रूणीचा री धरती उपर जाऊ वारी वारी भजन लिरिक्स | Runicha Ri Dharti Upar bhajan lyrics

998

रूणीचा री धरती उपर जाऊ वारी वारी भजन लिरिक्स

रूणीचा री धरती उपर जाऊ वारी वारी भजन Runicha Ri Dharti Upar ramdev ji ke desi bhajan lyrics

।। दोहा ।।
भादरवे री दशम रो ,मेलो भरिजे भरपूर।
आंधा लंगड़ा कोढ़िया रे ,आवे धणी रे द्वार।


~ रूणिचा री धरती ऊपर ~

रूणिचा री धरती ऊपर ,
जाऊ वारि वारि ओ।
धोरा धरती बण्यो देवरो ,
धजा फरुके भारी ओ।
ऊँचा ऊँचा धोरा माथे ,
धजा फ़रुके भारी ओ।


अजमाल जी रा कंवर लाडला ,
मेणा दे रा लाला ओ।
बाई सुगणा रा बीर रामदेव ,
थारी कीरत भारी ओ।
रूणिचा री धरती ऊपर ,
जाऊ वारि वारि ओ। टेर।


आंधा ने बाबो देवे अखियाँ ,
पांगळिया ने पाँव जी।
सोवन भालो हाथ में सोहे ,
लीले री असवारी जी।
रूणिचा री धरती ऊपर ,
जाऊ वारि वारि ओ। टेर।


बोयता री जहाज तिराई ,
समदरिया रे माहि ओ।
चौपड़ रमता भुजा पसारी ,
लीला थारी भारी ओ।
रूणिचा री धरती ऊपर ,
जाऊ वारि वारि ओ। टेर।


दूर देशा रा आवे जातरू ,
आवे नर और नारी ओ।
सागर केवे चल रुणिचे ,
भीड़ मची भगता री ओ।
रूणिचा री धरती ऊपर ,
जाऊ वारि वारि ओ। टेर।


जरूर पढ़ें :- रुणिचा रा नाथ हेलो सुणजो

जरूर पढ़ें :- बोले तन्दुरा रा तार

ramdev ji ke desi bhajan lyrics

~ Runicha Ri Dharti Upar ~

runicha ri dharti upar,
jau vari vari o.
dhora dharti banyo devro,
dhaja faruke bhari o.
ucha ucha dhora mathe,
dhaja faruke bhari o.


ajmal ji ra kavar ladla,
mena de ra lala o.
bai sugna ra beer ramdev,
thari kirat bhari o.
runicha ri dharti upar,
jau vari vari o.


aandha ne babo deve akhiya,
pangliya ne pan ji.
sovan bhalo hath me sohe,
lile ri aswari jo.
runicha ri dharti upar,
jau vari vari o.


boyta ri jahaj tirai,
samdariya re mahi o.
chopad ramta bhuja pasari,
lila thari bhari o.
runicha ri dharti upar,
jau vari vari o.


dur desha ra aave jatru,
aave nar or nari o.
sagar keve chal runiche,
bhid machi bhagta ri o.
runicha ri dharti upar,
jau vari vari o.


जरूर पढ़ें :- में तो आया थारे आसरे

जरूर पढ़ें :- घोड़लियो बजावे है घुघरिया

रामदेव बाबा के भजन मारवाड़ी लिरिक्स

~ रूणीचा री धरती उपर ~

रूणिचा री धरती ऊपर ,जाऊ वारि वारि ओ।
धोरा धरती बण्यो देवरो ,धजा फरुके भारी ओ।
ऊँचा ऊँचा धोरा माथे ,धजा फ़ारुके भारी ओ।

अजमाल जी रा कंवर लाडला ,मेणा दे रा लाला ओ।
बाई सुगणा रा बीर रामदेव ,थारी कीरत भारी ओ।
रूणिचा री धरती ऊपर ,जाऊ वारि वारि ओ। टेर।

आंधा ने बाबो देवे अखियाँ ,पांगळिया ने पाँव जी।
सोवन भालो हाथ में सोहे ,लीले री असवारी जी।
रूणिचा री धरती ऊपर ,जाऊ वारि वारि ओ। टेर।

बोयता री जहाज तिराई ,समदरिया रे माहि ओ।
चौपड़ रमता भुजा पसारी ,लीला थारी भारी ओ।
रूणिचा री धरती ऊपर ,जाऊ वारि वारि ओ। टेर।

दूर देशा रा आवे जातरू ,आवे नर और नारी ओ।
सागर केवे चल रुणिचे ,भीड़ मची भगता री ओ।
रूणिचा री धरती ऊपर ,जाऊ वारि वारि ओ। टेर।

bhanwar ali bikaner ke bhajan

रूणिचा री धरती ऊपर
गायक :- भंवर अली बीकानेर
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- रुनझुन बाजे घुघरा

जरूर पढ़ें :- भादवा री बीज बाबा

पिछला लेखरुणिचा रा नाथ हेलो सुणजो भजन लिरिक्स | Runicha Ra Nath Helo Sunjo bhajan lyrics
अगला लेखरूपालो मंदिर थारो सोवणो रे भजन लिरिक्स | rupalo mandir tharo sovno re bhajan lyrics

4 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

fourteen − 6 =