भिक्षा देने मैया पिंगला भजन लिरिक्स | bhiksha dene maiya pingla Bhajan Lyrics

1031

भिक्षा देने मैया पिंगला भजन लिरिक्स

भिक्षा देने मैया पिंगला भजन लिरिक्स, bhiksha dene maiya pingla raja bharthari ki katha Bhajan lyrics

।। दोहा ।।
कबीरा पैंडा बहुत किया, दिन में सो सो किश।
पाछे मुड़कर देखिया, गांव कोश का कोश।


~ भिक्षा देवो नी माता पिंगला ~

भिक्षा देवो नी माता पिंगला ,
जोगी ऊभो थारे द्वार।
भेख उतारो राजा भरतरी ,
पिंगला करे ओ पुकार।


आज रो दिन खोटो उगियो ,
लागी ओ कालजे कटार।
मोह रे माया ने में तो छोड़ दी ,
छोड्यो झूठो रे संसार।
भिक्षा देवो नी माता पिंगला ,
जोगी ऊभो थारे द्वार। टेर। …..


ढोलियो ढ़लावू बादळ महल में ,
संजुला सोलहे ही सिणगार।
धूणी रे धुखावा जंगल मायने ,
अंगडे भभूति ली धार।
भिक्षा देवो नी माता पिंगला ,
जोगी ऊभो थारे द्वार। टेर। …..


प्रीत पुराणी मत तोड़जो ,
छोड़ो मति एकलड़ी मझधार।
सत रा मार्गी ने मत रोकजे ,
एकर पुत्र पुकार।
भिक्षा देवो नी माता पिंगला ,
जोगी ऊभो थारे द्वार। टेर। …..


जरूर देखे :- राजा मोरध्वज की कथा

जरूर देखे :- जिवडा ! अमल कालजे लागो

raja bharthari ki katha Bhajan lyrics

~ bhiksha dene maiya pingla ~

bhiksha devo ni mata pingla,
jogi ubho thare dwar.
bhekh utaro raja bharatari,
pingla kare o pukar.


aaj ro din khoto ugiyo,
lagi o kalje katar.
moh re maya ne me to chod di,
chodyo jhutho re sansar.
bhiksha dene maiya pingla,
jogi ubho thare dwar.


dholiyo dhalavu badal mahal me,
sanjula solahe hi singar.
dhuni re dhukhava jangal mayne,
angde bhabhuti li dhar.
bhiksha devo ni mata pingla,
jogi ubho thare dwar.


preet purani mat todjo,
chodo mati akladi majhdhar.
sat ra margi ne mat rokje,
ekar putr pukar.
bhiksha devo ni mata pingla,
jogi ubho thare dwar.


जरूर देखे :- टाबरियो ने टूंगे ही मारे

जरूर देखे :- हिरणी हरी ने अरज करे 

राजा भरथरी रानी पिंगला का भजन

~ भिक्षा देने मैया पिंगला ~

भिक्षा देवो नी माता पिंगला ,जोगी ऊभो थारे द्वार।
भेख उतारो राजा भरतरी ,पिंगला करे ओ पुकार।

आज रो दिन खोटो उगियो ,लागी ओ कालजे कटार।
मोह रे माया ने में तो छोड़ दी ,छोड्यो झूठो रे संसार।
भिक्षा देवो नी माता पिंगला ,जोगी ऊभो थारे द्वार। टेर। …..

ढोलियो ढ़लावू बादळ महल में ,संजुला सोलहे ही सिणगार।
धूणी रे धुखावा जंगल मायने ,अंगडे भभूति ली धार।
भिक्षा देवो नी माता पिंगला ,जोगी ऊभो थारे द्वार। टेर। …..

प्रीत पुराणी मत तोड़जो ,छोड़ो मति एकलड़ी मझधार।
सत रा मार्गी ने मत रोकजे ,एकर पुत्र पुकार।
भिक्षा देवो नी माता पिंगला ,जोगी ऊभो थारे द्वार। टेर। …..

moinuddin manchala ke bhajan

भजन :- भिक्षा देवो नी माता पिंगला
गायक :- मोइनुद्दीन मनचला
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर देखे :- सतजुगो रा बेटा श्रवण ऐडा तो हुआ

जरूर देखे :- गाड़ी गुरूजी रा नाम री

पिछला लेखराजा मोरध्वज की कथा लिरिक्स | raja mordhwaj ki katha Lyrics
अगला लेखछोड़े ने मत जावो राजा भरथरी भजन लिरिक्स | Chodi Ne Mat Jao Raja Bharthari Bhajan lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

1 × 5 =