नीली निम्बड़ी रे जिका जरमरिया सा पान भजन लिरिक्स | neeli limbadi re bhajan lyrics

341

नीली निम्बड़ी रे जिका जरमरिया सा पान भजन लिरिक्स

नीली निम्बड़ी रे जिका जरमरिया सा पान भजन लिरिक्स neeli limbadi re chandra sakhi ke bhajan hindi lyrics

~ नीली निम्बड़ी रे ~

नीली लिम्बडी रे ,
जिणरा झरमरिया सा पान।
झरमरिया सा पान जिणरा ,
हरिया हरिया पान।


मोहन पांवणो रे ,
म्हारे घर जीमण बेगो आय।
में तो जिमसु रे ,
म्हारी राधा के घर जाय।
राधा के घर जाय ,
प्यारी राधा के घर जाय।
नीली लिम्बडी रे ,
जिणरा झरमरिया सा पान।


ऐ किशन पांवणो रे ,
म्हारे घर नहावण बेगो आय।
में तो नहावसु रे ,
म्हारी राधा के घर जाय।
नीली लिम्बडी रे ,
जिणरा झरमरिया सा पान।


मोहन पांवणो रे ,
म्हारे घर पोढण बेगो आय।
में तो पोढसु रे ,
प्यारी राधा के घर जाय।
नीली लिम्बडी रे ,
जिणरा झरमरिया सा पान।


किशनजी पांवणो रे ,
म्हारे घर झूलण बेगो आय।
में तो झुलसू रे ,
म्हारी राधा के घर जाय।
नीली लिम्बडी रे ,
जिणरा झरमरिया सा पान।


किशन जी आवजो रे ,
थारी चंद्रसखी बिलखाय।
उडीकू अकेली ओ ,
म्हाने दीजो दर्श दिखाय।
नीली लिम्बडी रे ,
जिणरा झरमरिया सा पान।


जरूर पढ़ें :- आओ मारा नटवर नागरिया

जरूर पढ़ें :- जय बोलो बाबे री

chandra sakhi ke bhajan hindi lyrics

~ neeli limbadi re ~

neeli limbadi re ,
jinra jharmariya sa paan.
jharmariya sa paan jinra,
hariya hariya paan .


mohan panvano re,
mhare ghar jiman bego aay.
me to jimsu re,
mhari radha ke ghar jaay.
radha ke ghar jaay,
pyari radha ke ghar jaay.
neeli limbadi re ,
jinra jharmariya sa paan.


ai kishan panvano re,
mhare ghar nahavan bego aay.
me to nahavsu re,
mhari radha ke ghar jaay.
neeli limbadi re ,
jinra jharmariya sa paan.


mohan panavno re,
mhare ghar podhan bego aay.
me to pudhsu re,
pyari radha ke ghar jaay.
neeli limbadi re ,
jinra jharmariya sa paan.


kishan j panvano re,
mhare ghar jhulan bego aay.
me to jhulsu re,
mhari radha ke ghar jaay.
neeli limbadi re ,
jinra jharmariya sa paan.


kishan ji aavjo re,
thari chandsakhi bilkhay .
udiku akeli o,
mhane dijo dharsh dikhay.
neeli limbadi re ,
jinra jharmariya sa paan.


जरूर पढ़ें :- जय धजा बंद धारी

जरूर पढ़ें :- माने जाणो रे भाया रुणिचा अर्जेन्ट

चंद्र सखी के भजन लिरिक्स

~ नीली निम्बड़ी रे ~

नीली लिम्बडी रे ,जिणरा झरमरिया सा पान।
झरमरिया सा पान जिणरा ,हरिया हरिया पान।

मोहन पांवणो रे ,म्हारे घर जीमण बेगो आय।
में तो जिमसु रे ,म्हारी राधा के घर जाय।
राधा के घर जाय ,प्यारी राधा के घर जाय।
नीली लिम्बडी रे ,जिणरा झरमरिया सा पान।

ऐ किशन पांवणो रे ,म्हारे घर नहावण बेगो आय।
में तो नहावसु रे ,म्हारी राधा के घर जाय।
नीली लिम्बडी रे ,जिणरा झरमरिया सा पान।

मोहन पांवणो रे ,म्हारे घ पोढण बेगो आय।
में तो पोढसु रे ,प्यारी राधा के घर जाय।
नीली लिम्बडी रे ,जिणरा झरमरिया सा पान।

किशनजी पांवणो रे ,म्हारे घर झूलण बेगो आय।
में तो झुलसू रे ,म्हारी राधा के घर जाय।
नीली लिम्बडी रे ,जिणरा झरमरिया सा पान।

किशना जी आवजो रे ,थारी चंद्रसखी बिलखाय।
उडीकू अकेली ओ ,म्हाने दीजो दर्श दिखाय।
नीली लिम्बडी रे ,जिणरा झरमरिया सा पान।

bhagwat suthar ke bhajan

भजन :- नीली निम्बड़ी रे
गायक :- भगवत सुथार
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- बाबा रो आयो घोड़लो

जरूर पढ़ें :- गेरी गेरी बिरखा भाया

पिछला लेखआओ मारा नटवर नागरिया भजन लिरिक्स | aao mhara natwar nagariya bhajan lyrics
अगला लेखझूला झूले रे कन्हैया लाल कदम की डाली भजन लिरिक्स | jhula jhule re kanhaiya lal bhajan lyrics

2 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

fifteen − 4 =