मन रे सत री संगत करिये भजन लिरिक्स | sat re sangat kariye bhajan lyrics

770

मन रे सत री संगत करिये भजन लिरिक्स

मन रे सत री संगत करिये भजन लिरिक्स sat ri sangat kariye bhajan lyrics chetawani bhajan lyrics

।। दोहा ।।
तुलसी भरोसे राम के, निर्भय होके सोय।
अनहोनी होनी नहीं, होनी हो सो होय।


~ सत री संगत करिये ~

सत री संगत रा महातम सुनिये ,
राम सभा करिये।
शूरवीरो रा ए ही लक्षण ,
समझ पांव धरिये।
मन रे, सत री संगत करिये।


राम भजन रे कारणे ,
मिनखा देह धरिये।
मन रे, सत री संगत करिये। टेर। ….


एकण रंगा एकण वरणा ,
एकण घाट घड़िये।
तपधारी रा देख तमाशा ,
खमा खमा करिये।
मन रे, सत री संगत करिये। टेर। ….


सोना चांदी परदे धरिये ,
लोहा चौक धरिये।
काम पड़े झगडे में जावे ,
शूरवीरो से अडीये।
मन रे, सत री संगत करिये। टेर। ….


दया गरीबी और आधीनता ,
पापी तो रुळिये।
पुरखदास सतगुरु रे शरणे ,
भवसागर तिरिये।
मन रे, सत री संगत करिये। टेर। ….


जरूर पढ़ें :- मोको कहा ढूढ़े रे बन्दे

जरूर पढ़ें :- अचरज देखा भारी रे साधो

chetawani bhajan lyrics in hindi

~ sat re sangat kariye ~

sat ri sangat ra mahatam suniye,
ram sabha kariye.
surveero ra e hi lakshan,
samajh panv dhariye.
man re sat ri sangat kariye.


ram bhajan re karne,
minkha deh dhariye.
man re sat ri sangat kariye.


aikan ranga aikan varna,
aikan ghat ghadiye.
tapdhari ra dekh tamasha,
khama khama kariye.
man re sat ri sangat kariye.


sona chandi parde dhariye,
loha chok dhariye.
kam pade jhagde me jave,
surveero se adiye.
man re sat ri sangat kariye.


daya garibi or aadhinta ,
papi to ruliye.
purakhdas satguru re sharne,
bhavsagar tiriye.
man re sat ri sangat kariye.


जरूर पढ़ें :- इलाही नाम का सौदा 

जरूर पढ़ें :- ओम नाम का सुमिरन

चेतावनी भजन लिरिक्स मारवाड़ी

~ मन रे सत री संगत करिये ~

सत री संगत रा महातम सुनिये ,राम सभा करिये।
शूरवीरो रा ए ही लक्षण ,समझ पांव धरिये।
मन रे, सत री संगत करिये।

राम भजन रे कारणे ,मिनखा देह धरिये।
मन रे, सत री संगत करिये। टेर। ….

एकण रंगा एकण वरणा ,एकण घाट घड़िये।
तपधारी रा देख तमाशा ,खमा खमा करिये।
मन रे, सत री संगत करिये। टेर। ….

सोना चांदी परदे धरिये ,लोहा चौक धरिये।
काम पड़े झगडे में जावे ,शूरवीरो से अडीये।
मन रे, सत री संगत करिये। टेर। ….

दया गरीबी और आधीनता ,पापी तो रुळिये।
पुरखदास सतगुरु रे शरणे ,भवसागर तिरिये।
मन रे, सत री संगत करिये। टेर। ….

shyam vaishnav ke bhajan

भजन :- सत री संगत करिये
गायक :- श्याम लाल वैष्णव
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- अब तो दीदार दिखा दे

जरूर पढ़ें :- सत्संग में आके पापी पार

पिछला लेखमोको कहा ढूढ़े रे बन्दे भजन लिरिक्स | moko kahan dhunde re bande bhajan lyrics
अगला लेखरमतोड़ो साधु मोयो लाल लहरिये वाली भजन लिरिक्स | lal lahriye wali bhajan lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

15 + fourteen =