सैया सतगुरु भले आया है भजन लिरिक्स | saiya satguru bhal aaya hai bhajan lyrics

947

सैया सतगुरु भले आया है भजन लिरिक्स

सैया सतगुरु भले आया है भजन लिरिक्स, saiya satguru bhal aaya hai satguru mahima bhajan lyrics in hindi

।। दोहा ।।
धनगुरु करताराम जी, तुम री फुक अथाय।
नो दरवाजा आनंद सदाई नवला, सतगुरु सेवा माय।


~ सईया सतगुरु भल आया है ~

सईया ! सतगुरु भल आया है।
गर हर गाजियों इण शहर में ,
आनंद बरसाया है।
सईया ! सतगुरु भल आया है।


दर्द मिटायो इण जिव रो ,
तन री तपत बुझासा।
जुगन जुगन रा जिव अळुझिया ,
सतगुरु सुलझासा।
सईया ! सतगुरु भल आया है। टेर। ..


भवसागर रा भय मिटाया ,
जम जाल हटाया।
कर किरपा गुरुदेव जी ,
सत सबद सुनाया।
सईया ! सतगुरु भल आया है। टेर। ..


जड़ पूजा सब छोड़ ने ,
सतगुरु फ़रमाया।
पारस लागो इण अंग रे ,
कंचन कर थाया।
सईया ! सतगुरु भल आया है। टेर। ..


रैण अंधारो सारो मेट ने ,
सपना सर्व हटाया।
कहे नवलो किरपा भई ,
दिन रैण जगाया।
सईया ! सतगुरु भल आया है। टेर। ..


जरूर पढ़ें :- म्हारा सतगुरु दीनदयाल

जरूर पढ़ें :- मन मेरा सतगुरु आया बंजारा

satguru mahima bhajan lyrics in hindi

~ saiya satguru bhal aaya hai ~

saiya satguru bhal aaya hai.
gar har gajiyo en sahar me,
aanand barsaya hai.
saiyya satguru bhal aaya hai.


dard mitayo en jiv ro,
tan ri tapat bujhasa.
jugan jugan ra jiv alujhiya,
satguru suljhasa.
saiyya satguru bhal aaya hai.


bhavsagar ra bhay mitaya,
jam jaal hataya.
kar kirpa guruv ji,
sat sabad sunaya.
saiyya satguru bhal aaya hai.


jad puja sab chod ne,
satguru farmaya.
paras lago en ang re,
kanchan kar thaya.
saiya satguru bhal aaya hai.


rain andharo saro met ne,
sapna sarv hataya.
kahe navlo kirpa bhai ,
din rain jagaya.
saiya satguru bhal aaya hai.


जरूर पढ़ें :- रमझम रेल चलाई रे जोगिया

जरूर पढ़ें :- साधु भाई बेगम देश हमारा

गुरुदेव भजन लिरिक्स इन हिंदी

~ सैया सतगुरु भले आया है ~

सईया ! सतगुरु भल आया है।
गर हर गाजियों इण शहर में ,आनंद बरसाया है।
सईया ! सतगुरु भल आया है।

दर्द मिटायो इण जिव रो ,तन री तपत बुझासा।
जुगन जुगन रा जिव अळुझिया ,सतगुरु सुलझासा।
सईया ! सतगुरु भल आया है। टेर। ..

भवसागर रा भय मिटाया ,जम जाल हटाया।
कर किरपा गुरुदेव जी ,सत सबद सुनाया।
सईया ! सतगुरु भल आया है। टेर। ..

जड़ पूजा सब छोड़ ने ,सतगुरु फ़रमाया।
पारस लागो इण अंग रे ,कंचन कर थाया।
सईया ! सतगुरु भल आया है। टेर। ..

रैण अंधारो सारो मेट ने ,सपना सर्व हटाया।
कहे नवलो किरपा भई ,दिन रैण जगाया।
सईया ! सतगुरु भल आया है। टेर। ..

moinuddin manchala ke bhajan

भजन :- सईया सतगुरु भल आय है
गायक :- मोइनुद्दीन मनचला
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- जिणरो परमारथ म्हारो

जरूर पढ़ें :- खेतेश्वर खेड़ा में जनमिया

पिछला लेखकरना है तो कोई पुण्य कर्म कर भजन लिरिक्स | karna hai to koi punya karam kar bhajan lyrics
अगला लेखमेरे मालिक की दुकान में सब लोगों का खाता भजन लिरिक्स | mere malik ki dukan mein sab logon ka khata bhajan lyrics

4 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

19 + nine =