शरणो सतगुरा रो सांचो ए भजन लिरिक्स | sharno sadgura ro sancho bhajan lyrics

423

शरणो सतगुरा रो सांचो ए भजन लिरिक्स

शरणो सतगुरा रो सांचो ए भजन लिरिक्स, sharno sadgura ro sancho bhajan lyrics, satguru ke bhajan lyrics in hindi

।। दोहा ।।
सतगुरु तुमसे विनती, नाम देवो बख्शीश।
सांचो सतगुरु जांच के नवला, धरियो चरण में शीश।


~ शरणो सतगुरा रो सांचो ~

शरणो सतगुरा रो सांचो ए।
दर्द मिटायो इण जिव रो ,
दिनों जीवत पाछो ए।


गुरु जामण इण जिव रा,
भव सागर तारिया।
जम से झगड़ा जित ने ,
सुख सागर रा लाया।
शरणो सतगुरा रो सांचो ए। टेर। …


शिष्य पथरी गुरु आग है ,
भव सागर रा लाया।
साधु जन चकमक हो रया ,
लागो सेजा मेला।
शरणो सतगुरा रो सांचो ए। टेर। …


आठ प्रहर गुरुदेव जी ,
हिरदा माय वासो।
गिगन धुरे भी जावसी ,
सुन मय प्रकाशो।
शरणो सतगुरा रो सांचो ए। टेर। …


चार वेद पहुंचे नहीं ,
ऐसो गुरु प्रकाशो।
जुग सपना री साहिबी ,
गावे नवलो दासो।
शरणो सतगुरा रो सांचो ए। टेर। …


जरूर पढ़ें :- मेरे मालिक की दुकान में

जरूर पढ़ें :- सैया सतगुरु भले आया है

satguru ke bhajan lyrics in hindi

~ sharno sadgura ro sancho ~

sharno satguru ro sancho e.
dard mitayo en jiv ro,
dino jivat pachho e.


guru jaman en jiv ra,
bhav sagar tariya.
jam se jhagda jit ne,
sukh sagar ra laya.
sharno satguru ro sancho e.


shishy pathari guru aag hai,
bhav sagar ra laya.
sadhu jan chakmak ho raya,
lago seja mela.
sharno satguru ro sancho e.


aath prahar gurudev ji,
hirda may vaso.
gigan dhure bhi javsi,
sun may prakasho.
sharno satguru ro sancho e.


char ved pahuche nhi,
aiso guru prakasho.
jug sapna ri sahibi,
gave navlo daso.
sharno satguru ro sancho e.


जरूर पढ़ें :- करना है तो कोई पुण्य कर्म कर

जरूर पढ़ें :- रावलियो जोगी लम्बो है

सतगुरु भजन लिखित में

~ शरणो सतगुरा रो सांचो ~

शरणो सतगुरा रो सांचो ए।
दर्द मिटायो इण जिव रो ,दिनों जीवत पाछो ए।

गुरु जामण इण जिव रा, भाव सागर तारिया।
जम से झगड़ा जित ने ,सुख सागर रा लाया।
शरणो सतगुरा रो सांचो ए। टेर। …

शिष्य पथरी गुरु आग है ,भव सागर रा लाया।
साधु जन चकमक हो रया ,लागो सेजा मेला।
शरणो सतगुरा रो सांचो ए। टेर। …

आठ प्रहर गुरुदेव जी ,हिरदा माय वासो।
गिगन धुरे भी जावसी ,सुन मय प्रकाशो।
शरणो सतगुरा रो सांचो ए। टेर। …

चार वेद पहुंचे नहीं ,ऐसो गुरु प्रकाशो।
जुग सपना री साहिबी ,गावे नवलो दासो।
शरणो सतगुरा रो सांचो ए। टेर। …

moinuddin manchala ke bhajan

भजन :- शरणो सतगुरा रो सांचो
गायक :- मोइनुद्दीन मनचला
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- सुरता रंग महल चाल

जरूर पढ़ें :- सुता शेर जंगल का राजा

पिछला लेखमेरे मालिक की दुकान में सब लोगों का खाता भजन लिरिक्स | mere malik ki dukan mein sab logon ka khata bhajan lyrics
अगला लेखलिख दिया विधाता लेख नहीं टलने का भजन लिरिक्स | likh diya vidhata lekh nahi talne ka bhajan lyrics

4 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

13 − 12 =