मारा सतगुरु कृपा किनी माने जड़ी भजन री दिनी भजन लिरिक्स | mara satguru kripa kini bhajan lyrics

2604

मारा सतगुरु कृपा किनी माने जड़ी भजन री दिनी भजन लिरिक्स

मारा सतगुरु कृपा किनी माने जड़ी भजन री दिनी भजन, mara satguru kripa kini satguru mahima ke bhajan lyrics

 ।। दोहा ।।
कोटिक चंदा उगहि ,सूरज कोटि हजार।
तिमिर तो नाशे नहीं गुरु बिन घोर अंधार।


~ सतगुरु किरपा किनी ~

सतगुरु किरपा किनी ,
माने जड़ी भजन री दिनी।
सुतोडी सुरता जागी ,
आ जाग भजन में लागी।


में भूल भरम में फिरतो ,
गुरु कियो भजन में मिलतो।
मारा भाग पुरबला जागा ,
और सत सब्दो में लागा।
सतगुरु किरपा किनी ,
माने जड़ी भजन री दिनी। टेर।


में गुरु सेवना किनी ,
माने सुमिरण कूची दिनी ,
जद खुलिया भरम रा ताला ,
मारे हिरदे भया उजियाला।
सतगुरु किरपा किनी ,
माने जड़ी भजन री दिनी। टेर।


में राम भजन में राजी ,
मारी हरी राखेला बाजी।
में तो गुरूसा रो शरणे लीनो ,
और प्यालो प्रेम रो पिनो।
सतगुरु किरपा किनी ,
माने जड़ी भजन री दिनी। टेर।


झिलमिल झलकी ज्योति ,
निरख लिया निज मोती।
दादू भजे बह जातो ,
मने थाम लियो निज हाथो।
सतगुरु किरपा किनी ,
माने जड़ी भजन री दिनी। टेर।


जरूर पढ़ें :- गुरासा माने ओलु आपरी आवे

जरूर पढ़ें :- बंगला अजब बना महाराज

satguru mahima ke bhajan lyrics hindi

~ mara satguru kripa kini ~

satguru kirpa kini,
mane jadi bhajan ri dini,
sutodi surta jagi,
aa jaag bhajan me laagi.


me bhul bharam me firto,
guru kiyo bhajan me milto.
mara bhag purabla jaga,
or sat sabdo me laga.
satguru kirpa kini,
mane jadi bhajan ri dini.


me guru sevna kini,
mane sumiran kuchi dini.
jad khuliya bharam ra tala,
mare hirde bhaya ujiyala.
satguru kirpa kini,
mane jadi bhajan ri dini.


me ram bhajan me raji,
mari hari rakhela baji.
me to gurusa ro sharne lino,
or pyalo prem ro pino.
satguru kirpa kini,
mane jadi bhajan ri dini.


jhilmil jhalki jyoti,
nirakh liya nij moti.
dadu bhaje bah jato,
mane tham liyo nij hatho.
satguru kirpa kini,
mane jadi bhajan ri dini.


जरूर पढ़ें :- संत सदा सुख धारा

जरूर पढ़ें :- आज हमारे रामजी

गुरु जी भजन लिरिक्स इन हिंदी

~ मारा सतगुरु कृपा किनी ~

सतगुरु किरपा किनी ,माने जड़ी भजन री दिनी।
सुतोडी सुरता जागी ,आ जाग भजन में लागी।

में भूल भरम में फिरतो ,गुरु कियो भजन में मिलतो।
मारा भाग पुरबला जागा ,और सत सब्दो में लागा।
सतगुरु किरपा किनी ,माने जड़ी भजन री दिनी। टेर।

में गुरु सेवना किनी ,माने सुमिरण कूची दिनी ,
जद खुलिया भरम रा ताला ,मारे हिरदे भया उजियाला।
सतगुरु किरपा किनी ,माने जड़ी भजन री दिनी। टेर।

में राम भजन में राजी ,मारी हरी राखेला बाजी।
में तो गुरूसा रो शरणे लीनो ,और प्यालो प्रेम रो पिनो।
सतगुरु किरपा किनी ,माने जड़ी भजन री दिनी। टेर।

झिलमिल झलकी ज्योति ,निरख लिया निज मोती।
दादू भजे बह जातो ,मने थाम लियो निज हाथो।
सतगुरु किरपा किनी ,माने जड़ी भजन री दिनी। टेर।

naresh prajapat ke bhajan

भजन :- सतगुरु किरपा किनी
गायक :- नरेश प्रजापत
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- आज गुरु आविया रे

जरूर पढ़ें :- वारी ओ गुरुदेव आपने बलिहारी

पिछला लेखगुरासा माने ओलु आपरी आवे भजन लिरिक्स | Guru Ji Mhara Olu Aapri Aave bhajan lyrics
अगला लेखसमझ मन मेरा गुरु बिन मुक्ति ना होई भजन लिरिक्स | guru bina mukti na hoi bhajan lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

1 + two =