संतो ! गुरु मिलिया ब्रह्मज्ञानी भजन लिरिक्स | santo guru miliya brahmgyani Bhajan lyrics

1012

संतो ! गुरु मिलिया ब्रह्मज्ञानी भजन लिरिक्स

संतो ! गुरु मिलिया ब्रह्मज्ञानी भजन लिरिक्स, santo guru miliya brahmgyani satguru chetavni bhajan lyrics

।। दोहा ।।
कस्तूरी कुण्डल बसे, मृग ढूंढे वन मांय।
वैसे घट घट राम है, पर दुनिया देखे नाय।


~ संतो ! गुरु मिलिया ब्रह्मज्ञानी ~

ज्ञान सुणावे कियो हरी नेडो ,
बात अगम वाली जाणी।
रे संतो ! गुरु मिलिया ब्रह्मज्ञानी। टेर। …


गणपति सुरसत शारदा ने सिंवरू ,
दीजो अनुभव वाणी।
परसत परसत पीर परसिया ,
परसी गुरो री निशाणी।
रे संतो ! गुरु मिलिया ब्रह्मज्ञानी। टेर। …


दिल में दर्शिया प्रेम परसिया ,
सतगुरु री सलोणी।
अगम निगम रा भेद बताया ,
आड़ जुगत ओळखाणी।
रे संतो ! गुरु मिलिया ब्रह्मज्ञानी। टेर। …


अल्ला खुदा अलख निरंजन ,
निराकार नीरवाणी।
हरदम हेर घेर घर लावो ,
मिल गई सात री सलोनी।
रे संतो ! गुरु मिलिया ब्रह्मज्ञानी। टेर। …


गुरु अवधूता पूरा मिलिया ,
गुरु मिलिया गम जाणी।
कहे हेमनाथ गुरा रे शरणे ,
नेछे सूरत समाणी।
रे संतो ! गुरु मिलिया ब्रह्मज्ञानी। टेर। …


जरूर देखे :- संतो किन री फेरो माला

जरूर देखे :- साधु भाई जोगी बण ने आया

satguru chetavni bhajan lyrics

~ santo guru miliya brahmgyani ~

gyan sunave kiyo hari nedo,
bat agam wali jani.
re santo guru miliya brahamgyani…..


ganpati sursat sharda ne sinvru,
dijo anubhav vani.
parsat parsat peer parsiya,
parsi guro ri nishani.
re santo guru miliya brahamgyani…..


dil me darshiya prem parsiya,
satguru ri saloni.
agam nigam ra bhed bataya,
aad jugat olakhani.
re santo guru miliya brahamgyani…..


alla khuda alakh niranjan,
nirakar nirvani.
hardam her gher ghar lavo,
mil gai saat ri saloni.
re santo guru miliya brahamgyani…..


guru avdhuta pura miliya,
guru miliya gam jani.
kahe hemnath gura re sharane,
nechhe surat samani.
re santo guru miliya brahamgyani…..


जरूर देखे :- मन रे ! अंत गरब मत कीजे

जरूर देखे :- रे संतो जोगी जुग से न्यारा

सतगुरु चेतावनी भजन

~ संतो ! गुरु मिलिया ब्रह्मज्ञानी ~

ज्ञान सुणावे कियो हरी नेडो ,बात अगम वाली जाणी।
रे संतो ! गुरु मिलिया ब्रह्मज्ञानी। टेर। …

गणपति सुरसत शारदा ने सिंवरू ,दीजो अनुभव वाणी।
परसत परसत पीर परसिया ,परसी गुरो री निशाणी।
रे संतो ! गुरु मिलिया ब्रह्मज्ञानी। टेर। …

दिल में दर्शिया प्रेम परसिया ,सतगुरु री सलोणी।
अगम निगम रा भेद बताया ,आड़ जुगत ओळखाणी।
रे संतो ! गुरु मिलिया ब्रह्मज्ञानी। टेर। …

अल्ला खुदा अलख निरंजन ,निराकार नीरवाणी।
हरदम हेर घेर घर लावो ,मिल गई सात री सलोनी।
रे संतो ! गुरु मिलिया ब्रह्मज्ञानी। टेर। …

गुरु अवधूता पूरा मिलिया ,गुरु मिलिया गम जाणी।
कहे हेमनाथ गुरा रे शरणे ,नेछे सूरत समाणी।
रे संतो ! गुरु मिलिया ब्रह्मज्ञानी। टेर। …

suresh lohar ke bhajan

भजन :- संतो ! गुरु मिलिया ब्रह्मज्ञानी
गायक :- सुरेश लोहार।
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर देखे :- रे संतो ! केहणा सुण ले मेरा

जरूर देखे :- साधु भाई ! जग सपना वाली

पिछला लेखसंतो किन री फेरो माला भजन लिरिक्स | Santo Kin Ri Fero Mala Bhajan Lyrics
अगला लेखसाधु भाई ! मेरा भेद में पाया भजन लिरिक्स | Sadhu Bhai Mera Bhed Me Paya Bhajan Lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

three − three =