ले सतगुरु की शरण तिरण रो मोको आयो भजन लिरिक्स | manva le satguru ki sharan tiran ro avsar aayo re bhajan lyrics

584

ले सतगुरु की शरण तिरण रो मोको आयो भजन लिरिक्स

ले सतगुरु की शरण तिरण रो मोको आयो भजन लिरिक्स, manva le satguru ki sharan tiran ro avsar aayo re bhajan lyrics

।। दोहा ।।
संत मिलन को चालिये, तज माया अभिमान।
ज्यू ज्यू पग आगे धरे, कोटि यज्ञ समान।


~ तिरण रो मोको आयो रे ~

अवसर आयो रे ,
तिरण रो मोको आयो रे।
मनवा ले सतगुरु की शरण,
तिरण रो मोको आयो रे।


शुभ कर्मो से नर तन पायो ,
अब तक सोच समझ नहीं लायो।
बनकर आयो बिन्द नींद में ,
कैसे सोयो रे।
मनवा ले सतगुरु की शरण,
तिरण रो मोको आयो रे। टेर। ….


जो तुम अपनी मुक्ति चावो ,
दस दोषो को दूर हटावो।
पानी पेली पाळ बांध ले ,
गाफिल क्यों सोयो रे।
मनवा ले सतगुरु की शरण,
तिरण रो मोको आयो रे। टेर। ….


चोरी चारी और जिव हत्या ,
निन्दा बतिया गाली बखिया।
हरष शोक अभिमान झूठ ,
दस दोष बतायो रे।
मनवा ले सतगुरु की शरण,
तिरण रो मोको आयो रे। टेर। ….


राजा रावण और शिशुपाला ,
जरासंध बाणासुर मारा।
बड़ा बड़ा भूप हुआ धरण पर ,
पतों नी पायो रे।
मनवा ले सतगुरु की शरण,
तिरण रो मोको आयो रे। टेर। ….


ये दिन सारा बीत जावेला ,
फिर चौरासी पे मिलणा वेला।
झूठ कपट रो छोड़ मारग ओ ,
सीधो बतायो रे।
मनवा ले सतगुरु की शरण,
तिरण रो मोको आयो रे। टेर। ….


रामानंद गुरु साँची केवे ,
जाग जिव गुरु हेला देवे ,
कहे कबीर विचार मिनख तन ,
मुश्किल पायो रे।
मनवा ले सतगुरु की शरण,
तिरण रो मोको आयो रे। टेर। ….


जरूर पढ़ें :- फस गयो मकड़ी का झाला में 

जरूर पढ़ें :- कोई बतावो जोगी आवतो 

chetawani bhajan lyrics in hindi

~  manva le satguru ki sharan ~

avasar aayo re ,
tiran ro moko aayo re .
manva le satguru ki sharan,
tiran ro moko aayo re.


subh karmo se nar tan payo,
ab tak soch samajh nhi layo.
bankar aayo bind nind me,
kaise soyo re.
manav le satguru ki sharan,
tiran ro moko aayo re.


jo tum apni mukti chavo ,
das dosho ko dur hatavo.
pani peli pal bandh le,
gafil kyu soyo re.
manav le satguru ki sharan,
tiran ro moko aayo re.


chor chari or jiv hatya,
ninda batiya gali bakhiya.
harsh shok abiman jhuth,
das dosh batayo re.
manav le satguru ki sharan,
tiran ro moko aayo re.


raja ravan or shishupala,
jarasandh banasur mara.
bada bada bhup hua dharan par,
pato ni payo re.
manav le satguru ki sharan,
tiran ro moko aayo re.


ye din sara beet javela,
fir chorasi pe milna vela.
jhuth kapat ro chhod marag o,
sidho batayo re.
manav le satguru ki sharan,
tiran ro moko aayo re.


ramanad guru sanchi keve,
jag jiv guru hela deve.
kahe kabir vichar minakh tan,
mushkil payo re .
manav le satguru ki sharan,
tiran ro moko aayo re.


जरूर पढ़ें :- लिख दिया विधाता लेख

जरूर पढ़ें :- शरणो सतगुरा रो सांचो

चेतावनी भजन लिखित में

~ मनवा ले सतगुरु की शरण ~

अवसर आयो रे ,तिरण रो मोको आयो रे।
मनवा ले सतगुरु की शरण,तिरण रो मोको आयो रे।

शुभ कर्मो से नर तन पायो ,अब तक सोच समझ नहीं लायो।
बनकर आयो बिन्द नींद में ,कैसे सोयो रे।
मनवा ले सतगुरु की शरण,तिरण रो मोको आयो रे। टेर। ….

जो तुम अपनी मुक्ति चावो ,दस दोषो को दूर हटावो।
पानी पेली पाळ बांध ले ,गाफिल क्यों सोयो रे।
मनवा ले सतगुरु की शरण,तिरण रो मोको आयो रे। टेर। ….

चोरी जारी और जिव हत्या ,निन्दा बतिया गाली बखिया।
हरष शोक अभिमान झूठ ,दस दोष बतायो रे।
मनवा ले सतगुरु की शरण,तिरण रो मोको आयो रे। टेर। ….

राजा रावण और शिशुपाला ,जरासंध बाणासुर मारा।
बड़ा बड़ा भूप हुआ धरण पर ,पतों नी पायो रे।
मनवा ले सतगुरु की शरण,तिरण रो मोको आयो रे। टेर। ….

ये दिन सारा बीत जावेला ,फिर चौरासी पे मिलणा वेला।
झूठ कपट रो छोड़ मारग ओ ,सीधो बतायो रे।
मनवा ले सतगुरु की शरण,तिरण रो मोको आयो रे। टेर। ….

रामानंद गुरु साँची केवे ,जाग जिव गुरु हेला देवे ,
कहे कबीर विचार मिनख तन ,मुश्किल पायो रे।
मनवा ले सतगुरु की शरण,तिरण रो मोको आयो रे। टेर। ….

gopal das vaishnav bhajan lyrics

भजन :- तिरण रो मोको आयो रे
गायक :- गोपाल दास वैष्णव
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- मेरे मालिक की दुकान में

जरूर पढ़ें :- सैया सतगुरु भले आया है

पिछला लेखफस गयो मकड़ी का झाला में भजन लिरिक्स | fas gayo makdi ka jhala me bhajan lyrics
अगला लेखकर्मो की है ये माया कर्मो के खेल सारे भजन लिरिक्स | karmo ki hai ye maya bhajan lyrics

5 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

eighteen − nine =