साधु भाई ! मन से जाणे नर मोटा भजन लिरिक्स | man se jane nar mota bhajan lyrics

375

साधु भाई ! मन से जाणे नर मोटा भजन लिरिक्स

साधु भाई ! मन से जाणे नर मोटा भजन लिरिक्स, man se jane nar mota bhajan lyrics desi chetawani bhajan lyrics

।। दोहा ।।
ब्रह्मज्ञान की रमझ में, नहीं समझ को काम।
होठ कंठ हेल नहीं तो, ताले लगे तमाम।


~ मन से जाणे नर मोटा ~

मोटा पणा री बात न जाणे ,
फिर फिर खावे गोता।
साधु भाई ! मन से जाणे नर मोटा।


मोटो ने मोटा सब केवे ,
ओ समझे में मोटा।
थोथा पण ने जाणे नाही ,
मोहि अकल रा टोटा।
साधु भाई ! मन से जाणे नर मोटा। टेर। ..


पापी धन कमावे पाप कर ,
ओ केवे में मोटा।
जमराज जी पकड़ ले जावे ,
पड़े धर्मराज घर सोटा।
साधु भाई ! मन से जाणे नर मोटा। टेर। ..


मोटा पणो उसी को कहिये ,
पद दुःख में दुखी होता।
ऐडा नर तो कोई एक कहिये ,
घणा गडकना लोटा।
साधु भाई ! मन से जाणे नर मोटा। टेर। ..


ऐ तो सोच समझ कर गाई ,
ये बोल नहीं खोटा।
बाबू केवे साँची कर समझो ,
में सब सु ही छोटा।
साधु भाई ! मन से जाणे नर मोटा। टेर। ..


जरूर पढ़ें :-  संतो अजर अमर घर पाया

जरूर पढ़ें :- साधु भाई अविगत लिखियो नी जाई

desi chetawani bhajan lyrics in hindi

~ man se jane nar mota ~

mota pana ri bat ne jane,
fir fir khave gota.
sadhu bhai man se jane nar mota.


moto ne mota sab keve,
o samjhe me mota.
thotha pan ne jane nahi,
mohi akal ra tota.
sadhu bhai man se jane nar mota.


papi dhan kamave pap kar,
o keve me mota.
jamraj ji pakad le jave,
pade dharmraj ghar sota.
sadhu bhai man se jane nar mota.


mota pano usi ko kahiye,
pad dukh me dukhi hota.
aida nar to koi ek kahiye,
ghana gadkana lota.
sadhu bhai man se jane nar mota.


ai to soch samjh kar gai,
ye bol nhi khota.
babu keve sanchi kar samjho,
me sab su hi chhota.
sadhu bhai man se jane nar mota.


जरूर पढ़ें :- भजन बिना विरथा जनम गयो

जरूर पढ़ें :-  म्हारो मन रे माला में पोई रे

मारवाड़ी निर्गुणी भजन लिरिक्स

~ साधु भाई ! मन से जाणे नर मोटा ~

मोटा पणा री बात न जाणे ,फिर फिर खावे गोता।
साधु भाई ! मन से जाणे नर मोटा।

मोटो ने मोटा सब केवे ,ओ समझे में मोटा।
थोथा पण ने जाणे नाही ,मोहि अकल रा टोटा।
साधु भाई ! मन से जाणे नर मोटा। टेर। ..

पापी धन कमावे पाप कर ,ओ केवे में मोटा।
जमराज जी पकड़ ले जावे ,पड़े धर्मराज घर सोटा।
साधु भाई ! मन से जाणे नर मोटा। टेर। ..

मोटा पणो उसी को कहिये ,पद दुःख में दुखी होता।
ऐडा नर तो कोई एक कहिये ,घणा गडकना लोटा।
साधु भाई ! मन से जाणे नर मोटा। टेर। ..

ऐ तो सोच समझ कर गाई ,ये बोल नहीं खोटा।
बाबू केवे साँची कर समझो ,में सब सु ही छोटा।
साधु भाई ! मन से जाणे नर मोटा। टेर। ..

भजन :- मन से जाणे नर मोटा
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- सुरता ने ले नी जगाय

जरूर पढ़ें :- चामडा की पुतली

पिछला लेखसंतो अजर अमर घर पाया भजन लिरिक्स | Ajar Amar Ghar Tali Lagi bhajan Lyrics
अगला लेखमनाजी थारी उमर रेल ज्यू दौड़े भजन लिरिक्स | mana ji thari umar rel jyu dodhe bhajan lyrics

1 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

6 − 2 =