साधु भाई ! मेरा भेद में पाया भजन लिरिक्स | Sadhu Bhai Mera Bhed Me Paya Bhajan Lyrics

175

साधु भाई ! मेरा भेद में पाया भजन लिरिक्स

साधु भाई ! मेरा भेद में पाया भजन लिरिक्स Sadhu Bhai Mera Bhed Me Paya chetawani bhajan lyrics in hindi

।। दोहा ।।
मिलन भला बिछडन बुरा, मिल बिछडो मत कोय।
फेर हंस मिठो बोलणो, हरि करे कद होय।


~ साधु भाई ! मेरा भेद में पाया ~

इच्छा फेर धरी धन काया ,
धरता नाम धराया।
सुतो जीव अचेत नींद में ,
उसको आय जगाया।
साधु भाई ! मेरा भेद में पाया। टेर। …..


में हु ब्रह्मा अटल अविनाशी,
नहीं हमारे छाया।
साधु भाई ! मेरा भेद में पाया। टेर। …..


कारण काज फिरियो इण जुग में ,
निष्पक्ष ज्ञान सुनाया।
भडक्यो जीव भरमना उपजी ,
कोई एक शीश नवाया।
साधु भाई ! मेरा भेद में पाया। टेर। …..


छिपियो जीव शरण के माहि ,
त्राटक तुरंत तोडाया।
आवागमन अलप कर दिनी ,
दूर किया दुःखदाया।
साधु भाई ! मेरा भेद में पाया। टेर। …..


कर्म काट कोने कर दीना ,
सात का वचन सुनाया।
चंदनशाह चेतन रा डंका ,
अमर लोक पहुंचाया।
साधु भाई ! मेरा भेद में पाया। टेर। …..


जरूर देखे :- संतो ! गुरु मिलिया ब्रह्मज्ञानी

जरूर देखे :- संतो किन री फेरो माला

chetawani bhajan lyrics in hindi

~ Sadhu Bhai Mera Bhed Me Paya ~

ichcha fer dhari dhan kaya,
dharta naam dharaya .
suto jeev achet nind me,
unsko aay jagaya.
sadhu bhai ! mera bhed me paya …..


me hu brahma atal avinashi,
nhi hamare chhaya.
sadhu bhai ! mera bhed me paya …..


karan kaaj firiyo en jug me,
nishpaksh gyan sunaya.
bhadkyo jeev bharmana upji,
kio ek shish navaya.
sadhu bhai ! mera bhed me paya …..


chhipiyo jeev sharan ke mahi,
tratak turant todaya.
aavagaman alap kar dini,
dur diya dukhdaya.
sadhu bhai ! mera bhed me paya …..


karm kaat kone kar dina,
saat ka vachan sunaya.
chandanshah chetan ra danka,
amar lok pahuchaya.
sadhu bhai ! mera bhed me paya …..


जरूर देखे :- साधु भाई जोगी बण ने आया

जरूर देखे :- मन रे ! अंत गरब मत कीजे

चेतावनी भजन लिरिक्स

~ साधु भाई ! मेरा भेद में पाया ~

इच्छा फेर धरी धन काया ,धरता नाम धराया।
सुतो जीव अचेत नींद में ,उसको आय जगाया।
साधु भाई ! मेरा भेद में पाया। टेर। …..

में हु ब्रह्मा अटल अविनाशी,नहीं हमारे छाया।
साधु भाई ! मेरा भेद में पाया। टेर। …..

कारण काज फिरियो इण जुग में ,निष्पक्ष ज्ञान सुनाया।
भडक्यो जीव भरमना उपजी ,कोई एक शीश नवाया।
साधु भाई ! मेरा भेद में पाया। टेर। …..

छिपियो जीव शरण के माहि ,त्राटक तुरंत तोडाया।
आवागमन अलप कर दिनी ,दूर किया दुःखदाया।
साधु भाई ! मेरा भेद में पाया। टेर। …..

कर्म काट कोने कर दीना ,सात का वचन सुनाया।
चंदनशाह चेतन रा डंका ,अमर लोक पहुंचाया।
साधु भाई ! मेरा भेद में पाया। टेर। …..

prakash mali ke bhajan

भजन :- साधु भाई ! मेरा भेद में पाया
गायक :- प्रकाश माली
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर देखे :- रे संतो जोगी जुग से न्यारा

जरूर देखे :- लीलन प्यारी तेजाजी महाराज

पिछला लेखसंतो ! गुरु मिलिया ब्रह्मज्ञानी भजन लिरिक्स | santo guru miliya brahmgyani Bhajan lyrics
अगला लेखसंतो ! अमरलोक कुण जासी भजन लिरिक्स | santo ! Amar Lok Kun Jasi Bhajan Lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

fourteen + 9 =