समझ मन मेरा गुरु बिन मुक्ति ना होई भजन लिरिक्स | guru bina mukti na hoi bhajan lyrics

1133

समझ मन मेरा गुरु बिन मुक्ति ना होई भजन लिरिक्स

समझ मन मेरा गुरु बिन मुक्ति ना होई भजन, guru bina mukti na hoi guruji bhajan lyrics in hindi

 ।। दोहा ।।
सतगुरु आवत देखिया,ज्यां रे कांधे लाल बन्दुक।
गोली दागी हरी नाम री, भाग गया जम दूत।


~ गुरु बिन मुक्ति ना होई ~

समझ मन मेरा ,
गुरु बिन मुक्ति ना होई।
गुरु बिन मुक्ति ना होई ,
भाई गुरु बिन मुक्ति ना होई।


नीच वरन रविदास चमारा ,
गुरु किया मीरा बाई।
विष रा प्याला अमृत हो गया ,
गुरु रे महिमा जग जोई।
समझ मन मेरा ,
गुरु बिन मुक्ति ना होई।


चार वेद षट शास्त्र पुराणा ,
पढिया सुख मुनि राई।
गया वैकुण्ठ मोड़ दिया पाछा ,
गुरु रे किया जद आई।
समझ मन मेरा ,
गुरु बिन मुक्ति ना होई।


नारद मुनि विदुर और ज्ञानी ,
हरी संग रहत सदाई।
कर क्रीड़ा पाव परसिया ,
लख चौरासी में जाई।
समझ मन मेरा ,
गुरु बिन मुक्ति ना होई।


गुरु बिन मुक्ति नहीं किसी की ,
लाख करो चतुराई।
भवरलाल परस्या गुरु पद को ,
दिन दिन मौज सवाई।
समझ मन मेरा ,
गुरु बिन मुक्ति ना होई।


जरूर पढ़ें :- मारा सतगुरु कृपा किनी 

जरूर पढ़ें :- गुरासा माने ओलु आपरी आवे

guruji bhajan lyrics in hindi

~ guru bina mukti na hoi ~

samaj man mera,
guru bin mukti naa hoi.
guru bin mukti naa hoi,
bhai guru bin mukti naa hoi.


nich varan ravidas chamara,
guru kiya meera bai.
vish ra pyala amrit ho gaya,
guru re mahima jag joi.
samaj man mera,
guru bin mukti naa hoi.


char ved shat shastra purana,
padiya sukh muni rai.
gaya vaikunth mod diya pacha,
guru re kiya jad aai.
samaj man mera,
guru bin mukti naa hoi.


narad muni vidur or gyani,
hari sang rahat sadai.
kar krida pav parsiya,
lakh chourasi me jai.
samaj man mera,
guru bin mukti naa hoi.


guru bin mukti nhi kisi ki,
lakh karo chaturai.
bhanvarlal parsya guru pad ko,
din din moj savai.
samaj man mera,
guru bin mukti naa hoi.


जरूर पढ़ें :- बंगला अजब बना महाराज

जरूर पढ़ें :- संत सदा सुख धारा

सत्संग भजन लिरिक्स इन हिंदी

~ गुरु बिन मुक्ति ना होई ~

समझ मन मेरा ,गुरु बिन मुक्ति ना होई।
गुरु बिन मुक्ति ना होई ,गुरु बिन मुक्ति ना होई।

नीच वरन रविदास चमारा ,गुरु किया मीरा बाई।
विष रा प्याला अमृत हो गया ,गुरु रे महिमा जग जोई।
समझ मन मेरा ,गुरु बिन मुक्ति ना होई।

चार वेद षट शास्त्र पुराणा ,पढिया सुख मुनि राई।
गया वैकुण्ठ मोड़ दिया पाछा ,गुरु रे किया जद आई।
समझ मन मेरा ,गुरु बिन मुक्ति ना होई।

नारद मुनि विदुर और ज्ञानी ,हरी संग रहत सदाई।
कर क्रीड़ा पाव परसिया ,लख चौरासी में जाई।
समझ मन मेरा ,गुरु बिन मुक्ति ना होई।

गुरु बिन मुक्ति नहीं किसी की ,लाख करो चतुराई।
भवरलाल परस्या गुरु पद को ,दिन दिन मौज सवाई।
समझ मन मेरा ,गुरु बिन मुक्ति ना होई।

satguru bhajan lyrics

भजन :- गुरु बिन मुक्ति ना होई
गायक :- unknown
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- आज हमारे रामजी

जरूर पढ़ें :- आज गुरु आविया रे

पिछला लेखमारा सतगुरु कृपा किनी माने जड़ी भजन री दिनी भजन लिरिक्स | mara satguru kripa kini bhajan lyrics
अगला लेखगुरुजी ज्ञान बतायो जग झूठ लखायो भजन लिरिक्स | Guruji Mhane Gyan Batayo Re bhajan lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

7 + thirteen =