जय धजा बंद धारी भजन लिरिक्स | jai dhajaband dhari bhajan lyrics

274

जय धजा बंद धारी भजन लिरिक्स

जय धजा बंद धारी भजन लिरिक्स, jai dhajaband dhari baba ramdev ji ke marwadi desi bhajan lyrics

।। दोहा ।।
चालो हरजी देवरे ,झठे मिलसी रामापीर।
दुखिया ने सुखिया करे बाबो साजा करे शरीर।


~ जय धजाबन्द धारी ~

सांचो है दरबार आपरो ,
कळजुग रा अवतारी।
जय धजाबन्द धारी ,
जय धजाबन्द धारी।


भादरवै री बीज चांदनी ,
अजमल रे घर आया जी।
जनम कोख सु लीनो नाहि ,
पालणिये प्रकटाया जी।
कुंकु पगल्या आंगण माड्या ,
हरखी दुनिया सारी।
जय धजाबन्द धारी ,
जय धजाबन्द धारी। टेर।


गाँव रूणिचो धाम आपरो ,
भगता रे मन भावे जी।
दूर दूर सु दर्शन करवा ,
पैदल पैदल आवे जी।
बूढ़ा टाबर और लुगाया ,
आवे नित दुखियारी।
जय धजाबन्द धारी ,
जय धजाबन्द धारी। टेर।


जात पात रो भेद बापजी ,
जग सु आप मिटायो जी।
भगती रो मारग भगता ने ,
बाबा आप दिखायो जी।
दीन दुखी रा हो रखवाळा ,
आप बड़ा उपकारी।
जय धजाबन्द धारी ,
जय धजाबन्द धारी। टेर।


रामदेव री महिमा मोटी ,
दास अशोक सुणावे जी।
निज चरणा में चाकर राखो ,
चरणा शीश नमावे जी।
अब के बेड़ो पार लगावो ,
आयो शरण तिहारी।
जय धजाबन्द धारी ,
जय धजाबन्द धारी। टेर।


जरूर पढ़ें :- माने जाणो रे भाया

जरूर पढ़ें :- बाबा रो आयो घोड़लो

baba ramdev ji ke marwadi desi bhajan lyrics

~ jai dhajaband dhari ~

sancho hai darbar aapro,
kaljug ra avatari.
jay dhajaband dhari,
jay dhajaband dhari.


bhadarve ri beej chandani,
ajmal re ghar aaya ji.
janam kokh su lino nahi,
palniye prakataya ji.
kunku paglya aangan madhya,
harkhi duniya saari.
jay dhajaband dhari,
jay dhajaband dhari.


ganv runicho dham aapro,
bhagata re man bhave ji.
dur dur su darshan karva,
pedal pedal aave ji.
budha tabar or lugaya,
aave nit dukhiyari.
jay dhajaband dhari,
jay dhajaband dhari.


jaat paat ro bhed bapji,
jag su aap mitayo ji.
bhagati ro marag bhagta ne ,
baba aap dikhayo ji.
deen dukhi ra ho rakhawala,
aap bada upkari.
jay dhajaband dhari,
jay dhajaband dhari.


ramdev ri mahima moti,
daas ashok sunave ji.
nij charna me chakar rakho,
charna shish namave ji.
ab ke bedo paar lagavo,
aayo sharan tihari.
jay dhajaband dhari,
jay dhajaband dhari.


जरूर पढ़ें :- गेरी गेरी बिरखा भाया

जरूर पढ़ें :- खम्मा खम्मा रामापीर अवतारी

रामापीर के भजन मारवाड़ी में

~ जय धजा बंद धारी ~

सांचो है दरबार आपरो ,कळजुग रा अवतारी।
जय धजाबन्द धारी ,जय धजाबन्द धारी।

भादरवै री बीज चांदनी ,अजमल रे घर आया जी।
जनम कोख सु लीनो नाहि ,पालणिये प्रकटाया जी।
कुंकु पगल्या आंगण माड्या ,हरखी दुनिया सारी।
जय धजाबन्द धारी ,जय धजाबन्द धारी। टेर।

गाँव रूणिचो धाम आपरो ,भगता रे मन भावे जी।
दूर दूर सु दर्शन करवा ,पैदल पैदल आवे जी।
बूढ़ा टाबर और लुगाया ,आवे नित दुखियारी।
जय धजाबन्द धारी ,जय धजाबन्द धारी। टेर।

जात पात रो भेद बापजी ,जग सु आप मिटायो जी।
भगती रो मारग भगता ने ,बाबा आप दिखायो जी।
दीन दुखी रा हो रखवाळा ,आप बड़ा उपकारी।
जय धजाबन्द धारी ,जय धजाबन्द धारी। टेर।

रामदेव री महिमा मोटी ,दास अशोक सुणावे जी।
निज चरणा में चाकर राखो ,चरणा शीश नमावे जी।
अब के बेड़ो पार लगावो ,आयो शरण तिहारी।
जय धजाबन्द धारी ,जय धजाबन्द धारी। टेर।

dilip gavaiya ke marwadi bhajan

भजन :- जय धजाबन्द धारी
गायक :- दिलीप गवैया
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- थारे भरोसे रे रामदेव

जरूर पढ़ें :- सोना वालो पालणो

पिछला लेखमाने जाणो रे भाया रुणिचा अर्जेन्ट भजन | mane jano re bhaya runicha arjent bhajan lyrics
अगला लेखजय बोलो बाबे री जय बोलो भजन लिरिक्स | Jai Bolo Babe Ri bhajan lyrics

3 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

eight − 7 =