mhari mandali ro hari jan na milyo mhari heli,
kin sang karu me saneh.
me to purabiyo purab desh ro mhari heli,
boli re lakhe koy.


sadhu hoya to kya hua mhari heli,
chahu dish feli nhi vas.
hirda me bich kapat bhariyo mhari heli,
kare hai ugan ri aas.
me to purabiyo purab desh ro mhari heli,
boli re lakhe koy.


ke to til kora bhala mhari heli,
ke lijo tel kadhay.
adh bichli kular buri mhari heli,
donu bin su jay.
me to purabiyo purab desh ro mhari heli,
boli re lakhe koy.


kadva pani ri kadvi boldi mhari heli,
fal jya ra kadava hoy.
jya ri kadvai jad mite mhari heli,
bel bichheva hoy.
me to purabiyo purab desh ro mhari heli,
boli re lakhe koy.


dav lagi beli jali mhari heli,
koi hoyo bich ro nash.
keve kabir sa dharmidas ne mhari heli,
nhi ugan ri aas.
me to purabiyo purab desh ro mhari heli,
boli re lakhe koy.


जरूर देखे :- हेली ए घर में मोतीड़ा री खाण

जरूर देखे :- हेली चाले तो हरी मिल जाए

हेली मारी भजन लिरिक्स

~ मैं तो पुरबिया पूरब देश रो ~

में तो पुरबियों पूरब देश रो म्हारी हेली ,बोली रे लखे कोय।
जो म्हारी बोली लखे म्हारी हेली ,भाग पुरबला होय।

म्हारी मरम रा साधु ना मिल्यो म्हारी हेली ,किन संग करू में सनेह।
म्हारी मण्डली रो हरी जन ना मिल्यो म्हारी हेली ,किन संग करू में सनेह।
में तो पुरबियों पूरब देश रो म्हारी हेली ,बोली रे लखे कोय। टेर। ….

साधु होया तो क्या हुआ म्हारी हेली ,चहु दिश फैली नहीं वास।
हिरदा में बीज कपट भरियो म्हारी हेली ,करे है उगन री आस।
में तो पुरबियों पूरब देश रो म्हारी हेली ,बोली रे लखे कोय। टेर। ….

के तो तिल कोरा भला म्हारी हेली ,के लीजो तेल कढ़ाय।
अध् बिचली कूलर बुरी म्हारी हेली ,दोनु बिन सु जाय।
में तो पुरबियों पूरब देश रो म्हारी हेली ,बोली रे लखे कोय। टेर। ….

कड़वा पानी री कड़वी बोलडी म्हारी हेली ,फल ज्या रा कड़वा होय।
ज्या री कडवाई जद मिटे म्हारी हेली ,बेल बीछेवा होय।
में तो पुरबियों पूरब देश रो म्हारी हेली ,बोली रे लखे कोय। टेर। ….

दव लागी बेली जली म्हारी हेली ,कोई होयो बिच रो नाश।
केवे कबीर सा धर्मिदास ने म्हारी हेली ,नहीं उगन री आस।
में तो पुरबियों पूरब देश रो म्हारी हेली ,बोली रे लखे कोय। टेर। ….

anil nagori ke bhajan

भजन :- में तो पुरबियों पूरब देश रो
गायक :- अनिल नागौरी
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर देखे :- चाले तो ले चालूं उण देश

जरूर देखे :- औलाद की खातिर इंसा

पिछला लेखहेली एक दिन मिन्दर में आव भजन लिरिक्स | Heli Ek Din Mindar Me Aav Bhajan Lyrics
अगला लेखअब तो सारा दु:ख भूलगी म्हारी हेली भजन लिरिक्स | Ab to Sara Dukh Bhulgi Mari Heli Bhajan Lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

4 − one =