संतो गणपत निर्भय रहता भजन लिरिक्स | santo ganpat nirbhay rahta bhajan lyrics

177

संतो गणपत निर्भय रहता भजन लिरिक्स

संतो गणपत निर्भय रहता भजन, santo ganpat nirbhay rahta ganpati vandana lyrics in hindi

 ।। दोहा ।।
शिव शंकर रा लाडला , गणपति गणराज।
विघ्नहरण सुखकरण , सकल सुधारो काज।


~ गणपत निर्भय रहता ~

गले फूलमाल गवरजा रा प्यारा ,
सामी सुंडाला थाने कहता रे ।
संतो ! गणपत निर्भय रहता।


पेली निवण करू गणपत ने ,
सब कोई हाजिर रहता।
धरियो ध्यान तैतीसो रे आगे ,
सब कोई पूरण देता रे।
संतो ! गणपत निर्भय रहता।


मूल कमल में आप विराजो ,
अखंड उजाला रहता।
भरिया भंडार कमी नहीं आवे ,
तुम हो रिद्धि सिद्धि दाता रे।
संतो ! गणपत निर्भय रहता।


विद्या री देवी सारदा ने सिवरू ,
हरख उमावा रहता।
रिद्धि सिद्धि रानी थारे संग विराजे ,
समर्थ सिंहासन रहता रे।
संतो ! गणपत निर्भय रहता।


आप खोजो हो बुद्धि प्रकाशो ,
समर्थ वेद लिख लेता।
शील संतोष सतगुरुजी री महिमा ,
सुन में तो सुमिरण होता रे।
संतो ! गणपत निर्भय रहता।


जरूर पढ़ें :- जय गणेश गणनाथ दयानिधि

जरूर पढ़ें :- गाइए गणपति जगवंदन

ganpati vandana lyrics in hindi

~ santo ganpat nirbhay rahta ~

gale fulmal gavraja ra pyara,
sami sundala thane kahta re.
santo ganpat nirbhay rahta .


peli nivan karu ganpat ne,
sab koi hajir rahta.
dhariyo dhyan taitiso re aage,
sab koi puran deta re.
santo ! ganpati nirbhay rahta.


mul kamal me aap virajo,
akhand ujala rahta.
bhariya bhandar kami nhi aave,
tum ho ridhdhi sidhdhi data re.
santo ! ganpati nirbhay rahta.


vidhya ri devi sarda ne sivru,
harakh umava rahta.
ridhdhi sidhdhi rani thare sang viraje,
samarth sinhasan rahta re.
santo ! ganpati nirbhay rahta.


aap khojo ho budhi prakasho,
samarth ved likh leta.
shil santosh satguruji ri mahima,
sun me to sumiran hota re.
santo ! ganpati nirbhay rahta.


जरूर पढ़ें :- महाराज गजानंद आवो

जरूर पढ़ें :- सांवरिया मारी अरज सुनो

गणेश जी वंदना लिरिक्स

~ संतो गणपत निर्भय रहता ~

गले फूलमाल गवरजा रा प्यारा ,सामी सुंडाला थाने कहता रे ।
संतो ! गणपत निर्भय रहता।

पेली निवण करू गणपत ने ,सब कोई हाजिर रहता।
धरियो ध्यान तैतीसो रे आगे ,सब कोई पूरण देता रे।
संतो ! गणपत निर्भय रहता।

मूल कमल में आप विराजो ,अखंड उजाला रहता।
भरिया भंडार कमी नहीं आवे ,तुम हो रिद्धि सिद्धि दाता रे।
संतो ! गणपत निर्भय रहता।

विद्या री देवी सारदा ने सिवरू ,हरख उमावा रहता।
रिद्धि सिद्धि रानी थारे संग विराजे ,समर्थ सिंहासन रहता रे।
संतो ! गणपत निर्भय रहता।

आप खोजो हो बुद्धि प्रकाशो ,समर्थ वेद लिख लेता।
शील संतोष सतगुरुजी री महिमा ,सुन में तो सुमिरण होता रे।
संतो ! गणपत निर्भय रहता।

mahendra singh devda bhajan

भजन :- गणपत निर्भय रहता
गायक :- महेंद्र सिंह देवड़ा
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- सरवरिया री तीर खड़ी

जरूर पढ़ें :- रमता रामदेव रणुजे

पिछला लेखजय गणेश गणनाथ दयानिधि भजन लिरिक्स | jay ganesh gannath daya nidhi bhajan lyrics
अगला लेखगणपति गणेश को उमापति महेश को भजन लिरिक्स | ganpati ganesh ko umapati mahesh ko bhajan lyrics

1 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

seven + 13 =