चाले तो ले चालूं उण देश म्हारी हेली भजन लिरिक्स | Chale To Le Chalu Un Desh Heli Mhari Bhajan Lyrics

1400

चाले तो ले चालूं उण देश म्हारी हेली भजन लिरिक्स

चाले तो ले चालूं उण देश म्हारी हेली भजन लिरिक्स, Chale To Le Chalu Un Desh Heli Mhari Bhajan Lyrics

।। दोहा ।।
संगत करणी संत री, क्या नुगरा से काम।
नुगरा ले जावे नारगी , संत मिलावे राम।


~ चाले तो ले चालू वण देश ~

चाले तो ले चालू वण देश में म्हारी हेली ,
गुपताऊ भेद बताय।


पतिव्रता पीहर बसे म्हारी हेली ,
हिरदे पियाजी रो ध्यान।
चार जुगा रो ढोलियो म्हारी हेली ,
असंख जुगा री वाण।
चाले तो ले चालू वण देश में म्हारी हेली ,
गुपताऊ भेद बताय। टेर। …..


गगन मण्डल वाले गोखरे म्हारी हेली ,
पुरुष सुतो निराकार।
तीन पुरुष वा की सेवा करे म्हारी हेली ,
राम कबीरा गुण गाय।
चाले तो ले चालू वण देश में म्हारी हेली ,
गुपताऊ भेद बताय। टेर। …..


मन रे पवन वटे पहुंचे नहीं म्हारी हेली ,
नहीं रे भरम को काम।
अलख उतारे उभा आरती म्हारी हेली ,
निरंजन ढोले वाव।
चाले तो ले चालू वण देश में म्हारी हेली ,
गुपताऊ भेद बताय। टेर। …..


केवे कबीरसा धर्मिदास ने म्हारी हेली ,
वण पुरुष ने ध्याव।
चाले तो ले चालू वण देश में म्हारी हेली ,
गुपताऊ भेद बताय। टेर। …..


जरूर देखे :- काया का पिंजरा डोले रे

जरूर देखे :- बंगला अजब बना महाराज

heli mhari bhajan lyrics in hindi

~ Chale To Le Chalu Un Desh ~

chale to le chalu van desh mhari heli,
guptau bhed batay.


pativrata pihar base mhari heli,
hirde piyaji ro dhyan.
char juga ro dholiyo mhari heli,
asankh juga ri van.
chale to le chalu van desh mhari heli,
guptau bhed batay.


gagan mandal vale gokhre mhari heli,
purush suto nirakar.
teen purush va ki seva kare mhari heli,
ram kabira gun gay.
chale to le chalu van desh mhari heli,
guptau bhed batay.


man re pavan vate pahuche nhi mhari heli,
nhi re bharam ko kam.
alakha utare ubha aarati mhari heli,
niranjan dhole vav.
chale to le chalu van desh mhari heli,
guptau bhed batay.


keve kabirsa dharmidas ne mhari heli,
van purush ne dhyav.
chale to le chalu van desh mhari heli,
guptau bhed batay.


जरूर देखे :- जानो पड़सी रे पंछी

जरूर देखे :- पिंजरे वाली मैना रटो नी सिया राम

हेली म्हारी भजन लिरिक्स इन हिंदी

~ चाले तो ले चालूं उण दे ~

चाले तो ले चालू वण देश में म्हारी हेली ,
गुपताऊ भेद बताय।

पतिव्रता पीहर बसे म्हारी हेली ,हिरदे पियाजी रो ध्यान।
चार जुगा रो ढोलियो म्हारी हेली ,असंख जुगा री वाण।
चाले तो ले चालू वण देश में म्हारी हेली ,
गुपताऊ भेद बताय। टेर। …..

गगन मण्डल वाले गोखरे म्हारी हेली ,पुरुष सुतो निराकार।
तीन पुरुष वा की सेवा करे म्हारी हेली ,राम कबीरा गुण गाय।
चाले तो ले चालू वण देश में म्हारी हेली ,
गुपताऊ भेद बताय। टेर। …..

मन रे पवन वटे पहुंचे नहीं म्हारी हेली ,नहीं रे भरम को काम।
अलख उतारे उभा आरती म्हारी हेली ,निरंजन ढोले वाव।
चाले तो ले चालू वण देश में म्हारी हेली ,
गुपताऊ भेद बताय। टेर। …..

केवे कबीरसा धर्मिदास ने म्हारी हेली ,वण पुरुष ने ध्याव।
चाले तो ले चालू वण देश में म्हारी हेली ,
गुपताऊ भेद बताय। टेर। …..

premnath ji ke bhajan

भजन :- चाले तो ले चालू वण देश
गायक :- प्रेमनाथ
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर देखे :- काया कोटडी में रंग लाग्यो

जरूर देखे :- चल हंसा उस देश

पिछला लेखऔलाद की खातिर इंसा फिरता है मारा मारा भजन लिरिक्स | Aulad Ke Khatir Insan Bhajan Lyrics
अगला लेखहेली चाले तो हरी मिल जाए भजन लिरिक्स | Heli Chale To Hari Mil Jaye Bhajan Lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

one × 4 =