काया तेरी नगरी में बोलता है कौन भजन लिरिक्स | kaya teri nagari me bolta hai kon bhajan lyrics

2421

काया तेरी नगरी में बोलता है कौन भजन लिरिक्स

काया तेरी नगरी में बोलता है कौन भजन लिरिक्स, kaya teri nagari me bolta hai kon kabir saheb ke chetawani bhajan lyrics

।। दोहा ।।
आये है तो जायेगा, राजा रंक फकीर।
ऐक सिंहासन चढ़ि चले, ऐक बांधे जंजीर।


~ काया तेरी नगरी में ~

काया तेरी नगरी में ,
बोलता है कोन।
बोलता है कोन काया ,
बोलता है कोन।
काया तेरी नगरी में ,
बोलता है कोन।


आप बाग़ और आप बगीचा।
ये काची पाकी कलियाँ ने ,
तोड़ता है कोन।
काया तेरी नगरी में ,
बोलता है कोन। टेर।


आप ही ताला आप ही कूची।
बंध ताला को ये ,
खोलता है कोन।
काया तेरी नगरी में ,
बोलता है कोन। टेर।


आप ही सोये आप ही जागे।
सोते सोते सपने में ,
बोलता है कोन।
काया तेरी नगरी में ,
बोलता है कोन। टेर।


कहेत कबीर सुणो भाई साधु।
बिना तराजू जग ने ,
तोलता है कोन।
काया तेरी नगरी में ,
बोलता है कोन। टेर।


जरूर पढ़ें :- नगर में चोर आवेगा

जरूर पढ़ें :- चार पंडित काशी से आया

kabir saheb ke chetawani bhajan lyrics in hindi

~ kaya teri nagari me bolta hai kon ~

kaya teri nagari me,
bolta hai kon.
bolta hai kon kaya ,
bolta hai kon .
kaya teri nagari me ,
bolta hai kon.


aap baag or aap bagicha.
ye kachi paki kaliya ne,
tolta hai kon.
kaya teri nagari me ,
bolta hai kon.


aap hi tala aap hi kuchi.
bandh tala ko ye,
kholta hai kon.
kaya teri nagari me ,
bolta hai kon.


aap hi soye aap hi jage.
sote sote sapne me,
bolta hai kon.
kaya teri nagari me ,
bolta hai kon.


kahet kabir suno bhai sadhu.
bina taraju jag ne ,
tolta hai kon.
kaya teri nagari me ,
bolta hai kon.


जरूर पढ़ें :- सुण सुण ये मारी काया ये रंगीली

जरूर पढ़ें :- कलजुग झाला देतो आवे रे 

कबीर चेतावनी भजन लिरिक्स

~ काया तेरी नगरी में बोलता है कौन ~

काया तेरी नगरी में ,बोलता है कोन।
बोलता है कोन काया ,बोलता है कोन।
काया तेरी नगरी में ,बोलता है कोन।

आप बाग़ और आप बगीचा।
ये काची पाकी कलियाँ ने ,तोड़ता है कोन।
काया तेरी नगरी में ,बोलता है कोन। टेर।

आप ही ताला आप ही कूची।
बंध ताला को ये ,खोलता है कोन।
काया तेरी नगरी में ,बोलता है कोन। टेर।

आप ही सोये आप ही जागे।
सोते सोते सपने में ,बोलता है कोन।
काया तेरी नगरी में ,बोलता है कोन। टेर।

कहेत कबीर सुणो भाई साधु।
बिना तराजू जग ने ,तोलता है कोन।
काया तेरी नगरी में ,बोलता है कोन। टेर।

rekha garg ke bhajan lyrics

भजन :- काया तेरी नगरी में बोलता है कोन
गायिका :- रेखा गर्ग
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- थोड़ी देर सबर कोई कर जातो

जरूर पढ़ें :- तेरे दया धर्म नहीं मन में 

पिछला लेखसुण सुण ये मारी काया ये रंगीली भजन लिरिक्स | sun sun ye mari kaya ye rangili bhajan lyrics
अगला लेखपांच गाँव मारे पांडवों ने देवो भजन लिरिक्स | paanch gaav pandva ne dedo bhajan lyrics

4 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

twelve − three =