म्हारो मन रे माला में पोई रे भजन लिरिक्स | Mahro Man Re Mala Me Poi re bhajan lyrics

1012

म्हारो मन रे माला में पोई रे भजन लिरिक्स

म्हारो मन रे माला में पोई रे भजन लिरिक्स, Mahro Man Re Mala Me Poi re satguru nirguni bhajan lyrics

।। दोहा ।।
ब्रह्मज्ञान की रमझ में, नहीं समझ को काम।
होठ कंठ हाले नहीं तो, ताले लगे तमाम।


~ म्हारो मन रे माला में पोई ~

ज्या ने ओहम सोहम में जोई रे ,
म्हारो मन रे माला में पोई रे।


सुख रा महल सोवना छाजा ,
टारी भरम देहड़ली रो राजा।
ज्या री अविगत से गति होई रे ,
म्हारो मन रे माला में पोई रे।
ज्या ने ओहम सोहम में जोई रे ,
म्हारो मन रे माला में पोई रे। टेर। …


तालो लागो तालुआ रे ओळे ,
सतगुरु बिना कैसे खोले।
ज्या री कूंची जगत कर जोई रे ,
म्हारो मन रे माला में पोई रे।
ज्या ने ओहम सोहम में जोई रे ,
म्हारो मन रे माला में पोई रे। टेर। …


पांच चोर जुगती से पकड़ो ,
तीन गुण निसंदेह कर हेरो।
ज्या री अविगत से गति जोई रे ,
म्हारो मन रे माला में पोई रे।
ज्या ने ओहम सोहम में जोई रे ,
म्हारो मन रे माला में पोई रे। टेर। …


शीतलनाथ संतोषी स्वामी ,
अंतर दास केवो गणनोमी।
ज्या ने दास कबीरसा जोई रे ,
म्हारो मन रे माला में पोई रे।
ज्या ने ओहम सोहम में जोई रे ,
म्हारो मन रे माला में पोई रे। टेर। …


जरूर पढ़ें :- सुरता ने ले नी जगाय

जरूर पढ़ें :- भजन कर ले सुमिरन करले

satguru nirguni bhajan lyrics in hindi

~ Mahro Man Re Mala Me Poi re ~

jya ne om soham me joi re,
mharo man re mala me poi re.


sukh ra mahal sovna chhaja,
tari bharam dehdali ro raja.
jya ri avigat se gati hoi re,
mharo man re mala me poi re.
jya ne om soham me joi re,
mharo man re mala me poi re.


talo lago talua re ole,
satguru bina kaise khole.
jya ri kunchi jagat kar joi re,
mharo man re mala me poi re.
jya ne om soham me joi re,
mharo man re mala me poi re.


panch chor jugti se pakdo,
teen gun nisandeh kar hero.
jya ri avigan se gati joi re,
mharo man re mala me poi re.
jya ne om soham me joi re,
mharo man re mala me poi re.


shitalnath santoshi swami,
antar das kevo gannomi.
jya ne das kabirsa joi re,
mharo man re mala me poi re.
jya ne om soham me joi re,
mharo man re mala me poi re.


जरूर पढ़ें :- म्हारो हिरदो सुनो राम बिना

जरूर पढ़ें :- हरि भजवा रे काज बनायो

जय गुरुदेव निर्गुण भजन लिरिक्स

~ म्हारो मन रे माला में पोई रे ~

ज्या ने ओहम सोहम में जोई रे ,म्हारो मन रे माला में पोई रे।

सुख रा महल सोवना छाजा ,टारी भरम देहड़ली रो राजा।
ज्या री अविगत से गति होई रे ,म्हारो मन रे माला में पोई रे।
ज्या ने ओहम सोहम में जोई रे ,म्हारो मन रे माला में पोई रे। टेर। …

तालो लागो तालुआ रे ओळे ,सतगुरु बिना कैसे खोले।
ज्या री कूंची जगत कर जोई रे ,म्हारो मन रे माला में पोई रे।
ज्या ने ओहम सोहम में जोई रे ,म्हारो मन रे माला में पोई रे। टेर। …

पांच चोर जुगती से पकड़ो ,तीन गुण निसंदेह कर हेरो।
ज्या री अविगत से गति जोई रे ,म्हारो मन रे माला में पोई रे।
ज्या ने ओहम सोहम में जोई रे ,म्हारो मन रे माला में पोई रे। टेर। …

शीतलनाथ संतोषी स्वामी ,अंतर दास केवो गणनोमी।
ज्या ने दास कबीरसा जोई रे ,म्हारो मन रे माला में पोई रे।
ज्या ने ओहम सोहम में जोई रे ,म्हारो मन रे माला में पोई रे। टेर। …

jog bharti bhajan lyrics

भजन :- म्हारो मन रे माला में पोई
गायक :- जोग भारती
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- जग में कायम कुण नर रहता

जरूर पढ़ें :- राधे कृष्णा बोल तेरा क्या लगेगा मोल

पिछला लेखसुरता ने ले नी जगाय पिंजर पड़ जासी भजन लिरिक्स | Surta Ne Le Ni Jagay bhajan lyrics
अगला लेखभजन बिना विरथा जनम गयो भजन लिरिक्स | bhajan bina virtha janam gayo bhajan lyrics

3 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

5 × one =