जो थारो मनवो कियो नही माने दोष गुरा ने मत दीजे भजन लिरिक्स | Bhakti raji vene kije bhajan lyrics

5939

जो थारो मनवो कियो नही माने दोष गुरा ने मत दीजे भजन लिरिक्स

जो थारो मनवो कियो नही माने दोष गुरा ने मत दीजे भजन लिरिक्स Bhakti raji vene kije bhajan lyrics bhakti bhajan lyrics

।। दोहा ।।
आया था किस काम को, सोया चादर तान।
सूरत संभल ए गाफिल, अपने आपको पहचान।


~ भगती राजी वेय ने कीजे ~

जो थारो मनवो कयो नहीं माने ,
दोष गुरा ने मत दीजे ।
भगती राजी वेय ने कीजे।


पर निंदरा कुबद कटारी ,
ए पहला तज लीजे।
कर श्रद्धा सतगुरुजी रे आगे ,
हिम्मत हार मत रिजे।
भगती राजी वेय ने कीजे।
जो थारो मनवो कयो नहीं माने ,
दोष गुरा ने मत दीजे । टेर।


शीश उतार धरो गुरु शरणे ,
तन मन अपर्ण कीजे।
जो थारो मनवो कयो नहीं माने ,
दोष गुरा ने मत दीजे ।
भगती राजी वेय ने कीजे। टेर।


सतगुरु स्वामी मुगती रा दाता ,
उनका ही शरणा लीजे।
जो थारो मनवो कयो नहीं माने ,
दोष गुरा ने मत दीजे ।
भगती राजी वेय ने कीजे। टेर।


केवे कबीर सुणो भाई साधो ,
तुंरत तैयारी कर लीजे।
जो थारो मनवो कयो नहीं माने ,
दोष गुरा ने मत दीजे ।
भगती राजी वेय ने कीजे। टेर।


जरूर पढ़ें :- क्यों नैना भरमावे जी

जरूर पढ़ें :- तेरा कब कब आना होई

bhakti bhajan lyrics in hindi

~ Bhakti raji vene kije ~

jo tharo manvo kayo nhi mane,
dosh gura ne mat dije.
bhagti raji vey ne kije.


par nindra kubad katari,
a pahla taj lije.
kar shrdha satguruji re aage,
himmat haar mat rije.
bhagti raji vey ne kije.
jo tharo manvo kayo nhi mane,
dosh gura ne mat dije.


shish utar dharo guru sharne,
tan man arpan kije.
jo tharo manvo kayo nhi mane,
dosh gura ne mat dije.
bhagti raji vey ne kije.


satguru swami mugti ra data,
unka hi sharna lije.
jo tharo manvo kayo nhi mane,
dosh gura ne mat dije.
bhagti raji vey ne kije.


keve kabir suno bhai sadho,
turant taiyari kar lije.
jo tharo manvo kayo nhi mane,
dosh gura ne mat dije.
bhagti raji vey ne kije.


जरूर पढ़ें :- भक्ति जोर जबर मेरा भाई

जरूर पढ़ें :- पीले अमीरस धारा गगन में

चेतावनी भक्ति भजन लिरिक्स

~ जो थारो मनवो कियो नही माने ~

जो थारो मनवो कयो नहीं माने ,दोष गुरा ने मत दीजे ।
भगती राजी वेय ने कीजे।

पर निंदरा कुबद कटारी ,ए पहला तज लीजे।
कर श्रद्धा सतगुरुजी रे आगे ,हिम्मत हार मत रिजे।
भगती राजी वेय ने कीजे।
जो थारो मनवो कयो नहीं माने ,दोष गुरा ने मत दीजे । टेर।

शीश उतार धरो गुरु शरणे ,तन मन अपर्ण कीजे।
जो थारो मनवो कयो नहीं माने ,दोष गुरा ने मत दीजे ।
भगती राजी वेय ने कीजे । टेर।

सतगुरु स्वामी मुगती रा दाता ,उनका ही शरणा लीजे।
जो थारो मनवो कयो नहीं माने ,दोष गुरा ने मत दीजे ।
भगती राजी वेय ने कीजे । टेर।

केवे कबीर सुणो भाई साधो ,तुंरत तैयारी कर लीजे।
जो थारो मनवो कयो नहीं माने ,दोष गुरा ने मत दीजे ।
भगती राजी वेय ने कीजे । टेर।

ladu nath yogi ke bhajan

भजन :- भगती राजी वेय ने कीजे
गायक :- लादू नाथ जी
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- रमता जोगी ने मारा आदेश देना

जरूर पढ़ें :- मत ले रे जिवडा नींद हरामी 

पिछला लेखक्यों नैना भरमावे जी थारे हाथ कबीर नहीं आवे जी भजन लिरिक्स | Thare Hath Kabiro Nahi aave ji bhajan lyrics
अगला लेखहालो दीवाना यहाँ क्यों बैठा आगे तो मौज मजा की है भजन लिरिक्स | Halo Deewana Yaha Kyu Betha bhajan lyrics

2 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

11 + three =