मोको कहा ढूढ़े रे बन्दे भजन लिरिक्स | moko kahan dhunde re bande bhajan lyrics

655

मोको कहा ढूढ़े रे बन्दे भजन लिरिक्स

मोको कहा ढूढ़े रे बन्दे भजन लिरिक्स, moko kahan dhunde re bande hindi chetawani bhajan lyrics

।। दोहा ।।
जो कुछ लिखा लिलाट पर, मेट सके ना कोय।
कोटि यतन करते फिरो, तो अनहोनी ना होय।


~ मोको कहा ढूढ़े रे बन्दे ~

मोको कहा ढूंढे रे बन्दे ,
में तो तेरे पास में।


ना तीरथ में ना मूरत में,
ना एकांत निवास में।
ना मंदिर में ना मस्जिद में ,
ना काशी कैलाश में।
मोको कहा ढूंढे रे बन्दे ,
में तो तेरे पास में। टेर। …..


ना में जप में ना में तप में ,
ना में वरत उपवास में।
ना में क्रिया कर्म में रहता ,
नहीं योग सन्यासी में।
मोको कहा ढूंढे रे बन्दे ,
में तो तेरे पास में। टेर। …..


नहीं प्राण में नहीं पिंड में ,
न ब्रमांड आकाश में।
ना में भृकुटि भंवर गुफा में ,
सब श्वासन की श्वास में।
मोको कहा ढूंढे रे बन्दे ,
में तो तेरे पास में। टेर। …..


खोजी होय तुरत मिल जाऊ ,
एक पल की ही तलाश में।
कहहि कबीर सुनो भाई साधो ,
सब सांसो की साँस में।
मोको कहा ढूंढे रे बन्दे ,
में तो तेरे पास में। टेर। …..


जरूर पढ़ें :- अचरज देखा भारी रे साधो

जरूर पढ़ें :-  इलाही नाम का सौदा कमाले

hindi chetawani bhajan lyrics in hindi

~ moko kahan dhunde re bande ~

moko kaha dhundhe re bande,
me to tere pas me.


na tirath me na murat me,
naa aikant nivas me.
na mandir me na masjid me,
na kashi kailash me.
moko kaha dhundhe re bande,
me to tere pas me.


na me jap me na me tap me,
na me varat upvas me.
na me kriya karm me rahta,
nhi yog sanyasi me.
moko kaha dhundhe re bande,
me to tere pas me.


nhi pran me nhi pind me,
n brahmand akash me.
na me bhrikuti bhanvar gufa me,
sab swasan ki swas me.
moko kaha dhundhe re bande,
me to tere pas me.


khoji hoy turat mil jau,
ek pal ki hi talash me.
kahi kabir suno bhai sadho,
sab sanso ki sans me.
moko kaha dhundhe re bande,
me to tere pas me.


जरूर पढ़ें :- ओम नाम का सुमिरन करले

जरूर पढ़ें :- अब तो दीदार दिखा दे

चेतावनी भजन लिरिक्स इन हिंदी

~ मोको कहा ढूढ़े रे बन्दे ~

मोको कहा ढूंढे रे बन्दे ,में तो तेरे पास में।

ना तीरथ में ना मूरत में,ना एकांत निवास में।
ना मंदिर में ना मस्जिद में ,ना काशी कैलाश में।
मोको कहा ढूंढे रे बन्दे ,में तो तेरे पास में। टेर। …..

ना में जप में ना में तप में ,ना में वरत उपवास में।
ना में क्रिया कर्म में रहता ,नहीं योग सन्यासी में।
मोको कहा ढूंढे रे बन्दे ,में तो तेरे पास में। टेर। …..

नहीं प्राण में नहीं पिंड में ,न ब्रमांड आकाश में।
ना में भृकुटि भंवर गुफा में ,सब श्वासन की श्वास में।
मोको कहा ढूंढे रे बन्दे ,में तो तेरे पास में। टेर। …..

खोजी होय तुरत मिल जाऊ ,एक पल की ही तलाश में।
कहहि कबीर सुनो भाई साधो ,सब सांसो की साँस में।
मोको कहा ढूंढे रे बन्दे ,में तो तेरे पास में। टेर। …..

neeraj arya ke bhajan

भजन :- मोको कहा ढूढ़े रे बन्दे
गायक :- नीरज आर्या
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- सत्संग में आके पापी पार हो जाता

जरूर पढ़ें :- संतो ! ज्ञान करे निर्मोही

पिछला लेखअचरज देखा भारी रे साधो भजन लिरिक्स | achraj dekha bhari re sadho bhajan lyrics
अगला लेखमन रे सत री संगत करिये भजन लिरिक्स | sat re sangat kariye bhajan lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

two × 1 =