कह देना उधो इतनी सी बात हमारी भजन लिरिक्स | keh dena udho itni si baat hamari bhajan lyrics

3528

कह देना उधो इतनी सी बात हमारी भजन लिरिक्स

कह देना उधो इतनी सी बात हमारी भजन, keh dena udho itni si baat hamari krishna bhajan lyrics in hindi

 ।। दोहा ।।
ऐ कन्हैया बेवफा ,बंसी बजाना छोड़ दे।
आना है तो सामने आ ,ख्वाबो में आना छोड़ दे।


~ कह देना उधो ~

कह देना उधो,
इतनी सी बात हमारी।
कठिन सौत कुब्जा के बस में,
जहा जहा बसे मुरारी।


कह देना उस मनमोहन से,
प्राण क्यूँ नहीं ले गया तन से।
जैसे पानी बरसे घन से,
वैसे आँसू झारी रे।
कह देना उधो,
इतनी सी बात हमारी।


मथुरा की ये महल हवेली,
कुब्जा बन गई नई नवेली।
शहरी नार बड़ी अलबेली,
हमसे लगे जो प्यारी रे।
कह देना उधो,
इतनी सी बात हमारी।


ऐसा हमको क्यों पढ़ाया,
फूँक दई बिन अगनि काया।
क्यूँ ना हमको जहर पिलाया,
भेजी क्यूँ ना कटारी रे।
कह देना उधो,
इतनी सी बात हमारी।


हम आयेंगे यमुना होकर,
तन मन धन सब अपना खोकर।
सुबह शाम हम रो रो करके ,
कर दी यमुना खारी रे।


कह देना उधो,
इतनी सी बात हमारी।
कठिन सौत कुब्जा के बस में,
जहा जहा बसे मुरारी।


जरूर पढ़ें :- म्हारा ओम बन्ना ओ

जरूर पढ़ें :- रामा राज कुंवर

krishna bhajan lyrics in hindi

~ keh dena udho itni si baat hamari ~

kah dena udho,
etni si bat hamari.
kathin sot kubja ke bas me,
jaha jaha base murari.


kah dena us manmohan se,
pran kyu nhi le gaya tan se.
jaise pani barse ghan se,
vaise aanshu jhari re.
kah dena udho,
etni si bat hamari.


mathura ki ye mahal haveli,
kubja ban gai nai naveli.
shahari nar badi albeli,
hamse lage jo pyari re.
kah dena udho,
etni si bat hamari.


aisa hamko kyu padhaya,
funk dai bin agni kaya.
kyu na hamko jahar pilaya,
bheji kyu na katari re.
kah dena udho,
etni si bat hamari.


ham aayenge yamuna hokar,
tan man dhan sab apna khokar.
subah sham ham ro ro karke,
kar di yamuna khari re.


kah dena udho,
etni si bat hamari.
kathin sot kubja ke bas me,
jaha jaha base murari.


जरूर पढ़ें :- गाज्यो गाज्यो जेठ आषाढ़

जरूर पढ़ें :- सीताराम सीताराम कहिए

कृष्ण के भजन 

~ कह देना उधो इतनी सी बात हमारी ~

कह देना उधो, इतनी सी बात हमारी।
कठिन सौत कुब्जा के बस में,जहा जहा बसे मुरारी।

कह देना उस मनमोहन से,प्राण क्यूँ नहीं ले गया तन से।
जैसे पानी बरसे घन से,वैसे आँसू झारी रे।
कह देना उधो, इतनी सी बात हमारी।

मथुरा की ये महल हवेली,कुब्जा बन गई नई नवेली।
शहरी नार बड़ी अलबेली,हमसे लगे जो प्यारी रे।
कह देना उधो, इतनी सी बात हमारी।

ऐसा हमको क्यों पढ़ाया,फूँक दई बिन अगनि काया।
क्यूँ ना हमको जहर पिलाया,भेजी क्यूँ ना कटारी रे।
कह देना उधो, इतनी सी बात हमारी।

हम आयेंगे यमुना होकर,तन मन धन सब अपना खोकर।
सुबह शाम हम रो रो करके। ,कर दी यमुना खारी रे।
कह देना उधो, इतनी सी बात हमारी।

shankar sharma ke bhajan

भजन :- कह देना उधो
गायक :- शंकर शर्मा
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- मेहंदी रची थारे हाथा में

जरूर पढ़ें :- भोले बाबा का रूप निराला

पिछला लेखम्हारा ओम बन्ना ओ चोटिला रा राजा भजन लिरिक्स | mara om banna chotila ra raja bhajan lyrics
अगला लेखओढ़ चुनर में गई सत्संग में भजन लिरिक्स | odh chunar meto gai re satsang bhajan lyrics

1 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

17 + 7 =