आवोनी पधारो मारे आंगणिये खेतेश्वर भजन लिरिक्स | aavo ni padharo mhare aanganiye kheteshwar lyrics

344

आवोनी पधारो मारे आंगणिये खेतेश्वर भजन लिरिक्स

आवोनी पधारो मारे आंगणिये खेतेश्वर भजन लिरिक्स, aavo ni padharo mhare aanganiye kheteshwar bhajan lyrics

 ।। दोहा ।।
धिन धरती आसोतरा , धिन धिन ब्रह्मा समाज।
धिन खेतेश्वर बापजी ,सरो सब रा काज।


~ पधारो मारे आंगणिये खेतेश्वर ~

आवो नी पधारो ,
मारे आंगणिये खेतेश्वर।
मात पिता हो दाता थे ही गुरुवर ,
मारा प्यारा ओ परमेश्वर।


उग्या सु आथमता दाता ,
खेतेश्वर ने टेरता।
सुतोडा सपना में बाबा ,
खेतेश्वर ने देखता।
प्रेम रा प्याला पाया भर भर कर ,
मारा प्यारा ओ परमेश्वर।
आवो नी पधारो ,
मारे आंगणिये खेतेश्वर। टेर।


जठे देखु उठे नजर ,
खेतेश्वर आवता।
घर घर में और गली गली में ,
भजना में गावता।
पार लगावो माने भवसागर ,
मारा प्यारा ओ परमेश्वर।
आवो नी पधारो ,
मारे आंगणिये खेतेश्वर। टेर।


प्रेम सु परोसु थाने ,
भाव रा भोजनिया।
खेतेश्वर दाता आया ,
भगता रे आंगनिया।
फूलड़ा बिछावा में तो डगर डगर ,
मारा प्यारा ओ परमेश्वर।
आवो नी पधारो ,
मारे आंगणिये खेतेश्वर। टेर।


हेत रे हालरिये ,
हुलरावा गुरुदेव ने।
प्रेम रे पालणिये ,
झुलावा गुरुदेव ने।
गुण तो गावा दाता सारी उमर ,
मारा प्यारा ओ परमेश्वर।
आवो नी पधारो ,
मारे आंगणिये खेतेश्वर। टेर।


मन में बसिया ओ मारा ,
जोगी अलबेला।
खेतेश्वर गुरु में तो ,
बनिया थारा चेला।
दास गोपाल कहे बाबा ने सुमर ,
मारा प्यारा ओ परमेश्वर।
आवो नी पधारो ,
मारे आंगणिये खेतेश्वर। टेर।


जरूर पढ़ें :- खेतेश्वर खेड़ा में जनमिया

जरूर पढ़ें :- थे तो साँचा हो तपधारी

kheteshwar bhajan in hindi lyrics

~ mhare aanganiye kheteshwar ~

aavo ni padharo ,
mare aanganiye kheteshwar.
mat pita ho data the hi guruvar,
mara pyara o parmeshwar.


ugya su aathmta data,
kheteshwar ne terta.
sutoda sapna me baba,
kheteshwar ne dekhta.
prem ra pyala paya bhar bhar kar,
mara pyara o parmeshwar.
aavo ni padharo ,
mare aanganiye kheteshwar.


jathe dekhu uthe najar,
kheteshwar aavta.
ghar ghar me or gali gali me,
bhajan me gavata.
par lagavo mane bhavsagar,
mara pyara o parmeshwar.
aavo ni padharo ,
mare aanganiye kheteshwar.


prem su parosu thane,
bhav ra bhojniya.
kheteshwar data aaya,
bhagta re aanganiya.
fulda bichava me to dagar dagar,
mara pyara o parmeshwar.
aavo ni padharo ,
mare aanganiye kheteshwar.


het re halriye,
hulrava gurudev ne.
prem re palniye,
jhulava gurudev ne.
gun to gava data sari umar,
mara pyara o parmeshwar.
aavo ni padharo ,
mare aanganiye kheteshwar.


man me basiya o mara,
jogi albela.
kheteshwar guru me to ,
baniya thara chela.
das gopal kahe baba ne sumar,
mara pyara o parmeshwar.
aavo ni padharo ,
mare aanganiye kheteshwar.


जरूर पढ़ें :- मारो बेड़ो लगा दीजो पार

जरूर पढ़ें :- मोहन खेड़ा के प्रांगण में 

खेतेश्वर महाराज का भजन मारवाड़ी

~ मारे आंगणिये खेतेश्वर ~

आवो नी पधारो ,मारे आंगणिये खेतेश्वर।
मात पिता हो दाता थे ही गुरुवर ,मारा प्यारा ओ परमेश्वर।

उग्या सु आथमता दाता ,खेतेश्वर ने टेरता।
सुतोडा सपना में बाबा ,खेतेश्वर ने देखता।
प्रेम रा प्याला पाया भर भर कर ,मारा प्यारा ओ परमेश्वर।
आवो नी पधारो ,मारे आंगणिये खेतेश्वर। टेर।

जठे देखु उठे नजर ,खेतेश्वर आवता।
घर घर में और गली गली में ,भजना में गावता।
पार लगावो माने भवसागर ,मारा प्यारा ओ परमेश्वर।
आवो नी पधारो ,मारे आंगणिये खेतेश्वर। टेर।

प्रेम सु परोसु थाने ,भाव रा भोजनिया।
खेतेश्वर दाता आया ,भगता रे आंगनिया।
फूलड़ा बिछावा में तो डगर डगर ,मारा प्यारा ओ परमेश्वर।
आवो नी पधारो ,मारे आंगणिये खेतेश्वर। टेर।

हेत रे हालरिये ,हुलरावा गुरुदेव ने।
प्रेम रे पालणिये ,झुलावा गुरुदेव ने।
गुण तो गावा दाता सारी उमर ,मारा प्यारा ओ परमेश्वर।
आवो नी पधारो ,मारे आंगणिये खेतेश्वर। टेर।

मन में बसिया ओ मारा ,जोगी अलबेला।
खेतेश्वर गुरु में तो ,बनिया थारा चेला।
दास गोपाल कहे बाबा ने सुमर ,मारा प्यारा ओ परमेश्वर।
आवो नी पधारो ,मारे आंगणिये खेतेश्वर। टेर।

kheteshwar guru ji ke bhajan

भजन :- पधारो मारे आंगणिये खेतेश्वर
गायिका :- unknown
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- अब हम जाते है घर

जरूर पढ़ें :- गुरूसा अब थोड़ी मेहर करो

Share this

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

five × five =