आराम के साथी क्या क्या थे भजन लिरिक्स | aaram ke kya kya sathi the bhajan lyrics

769

आराम के साथी क्या क्या थे भजन लिरिक्स

आराम के साथी क्या क्या थे भजन लिरिक्स, aaram ke kya kya sathi the bhajan lyrics, desi chetawani bhajan lyrics

।। दोहा ।।
सतगुरु ऐसा कीजिये, लोभ मोह भ्रम नाही।
दरिया सुना ही रहे, दिसे दरिया माहि।


~ आराम के क्या क्या साथी थे ~

आराम के क्या क्या साथी थे ,
जब वक्त पड़ा तब कोई नहीं।
सब लोग है अपने मतलब के ,
दुनिया में किसी का कोई नहीं।


जब पैसा हमारे पास में था ,
तब दोस्त हमारे लाखो थे।
जब वक्त पड़ा वो मुश्किल का ,
तब पूछने वाला कोई नहीं।
आराम के क्या क्या साथी थे ,
जब वक्त पड़ा तब कोई नहीं। टेर। ….


माँ बाप तिरिया और पुत्रवधु ,
मतलब के है सब ही नाते।
जब हसने वाले लाखो थे ,
अब रोने वाला कोई नहीं।
आराम के क्या क्या साथी थे ,
जब वक्त पड़ा तब कोई नहीं। टेर। ….


कल बाग़ जो था फूलो से भरा ,
इठलाती हुई चलती थी हवा।
उस सम्बल गुल का जिकरा क्या ,
है खाक दरेबा कुछ भी नहीं।
आराम के क्या क्या साथी थे ,
जब वक्त पड़ा तब कोई नहीं। टेर। ….


ए बिंदु क्यों नाहक रोता है ,
तू होगा फ़ना इस बाग़ में कल।
रोना तेरा बेकार है सब ,
मिटटी में भरोसा कोई नहीं।
आराम के क्या क्या साथी थे ,
जब वक्त पड़ा तब कोई नहीं। टेर। ….


जरूर पढ़ें :- मन लोभी जिवडा हो गयो मोड़ो रे

जरूर पढ़ें :- में तो हीरो गमादियो कचरा में

desi chetawani bhajan lyrics in hindi

~ aaram ke kya kya sathi the ~

aaram ke kya kya sathi the,
jab vak pada tab koi nhi.
sab log hai apne matlab ke,
duniya me kisi ka koi nhi.


jab paisa hamare pas me tha,
tab dost hamare lakho the.
jab vakt pada wo mushkil ka,
tab puchne wala koi nhi.
aaram ke kya kya sathi the,
jab vak pada tab koi nhi.


maa bap tiriya or putrvadhu,
matlab ke hai sab hi nate.
jab hasne wale lakho the,
ab rone wala koi nhi.
aaram ke kya kya sathi the,
jab vak pada tab koi nhi.


kal bag jo tha fulo se bhara,
ethlati hui chalti thi hava.
us sambal gul ka jikra kya,
hai khak dareba kuch bhi nhi.
aaram ke kya kya sathi the,
jab vak pada tab koi nhi.


a bindu kyu nahak rota hai,
tu hoga fana es bag me kal.
rona tera bekar hai sab,
mitti me bharosa koi nhi.
aaram ke kya kya sathi the,
jab vak pada tab koi nhi.


जरूर पढ़ें :- जाति रो कारण है नहीं संतो

जरूर पढ़ें :- मैं तो उन रे संता रो हूँ दास

मारवाड़ी चेतावनी भजन लिरिक्स

~ आराम के साथी क्या क्या थे ~

आराम के क्या क्या साथी थे ,जब वक्त पड़ा तब कोई नहीं।
सब लोग है अपने मतलब के ,दुनिया में किसी का कोई नहीं।

जब पैसा हमारे पास में था ,तब दोस्त हमारे लाखो थे।
जब वक्त पड़ा वो मुश्किल का ,तब पूछने वाला कोई नहीं।
आराम के क्या क्या साथी थे ,जब वक्त पड़ा तब कोई नहीं। टेर। ….

माँ बाप तिरिया और पुत्रवधु ,मतलब के है सब ही नाते।
जब हसने वाले लाखो थे ,अब रोने वाला कोई नहीं।
आराम के क्या क्या साथी थे ,जब वक्त पड़ा तब कोई नहीं। टेर। ….

कल बाग़ जो था फूलो से भरा ,इठलाती हुई चलती थी हवा।
उस सम्बल गुल का जिकरा क्या ,है खाक दरेबा कुछ भी नहीं।
आराम के क्या क्या साथी थे ,जब वक्त पड़ा तब कोई नहीं। टेर। ….

ए बिंदु क्यों नाहक रोता है ,तू होगा फ़ना इस बाग़ में कल।
रोना तेरा बेकार है सब ,मिटटी में भरोसा कोई नहीं।
आराम के क्या क्या साथी थे ,जब वक्त पड़ा तब कोई नहीं। टेर। ….

kishor paliwal ke bhajan

भजन :- आराम के क्या क्या साथी थे
गायक :- किशोर पालीवाल
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- दौड़ा जाए रे समय का घोड़ा 

जरूर पढ़ें :- प्रेम का मार्ग बांका रे

पिछला लेखमन लोभी जिवडा हो गयो मोड़ो रे दिन रयो थोड़ो भजन लिरिक्स | Din Riyo Thodo Re bhajan lyrics
अगला लेखभजन री लागी वे सो जाणे गाफिल काहि जाणे भाई भजन लिरिक्स | Bhajan Ri Lagi Ve So Jane bhajan lyrics

5 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

four × 2 =