मोर छड़ी लहराई रे रसिया ओ सांवरे भजन लिरिक्स | Mor Chadi Lehrai Re bhajan lyrics

302

मोर छड़ी लहराई रे रसिया ओ सांवरे भजन लिरिक्स

मोर छड़ी लहराई रे रसिया ओ सांवरे भजन लिरिक्स Mor Chadi Lehrai Re khatu shyam ke bhajan lyrics

।। दोहा ।।
मेट दिये भक्तो के संकट, तूने बातो ही बात में।
खाटू वाले जब लहराई, मोर छड़ी तेरे हाथ में।


~ मोर छड़ी लहराई रे ~

मोर छड़ी लहराई रे।
रसिया ओ सांवरा ,
तेरी बहुत बड़ी सकलाई रे।


श्याम बहादुर दर्शन को आये ,
ताले मंदिर के बंद पाये।
मोर छड़ी से ताले को खोला ,
शीश झुका कर बाबा से बोला।
रसिया ओ सांवरा ,
तेरी बहुत बड़ी सकलाई रे।
मोर छड़ी लहराई रे। टेर।


मोर छड़ी का जादू निराला ,
इसको थामे है खाटू वाला।
लीले चढ़ के दौड़ा ये आये ,
सारे संकट पल में मिटाये।
रसिया ओ सांवरा ,
तेरी बहुत बड़ी सकलाई रे।
मोर छड़ी लहराई रे। टेर।


मोर छड़ी की महिमा है भारी ,
श्याम धणी को लागे है प्यारी।
हर्ष कहे रोतो को हसाये ,
हाथो में जब तेरे लहराये।
रसिया ओ सांवरा ,
तेरी बहुत बड़ी सकलाई रे।
मोर छड़ी लहराई रे। टेर।


जरूर पढ़ें :- जोगीड़ा ने जादू कीनो रे

जरूर पढ़ें :- थारा सु मनड़ो लागो रे

khatu shyam ke bhajan lyrics

~ Mor Chadi Lehrai Re ~

mor chadi laharai re,
rasiya o sanwra,
teri bahut badi saklai re.


shyam bahadur darshan ko aaye,
tale mandir ke band paye.
mor chadi se tale ko khola,
shish jhuka kar baba se bola.
rasiya o sanwra,
teri bahut badi saklai re.
mor chadi laharai re.


mor chadi ka jadu nirala,
esko thame hai khatu wala.
lile chad ke dodha ye aaye,
sare sankat pal me mitaye.
rasiya o sanwra,
teri bahut badi saklai re.
mor chadi laharai re.


mor chadi ki mahima hai bhari,
shyam dhani ko lage hai pyari.
harsh kahe roto ko hasaye,
hatho me jab tere laharaye.
rasiya o sanwra,
teri bahut badi saklai re.
mor chadi laharai re.


जरूर पढ़ें :- कन्हैया हिंडो गाल्यो रे

जरूर पढ़ें :- आज मायरो भरदे नानी बाई को

खाटू श्याम के भजन लिरिक्स

~ मोर छड़ी लहराई रे ~

मोर छड़ी लहराई रे।
रसिया ओ सांवरा ,तेरी बहुत बड़ी सकलाई रे।

श्याम बहादुर दर्शन को आये ,ताले मंदिर के बंद पाये।
मोर छड़ी से ताले को खोला ,शीश झुका कर बाबा से बोला।
रसिया ओ सांवरा ,तेरी बहुत बड़ी सकलाई रे।
मोर छड़ी लहराई रे। टेर।

मोर छड़ी का जादू निराला ,इसको थामे है खाटू वाला।
लीले चढ़ के दौड़ा ये आये ,सारे संकट पल में मिटाये।
रसिया ओ सांवरा ,तेरी बहुत बड़ी सकलाई रे।
मोर छड़ी लहराई रे। टेर।

मोर छड़ी की महिमा है भारी ,श्याम धणी को लागे है प्यारी।
हर्ष कहे रोतो को हसाये ,हाथो में जब तेरे लहराये।
रसिया ओ सांवरा ,तेरी बहुत बड़ी सकलाई रे।
मोर छड़ी लहराई रे। टेर।

ramesh choudhary ke bhajan

भजन :- मोर छड़ी लहराई रे
गायक :- रमेश चौधरी
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- बार बार यूं कहे ब्राह्मणी

जरूर पढ़ें :- मेरा आपकी कृपा से

पिछला लेखजोगीड़ा ने जादू कीनो रे म्हारो तन मन बांधे लीनो भजन लिरिक्स | Jogida Ne Jadu Kino Re bhajan lyrics
अगला लेखघुंघरू छम छमा छम बाजे रे मीराबाई का भजन लिरिक्स | ghunghru chham chhama chham baje re bhajan lyrics

3 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

one − one =