हरि भजवा रे काज बनायो मोहन मंदरियो भजन लिरिक्स | Ram Bhajan Ke Kaj Banayo mohan mandiriye bhajan lyrics

436

हरि भजवा रे काज बनायो मोहन मंदरियो भजन लिरिक्स

हरि भजवा रे काज बनायो मोहन मंदरियो भजन लिरिक्स, Ram Bhajan Ke Kaj Banayo mohan mandiriye chetawani bhajan lyrics

।। दोहा ।।
राम नाम भज्यो नहीं, कियो न हरि से हेत।
वो नर ऐसे जाएगा, ज्यू मूली का खेत।


~ हरि भजन रे काज बणायो ~

पांच तत्त्व और तीन गुणा से ,
रचियो मंदिरियो।
रचियो मन्दिर बैठो अंदर ,
श्याम सुन्दरियो।
हरि भजवा रे काज बणायो ,
मोहन मंदिरियो।
राम भजन रे काज बणायो ,
ओ तन देवलियो।


नव दरवाजा खुला पड़ा है ,
दशमो बंद रयो।
दसवां में बल्ब लगाकर देखो ,
आणंद कंद रयो।
हरि भजवा रे काज बणायो ,
मोहन मंदिरियो। टेर। ….


बिना जोत प्रकाश बिना ,
सूरज चंद रयो।
प्रकट देव दरशे नहीं रे ,
यु जग अंध रयो।
हरि भजवा रे काज बणायो ,
मोहन मंदिरियो। टेर। ….


राम नाम से वे मुक्त प्राणी ,
मोह में फंद रयो।
भवानीनाथ सतगुरुजी शरणे ,
चरणे चित्त धरयो।
हरि भजवा रे काज बणायो ,
मोहन मंदिरियो। टेर। ….


जरूर पढ़ें :- जग में कायम कुण नर रहता

जरूर पढ़ें :- राधे कृष्णा बोल तेरा क्या लगेगा मोल

chetawani bhajan lyrics in hindi

~ Ram Bhajan Ke Kaj Banayo ~

panch tattav or teen guna se,
rachiyo mandiriyo.
rachiyo mandir baitho andar,
shyam sundariyo.
hari bhajva re kaaj banayo,
mohan mandiriyo.
ram bhajan re kaj banayo,
o tan devliyo.


nav darwaja khula pada hai,
dashmo band ryo.
dasva me balb lagakar dekho,
aanand kand ryo.
hari bhajva re kaaj banayo,
mohan mandiriyo.


bina jot prakash bina,
suraj chand ryo.
prakat dev darshe nhi re,
yu jag andh ryo.
hari bhajva re kaaj banayo,
mohan mandiriyo.


ram naam se ve mukt prani,
moh me fand ryo.
bhawaninath satguru ji sharne,
charne chit dharyo.
hari bhajva re kaaj banayo,
mohan mandiriyo.


जरूर पढ़ें :- तेरे मन में राम तन में

जरूर पढ़ें :- गुथ लाई मालन सेवरा

देसी मारवाड़ी चेतावनी भजन लिरिक्स

~ हरि भजवा रे काज बनायो ~

पांच तत्त्व और तीन गुणा से ,रचियो मंदिरियो।
रचियो मन्दिर बैठो अंदर ,श्याम सुन्दरियो।
हरि भजवा रे काज बणायो ,मोहन मंदिरियो।
राम भजन रे काज बणायो ,ओ तन देवलियो।

नव दरवाजा खुला पड़ा है ,दशमो बंद रयो।
दसवां में बल्ब लगाकर देखो ,आणंद कंद रयो।
हरि भजवा रे काज बणायो ,मोहन मंदिरियो। टेर। ….

बिना जोत प्रकाश बिना ,सूरज चंद रयो।
प्रकट देव दरशे नहीं रे ,यु जग अंध रयो।
हरि भजवा रे काज बणायो ,मोहन मंदिरियो। टेर। ….

राम नाम से वे मुक्त प्राणी ,मोह में फंद रयो।
भवानीनाथ सतगुरुजी शरणे ,चरणे चित्त धरयो।
हरि भजवा रे काज बणायो ,मोहन मंदिरियो। टेर। ….

dhanraj joshi ke bhajan lyrics

भजन :- हरि भजन रे काज बणायो
गायक :- धनराज जोशी
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- साधु भाई ऐसी चाय चलाई

जरूर पढ़ें :- करो हरी का भजन प्यारे

पिछला लेखजग में कायम कुण नर रहता भजन लिरिक्स | jug me kayam kun nar rahta bhajan lyrics
अगला लेखम्हारो हिरदो सुनो राम बिना मने चेन नहीं आवे भजन लिरिक्स | ram bina mane chain nahi aave bhajan lyrics

5 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

3 + twelve =