सीताराम सीताराम सीताराम कहिए जाहि विधि राखे राम भजन लिरिक्स | sitaram sitaram sitaram kahiye bhajan lyrics

511

सीताराम सीताराम सीताराम कहिए जाहि विधि राखे राम भजन लिरिक्स

सीताराम सीताराम सीताराम कहिए भजन sitaram sitaram sitaram kahiye ram ji bhajan lyrics in hindi

 ।। दोहा ।।
तुलसी इस संसार में, भांति भांति के लोग।
सबसे हिल मिल बोलिए, नदी नाव संजोग।


~ सीताराम सीताराम ~

सीताराम सीताराम ,
सीताराम कहिये।
जाहि विधि राखे राम ,
ताहि विधि रहिये।


मुख में हो राम नाम,
राम सेवा हाथ में।
तू अकेला नाहिं प्यारे ,
राम तेरे साथ में।
विधि का विधान जान ,
हानि लाभ सहिये।
जाहि विधि राखे राम ,
ताहि विधि रहिये।
सीताराम ….


ज़िन्दगी की डोर सौंप ,
हाथ दीनानाथ के।
महलों मे राखे चाहे ,
झोंपड़ी मे वास दे |
धन्यवाद निर्विवाद ,
राम राम कहिये।
जाहि विधि राखे राम ,
ताहि विधि रहिये।
सीताराम ….


किया अभिमान तो फिर ,
मान नहीं पायेगा।
होगा प्यारे वही जो श्री ,
रामजी को भायेगा |
फल आशा त्याग शुभ ,
काम करते रहिये,
जाहि विधि राखे राम ,
ताहि विधि रहिये।
सीताराम ….


आशा एक रामजी से ,
दूजी आशा छोड़ दे।
नाता एक रामजी से ,
दूजे नाते तोड़ दे |
साधु संग राम रंग ,
अंग अंग रंगिये।
काम रस त्याग प्यारे ,
राम रस पगिये।


सीताराम सीताराम ,
सीताराम कहिये।
जाहि विधि राखे राम ,
ताहि विधि रहिये।


जरूर पढ़ें :- मेहंदी रची थारे हाथा में

जरूर पढ़ें :- भोले बाबा का रूप निराला

ram ji bhajan lyrics in hindi

~ sitaram sitaram sitaram kahiye ~

sitaram sitaram,
sitaram kahiye.
jahi vidhi rakhe ram,
jahi vidhi rahiye.


mukh me ho ram naam,
ram seva hath me.
tu akela nahi pyare,
ram tere sath me.
vidhi ka vidhan jaan,
hani labh sahiye.
jahi vidhi rakhe ram,
tahi vidhi rahiye.
sitaram…..


jindagi ki dor sop,
hath dinanath ke.
mahlo me rakhe chahe,
jhopdi me vaas de.
dhanyvad nirvivad,
ram ram kahiye.
jahi vidhi rakhe ram,
tahi vidhi rahiye.
sitaram…..


kiya abhiman to fir,
man nhi payega.
hoga pyare vahi jo shri,
ram ji ko bhayega.
fal aasha tyag shubh,
kam karte rahiye.
jahi vidhi rakhe ram,
tahi vidhi rahiye.
sitaram…..


asha ek ram ji se,
duji aasha chhod de.
nata ek ram ji se,
duje nate tod de.
ang ang ragiye .
kam ras tyag pyare,
ram ras pagiye.


sitaram sitaram,
sitaram kahiye.
jahi vidhi rakhe ram,
jahi vidhi rahiye.


जरूर पढ़ें :- गुरुजी बिना कोई काम ना आवे

जरूर पढ़ें :- मारा सतगुरु दीनदयाल

हिंदी भजन लिरिक्स इन हिंदी

~ सीताराम सीताराम सीताराम कहिए ~

सीताराम सीताराम ,सीताराम कहिये।
जाहि विधि राखे राम ,ताहि विधि रहिये।

मुख में हो राम नाम,राम सेवा हाथ में।
तू अकेला नाहिं प्यारे ,राम तेरे साथ में।
विधि का विधान जान ,हानि लाभ सहिये।
जाहि विधि राखे राम ,ताहि विधि रहिये।
सीताराम ….

ज़िन्दगी की डोर सौंप ,हाथ दीनानाथ के।
महलों मे राखे चाहे ,झोंपड़ी मे वास दे |
धन्यवाद निर्विवाद ,राम राम कहिये।
जाहि विधि राखे राम ,ताहि विधि रहिये।
सीताराम ….

किया अभिमान तो फिर ,मान नहीं पायेगा।
होगा प्यारे वही जो श्री ,रामजी को भायेगा |
फल आशा त्याग शुभ ,काम करते रहिये,
जाहि विधि राखे राम ,ताहि विधि रहिये।
सीताराम ….

आशा एक रामजी से ,दूजी आशा छोड़ दे।
नाता एक रामजी से ,दूजे नाते तोड़ दे |
साधु संग राम रंग ,अंग अंग रंगिये।
काम रस त्याग प्यारे ,राम रस पगिये।

सीताराम सीताराम ,सीताराम कहिये।
जाहि विधि राखे राम ,ताहि विधि रहिये।

prakash mali ke bhajan

भजन :- सीताराम सीताराम
गायक :- प्रकाश माली
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- इंदर राजा म्हारी अर्जी साम्भलो

जरूर पढ़ें :- गुरु मिलिया आत्म राम

पिछला लेखमेहंदी रची थारे हाथा में भजन लिरिक्स | mehandi rachi thare hatha mein bhajan lyrics
अगला लेखगाज्यो गाज्यो जेठ आषाढ़ कंवर तेजा रे भजन लिरिक्स | gajyo gajyo jeth asad kawar teja bhajan lyrics

1 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

two × 2 =