रावण के देश गयो सिया को संदेशो लायो भजन लिरिक्स | ravan ke desh gayo bhajan lyrics

324

रावण के देश गयो सिया को संदेशो लायो भजन लिरिक्स

रावणा के देश गयो सिया को संदेशो लायो भजन लिरिक्स ravan ke desh gayo shri hanuman ji ke bhajan lyrics

।। दोहा ।।
हनुमत तेरी धाक से, धूजे लंका कोट।
पायक हो श्री राम, बाला पेरे लाल लंगोट।


~ रावण के देश गयो ~

रावण के देश गयो ,
सिया को संदेशो लायो।
कबहुँ न किनी बाला ,
बात अभिमान की।


राक्षसों को मार डाला ,
वाटिका उजाड़ डारी।
दहशत मानी नहीं ,
रावण बलवान की।
रावण के देश गयो ,
सिया को संदेशो लायो। टेर।


क्षण में समुन्दर लांग्यो ,
पल में पहाड़ लायो।
लायो संजीवनी बूटी ,
लक्मण प्राण की।
रावण के देश गयो ,
सिया को संदेशो लायो। टेर।


सुण ओ भरत भैया ,
दुहाई दशरथ जी की।
हनुमंत ना हो तो ,
कोंन लातो जानकी।
रावण के देश गयो ,
सिया को संदेशो लायो। टेर।


तुलसीदास आसा रघुवर की।
बलिहारी जाऊ में तो ,
बलि हनुमान की।
रावण के देश गयो ,
सिया को संदेशो लायो। टेर।


जरूर पढ़ें :- सो सो सूरमा के बीच में

जरूर पढ़ें :- चालो जी चालो चालो बालाजी रे धाम

shri hanuman ji ke bhajan lyrics in hindi

~ ravan ke desh gayo ~

ravan ke desh gayo,
siya ko sandesho layo.
kabahu n kini bala,
baat abhiman ki.


rakshso ko mar dala,
vatika ujad dari.
dahashat mani nhi,
ravan balvan ki.
rawan ke desh gayo,
siya ko sandesho layo.


kshan me samundar lagyo,
pal me pahad layo.
layo sanjivani buti,
laxman pran ki,
ravan ke desh gayo,
siya ko sandesho layo.


sun o bharat bhaiya,
huhai dasharth ji ki.
hanumant na ho to,
kon lato janki.
ravan ke desh gayo,
siya ko sandesho layo.


tulsi das aasa raghuvar ki.
balihari jau me to,
bali hanuman ki.
ravan ke desh gayo,
siya ko sandesho layo.


जरूर पढ़ें :- राम सिया संग आवजो 

जरूर पढ़ें :- मेरी नैया में लक्ष्मण राम

बजरंगबली के भजन लिरिक्स

~ रावण के देश गयो ~

रावण के देश गयो ,सिया को संदेशो लायो।
कबहुँ न किनी बाला ,बात अभिमान की।

राक्षसों को मार डाला ,वाटिका उजाड़ डारी।
दहशत मानी नहीं ,रावण बलवान की।
रावण के देश गयो ,सिया को संदेशो लायो। टेर।

क्षण में समुन्दर लांग्यो ,पल में पहाड़ लायो।
लायो संजीवनी बूटी ,लक्मण प्राण की।
रावण के देश गयो ,सिया को संदेशो लायो। टेर।

सुण ओ भरत भैया ,दुहाई दशरथ जी की।
हनुमंत ना हो तो ,कोंन लातो जानकी।
रावण के देश गयो ,सिया को संदेशो लायो। टेर।

तुलसीदास आसा रघुवर की।
बलिहारी जाऊ में तो ,बलि हनुमान की।
रावण के देश गयो ,सिया को संदेशो लायो। टेर।

ramnivas rao ke bhajan

भजन :- रावण के देश गयो
गायक :- रामनिवास राव
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- ब्रज रा मोरिया

जरूर पढ़ें :- थोड़ी देर सबर कोई कर जातो

पिछला लेखसो सो सूरमा के बीच में अकेलो बालाजी भजन लिरिक्स | so so surma ke beech mein bhajan lyrics
अगला लेखपांय लागू जी महाराज बिड़द बंका भजन लिरिक्स | Paaye Lagu Ji Maharaj bhajan lyrics

4 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

seven − 4 =