थे तो धरनी पधारिया गंगा माय त्रिवेणी थाने अरज करा भजन लिरिक्स | The To Dharni Padhariya Ganga bhajan lyrics

357

थे तो धरनी पधारिया गंगा माय त्रिवेणी थाने अरज करा भजन लिरिक्स

थे तो धरनी पधारिया गंगा माय भजन लिरिक्स The To Dharni Padhariya Ganga bhajan lyrics, ganga maiya ke bhajan

।। दोहा ।।
गंगा जमना सरस्वती, भागीरथ रे भाव।
मृत्यु लोक में गंगा लायो, तप ने एकण पाँव।


~ थे तो धरणी पधारया गंगा ~

थे तो धरणी पधारया गंगा मांय ,
त्रिवेणी थाने अरज करा।


भागीरथ जलम्यो दलीप रे ,
सगर कुल रे मांय।
गंगा लावण ने तप कियो रे ,
घोर तपस्या रे मांय।
थे तो धरणी पधारया गंगा मांय ,
त्रिवेणी थाने अरज करा। टेर।


गंगा प्रसन्न हुई भक्त पर ,
दर्शन दिया आय।
कयो वेग ने कुण रोकेला ,
जाऊ में रसातल रे मांय।
थे तो धरणी पधारया गंगा मांय ,
त्रिवेणी थाने अरज करा। टेर।


भागीरथ शिव री करी तपस्या ,
राली जटा रे मांय।
धारा छूटी पन्थ बुवार ,
गंगा ने सागर ले जाय।
थे तो धरणी पधारया गंगा मांय ,
त्रिवेणी थाने अरज करा। टेर।


गंगा कयो हरिद्वार सु ,
कुम्भ कलश ले जाय।
डांगडी रात मोक्ष करावे ,
जल सु पवित्र हो जाय।
थे तो धरणी पधारया गंगा मांय ,
त्रिवेणी थाने अरज करा। टेर।


माली छंवर के गंगा भेज्या ,
पितरा ने स्वर्ग रे मांय।
आय गंगाजी सु रात जगावो ,
आवा गमन मिट जाय।
थे तो धरणी पधारया गंगा मांय ,
त्रिवेणी थाने अरज करा। टेर।


जरूर पढ़ें :- घणी घणी खम्मा मैय्या 

जरूर पढ़ें :- यहाँ वहाँ जहाँ तहाँ

ganga maiya ke bhajan lyrics in hindi

~ The To Dharni Padhariya Ganga ~

the to dharni padharya ganga may,
trivani thane araj kara.


bhagirath jalmyo dalip re,
sagar kul re maay.
ganga lavan ne tap kiyo re,
ghor tapsya re maay.
the to dharni padharya ganga may,
trivani thane araj kara.


ganga prasann hue bhakt par,
darshan diya aay.
kayo veg ne kun rokela,
jau me rasatal re maay.
the to dharni padharya ganga may,
trivani thane araj kara.


bhagirath shiv ri kari tapsya,
rali jata re maay.
dhara chuti panth buvar ,
ganga ne sagar le jaay.
the to dharni padharya ganga may,
trivani thane araj kara.


ganga kayo haridwar su,
kumbh kalash le jaay.
dangadi rat moksh karave,
jal su pavitra ho jaay.
the to dharni padharya ganga may,
trivani thane araj kara.


mali chhanvar ke ganga bhejya,
pitra ne swarg re maay.
aay gangaji su rat jagavo,
aava gaman mit jaay.
the to dharni padharya ganga may,
trivani thane araj kara.


जरूर पढ़ें :- जगदम्बा मैया सुण लो अरज हमारी

जरूर पढ़ें :- भगता ऊपर बंक्यारानी

गंगा मैया के भजन लिरिक्स

~ थे तो धरनी पधारिया गंगा माय ~

थे तो धरणी पधारया गंगा मांय ,त्रिवेणी थाने अरज करा।

भागीरथ जलम्यो दलीप रे ,सगर कुल रे मांय।
गंगा लावण ने तप कियो रे ,घोर तपस्या रे मांय।
थे तो धरणी पधारया गंगा मांय ,त्रिवेणी थाने अरज करा। टेर।

गंगा प्रसन्न हुई भक्त पर ,दर्शन दिया आय।
कयो वेग ने कुण रोकेला ,जाऊ में रसातल रे मांय।
थे तो धरणी पधारया गंगा मांय ,त्रिवेणी थाने अरज करा। टेर।

भागीरथ शिव री करी तपस्या ,राली जटा रे मांय।
धारा छूटी पन्थ बुवार ,गंगा ने सागर ले जाय।
थे तो धरणी पधारया गंगा मांय ,त्रिवेणी थाने अरज करा। टेर।

गंगा कयो हरिद्वार सु ,कुम्भ कलश ले जाय।
डांगडी रात मोक्ष करावे ,जल सु पवित्र हो जाय।
थे तो धरणी पधारया गंगा मांय ,त्रिवेणी थाने अरज करा। टेर।

माली छंवर के गंगा भेज्या ,पितरा ने स्वर्ग रे मांय।
आय गंगाजी सु रात जगावो ,आवा गमन मिट जाय।
थे तो धरणी पधारया गंगा मांय ,त्रिवेणी थाने अरज करा। टेर।

moinuddin manchala ke mata rani ke bhajan

भजन :- थे तो धरणी पधारया गंगा
गायक :- मोइनुद्दीन मनचला
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- सच्चियाय माता जी ने बार बार

जरूर पढ़ें :- बिलाड़ा में जावणा

पिछला लेखघणी घणी खम्मा मैय्या लीनो अवतार भजन लिरिक्स | ghani ghani khamma maiya lino avtar bhajan lyrics
अगला लेखअंजनी के लाल आछी रे संजीवन बूटी लायो भजन लिरिक्स | anjani ke re lal achi re sarjivan buti layo lyrics

1 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

nineteen + fifteen =