अचरज देखा भारी रे साधो भजन लिरिक्स | achraj dekha bhari re sadho bhajan lyrics

1501

अचरज देखा भारी रे साधो भजन लिरिक्स

अचरज देखा भारी रे साधो भजन लिरिक्स, achraj dekha bhari re sadho desi chetawani bhajan lyrics

।। दोहा ।।
चलती चक्की देखके, दिया कबीरा रोय।
दो पाटन के बिच में, साबुत बचा ना कोय।


~ अचरज देखा भारी रे ~

अचरज देखा भारी रे साधो ,
अचरज देखा भारी रे।


गगन बिच में अमृत कुवा ,
झरे सदा सुख कारी रे।
पंगु पुरुष चढ़े बिना सीडी ,
पीवे भर भर झारी रे।
अचरज देखा भारी रे। टेर। ……


बिना बजाये नीनादन बाजे ,
घंटा शंख नंगारी रे।
बहिरा सुन सुन मस्त होत है ,
तन की खबर बिसारी रे।
अचरज देखा भारी रे। टेर। ……


बिना भूमि का महल बना है ,
ता में जोत उजियारी रे।
अँधा देख देख सुख पावे ,
बात बतावे सारी रे।
अचरज देखा भारी रे। टेर। ……


जीता मर कर के फिर जीवे ,
बिना भोजन बलधारी रे।
ब्रह्मानंद संत जन विरला ,
समझे बात हमारी रे।
अचरज देखा भारी रे। टेर। ……


जरूर पढ़ें :- इलाही नाम का सौदा

जरूर पढ़ें :- ओम नाम का सुमिरन करले

desi chetawani bhajan lyrics in hindi

~ achraj dekha bhari re sadho ~

acharaj dekha bhari re sadho,
acharaj dekha bhari re.


gagan bich me amrit kua,
jhare sada sukh kari re.
pangu purush chadhe bina sidi,
pive bhar bhar jhari re.
acharaj dekha bhari re.


bina bajaye ninandan baje,
ghanta shankh nangari re.
bahira sun sun mast hot hai,
tan ki khabar bisari re.
acharaj dekha bhari re.


bina bhumi ka mahal bana hai,
ta me jot ujiyari re.
andha dekh dekh sukh pave,
bat batave sari re.
acharaj dekha bhari re.


jeeta mar kar ke fir jive,
bina bhojan baldhari re.
brahmanand sant jan virla,
samjhe bat hamari re.
acharaj dekha bhari re sadho
acharaj dekha bhari re.


जरूर पढ़ें :- अब तो दीदार दिखा दे

जरूर पढ़ें :-  सत्संग में आके पापी 

मारवाड़ी चेतावनी भजन लिरिक्स

~ अचरज देखा भारी रे साधो ~

अचरज देखा भारी रे साधो ,अचरज देखा भारी रे।

गगन बिच में अमृत कुवा ,झरे सदा सुख कारी रे।
पंगु पुरुष चढ़े बिना सीडी ,पीवे भर भर झारी रे।
अचरज देखा भारी रे। टेर। ……

बिना बजाये नीनादन बाजे ,घंटा शंख नंगारी रे।
बहिरा सुन सुन मस्त होत है ,तन की खबर बिसारी रे।
अचरज देखा भारी रे। टेर। ……

बिना भूमि का महल बना है ,ता में जोत उजियारी रे।
अँधा देख देख सुख पावे ,बात बतावे सारी रे।
अचरज देखा भारी रे। टेर। ……

जीता मर कर के फिर जीवे ,बिना भोजन बलधारी रे।
ब्रह्मानंद संत जन विरला ,समझे बात हमारी रे।
अचरज देखा भारी रे। टेर। ……

ramesh puri goswami bhajan

भजन :- अचरज देखा भारी रे साधो
गायक :- रमेश पूरी गोस्वामी
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- संतो ! ज्ञान करे निर्मोही

जरूर पढ़ें :- मनाजी थारी उमर रेल ज्यू दौड़े 

पिछला लेखइलाही नाम का सौदा कमाले जिसका दिल चाहे भजन लिरिक्स | ilahi naam ka sauda bhajan lyrics
अगला लेखमोको कहा ढूढ़े रे बन्दे भजन लिरिक्स | moko kahan dhunde re bande bhajan lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

3 + seven =