हरि का नाम सुमिर सुखधाम जगत में जीना दो दिन का भजन लिरिक्स | hari ka naam sumar sukh dham bhajan lyrics

557

हरि का नाम सुमिर सुखधाम जगत में जीना दो दिन का भजन लिरिक्स

हरि का नाम सुमिर सुखधाम जगत में जीना दो दिन का भजन लिरिक्स, hari ka naam sumar sukh dham hindi bhajan lyrics

~ हरी का नाम सुमिर सुख धाम ~

हरि का नाम सुमिर सुखधाम ,
जगत में जीना दो दिन का।


पाप कपट कर माया जोड़ी ,
गरब करे धन का।
सभी छोड़ कर चला मुसाफिर ,
वास हुआ वन का।
हरि का नाम सुमिर सुखधाम ,
जगत में जीना दो दिन का। टेर। ….


सुन्दर काया देख लुभाया ,
लाड करे तन का।
छूटा श्वास बिखर गई देहि ,
ज्यू माला मण का।
हरि का नाम सुमिर सुखधाम ,
जगत में जीना दो दिन का। टेर। ….


जोबन नारी लागे प्यारी ,
मौज करे मन का।
काळ बलि का लागे तमाचा ,
भूल जाए ठनका।
हरि का नाम सुमिर सुखधाम ,
जगत में जीना दो दिन का। टेर। ….


यह संसार स्वपन की माया ,
मेला पल छीन का।
ब्रह्मनंद भजन कर बन्दे ,
नाथ निरंजन का।
हरि का नाम सुमिर सुखधाम ,
जगत में जीना दो दिन का। टेर। ….


जरूर पढ़ें :- नहीं चाहिए दिल दुखाना किसी का

जरूर पढ़ें :- करना है तो कोई पुण्य कर्म

hindi bhajan lyrics in hindi

~ hari ka naam sumar sukh dham ~

hari ka naam sumir sukh dham,
jagat me jina do din ka.


pap kapat kar maya jodi,
garab kare dhan ka.
sabhi chhod kar chala musafir,
vas hua van ka.
hari ka naam sumir sukh dham,
jagat me jina do din ka.


sundar kaya dekh lubhaya,
lad kare tan ka.
chuta shwas bikhar gai dehi,
jyu mala man ka.
hari ka naam sumir sukh dham,
jagat me jina do din ka.


joban nari lage pyari,
moj kare man ka.
kal bali ka lage tamacha,
bhul jay thanka.
hari ka naam sumir sukh dham,
jagat me jina do din ka.


yah sansar swapan ki maya,
mela pal chhin ka.
brahmanand bhajan kar bande,
nath nirajan ka.
hari ka naam sumir sukh dham,
jagat me jina do din ka.


जरूर पढ़ें :- पांय लागू जी महाराज बिड़द बंका

जरूर पढ़ें :- राम सिया संग आवजो

हिंदी भजन संग्रह लिरिक्स

~ हरि का नाम सुमिर सुखधाम ~

हरि का नाम सुमिर सुखधाम ,जगत में जीना दो दिन का।

पाप कपट कर माया जोड़ी ,गरब करे धन का।
सभी छोड़ कर चला मुसाफिर ,वास हुआ वन का।
हरि का नाम सुमिर सुखधाम ,जगत में जीना दो दिन का। टेर। ….

सुन्दर काया देख लुभाया ,लाड करे तन का।
छूटा श्वास बिखर गई देहि ,ज्यू माला मण का।
हरि का नाम सुमिर सुखधाम ,जगत में जीना दो दिन का। टेर। ….

जोबन नारी लागे प्यारी ,मौज करे मन का।
काळ बलि का लागे तमाचा ,भूल जाए ठनका।
हरि का नाम सुमिर सुखधाम ,जगत में जीना दो दिन का। टेर। ….

यह संसार स्वपन की माया ,मेला पल छीन का।
ब्रह्मनंद भजन कर बन्दे ,नाथ निरंजन का।
हरि का नाम सुमिर सुखधाम ,जगत में जीना दो दिन का। टेर। ….

chitralekha ji ke bhajan lyrics

भजन :- हरी का नाम सुमिर सुखधाम
गायिका :- चित्रलेखा जी
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- मेरी नैया में लक्ष्मण राम गंगा मैया

जरूर पढ़ें :- राम नाम अति मीठा है

पिछला लेखतूने हीरा सो जन्म गवायो रे भजन बिना बावरे भजन लिरिक्स | tune hira sa janam gavayo re bhajan lyrics
अगला लेखप्रेम का मार्ग बांका रे भजन लिरिक्स | prem ra marag baka re bhajan lyrics

5 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

5 + 17 =