संतो ! ज्ञान करे निर्मोही भजन लिरिक्स | santo gyan kare nirmohi bhajan lyrics

593

संतो ! ज्ञान करे निर्मोही भजन लिरिक्स

संतो ! ज्ञान करे निर्मोही भजन लिरिक्स, santo gyan kare nirmohi old desi chetawani bhajan lyrics

।। दोहा ।।
ब्रह्मज्ञान की रमझ में, नहीं समझ को काम।
होठ कंठ हाले नहीं तो,ताले लगे तमाम।


~ संतो ज्ञान करे निर्मोही ~

पुण्य पाप दोय प्रकट दिसे ,
छोड़ देवो दुखदाई।
सीधी राय पकड़ ले सेना ,
छोडो रे ठाग ठगाई।
संतो ! ज्ञान करे निर्मोही।


मन को मार भरमाना भागो ,
दान न लागे कोई।
संतो ! ज्ञान करे निर्मोही।


कर्म भरम रा भाखर भागो ,
पकड़ो ममता माई।
ममता मार मिसरी पीवो ,
छोडो मान बड़ाई।
संतो ! ज्ञान करे निर्मोही।


इच्छा आप अपरबल कहिजे ,
इसको जीता कोई।
जीता सोही ज्ञान से जीता ,
पूरी कीवी है पढाई।
संतो ! ज्ञान करे निर्मोही।


आपो छोड़ आपदा भेटे ,
वो मेरा गुरु भाई।
चंदनशाह चेतन रा डंका ,
पल्ला न पकड़े कोई।
संतो ! ज्ञान करे निर्मोही।


जरूर पढ़ें :- मनाजी थारी उमर रेल ज्यू दौड़े

जरूर पढ़ें :- साधु भाई ! मन से जाणे नर मोटा

old desi chetawani bhajan lyrics

~ santo gyan kare nirmohi ~

punye pap doy prakat dise,
chod devo dukhdai.
sidhi ray pakad le sena,
chodo re dhag dhagai.
santo gyan kare nirmohi.


man ko mar bharmana bhago,
dan ne lage koi.
santo gyan kare nirmohi.


karm bharam ra bhakhar bhago,
pakado mamata mai.
mamta mar misri pivo,
chodo man badai.
santo gyan kare nirmohi.


ichcha aap aparbal kahije,
esko jeeta koi.
jeeta sohi gyan se jita,
puri kivi hai padhai.
santo gyan kare nirmohi.


aapo chod aapda bhete,
wo mera guru bhai.
chandanshah chetan ra danka,
palla n pakade koi.
santo gyaan kare neermohi.


जरूर पढ़ें :- संतो अजर अमर घर पाया

जरूर पढ़ें :- साधु भाई अविगत लिखियो नी जाई

चेतावनी भजन लिरिक्स इन हिंदी

~ संतो ! ज्ञान करे निर्मोही ~

पुण्य पाप दोय प्रकट दिसे ,छोड़ देवो दुखदाई।
सीधी राय पकड़ ले सेना ,छोडो रे ठाग ठगाई।
संतो ! ज्ञान करे निर्मोही।

मन को मार भरमाना भागो ,दान न लागे कोई।
संतो ! ज्ञान करे निर्मोही।

कर्म भरम रा भाखर भागो ,पकड़ो ममता माई।
ममता मार मिसरी पीवो ,छोडो मान बड़ाई।
संतो ! ज्ञान करे निर्मोही।

इच्छा आप अपरबल कहिजे ,इसको जीता कोई।
जीता सोही ज्ञान से जीता ,पूरी कीवी है पढाई।
संतो ! ज्ञान करे निर्मोही।

आपो छोड़ आपदा भेटे ,वो मेरा गुरु भाई।
चंदनशाह चेतन रा डंका ,पल्ला न पकड़े कोई।
संतो ! ज्ञान करे निर्मोही।

jog bharti bhajan lyrics

भजन :- संतो ज्ञान करे निर्मोही
गायक :- जोग भारती
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- भजन बिना विरथा जनम गयो

जरूर पढ़ें :- म्हारो मन रे माला में पोई रे

पिछला लेखमनाजी थारी उमर रेल ज्यू दौड़े भजन लिरिक्स | mana ji thari umar rel jyu dodhe bhajan lyrics
अगला लेखसत्संग में आके पापी पार हो जाता भजन लिरिक्स | satsang me aa ke papi par ho jate bhajan lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

fourteen − 4 =