गाज्यो गाज्यो जेठ आषाढ़ कंवर तेजा रे भजन लिरिक्स | gajyo gajyo jeth asad kawar teja bhajan lyrics

502

गाज्यो गाज्यो जेठ आषाढ़ कंवर तेजा रे भजन लिरिक्स

गाज्यो गाज्यो जेठ आषाढ़ कंवर तेजा रे भजन, gajyo gajyo jeth asad kawar teja bhajan teja ji bhajan hindi lyrics

 ~ गाज्यो गाज्यो जेठ आषाढ़ ~

गाज्यो गाज्यो जेठ ,
आषाढ़ कंवर तेजा रे।
लगतोड़ा लाग्या रे,
सावण भादवा।


सूते कई सुतो भेरे ,
नींद कंवर तेजा रे।
थारे तो साथीडा तो ,
बीने बाजरो।


इतरो तो झूठ मत बोलो ,
माता जरणी वो।
मारा साथीड़ा खेले ,
गोर मे।


कठे पड़ी रास पेराणी,
भावज म्हारी रे।
कठे तो पड्या है,
हली हालिया।


खुट्या पड़ी रास पेराणी,
कंवर तेजा रे।
बाड़ा में बंदया रे ,
बैल्या जोड़ी का।


गावे गावे थने हरी,
बूढ़क कवर तेजा रे।
कलयुग रे माया ने,
साचा देवता।


गाज्यो गाज्यो जेठ ,
आषाढ़ कंवर तेजा रे।
लगतोड़ा लाग्या रे,
सावण भादवा।


जरूर पढ़ें :- सीताराम सीताराम कहिए

जरूर पढ़ें :- मेहंदी रची थारे हाथा में

teja ji bhajan hindi lyrics

~ gajyo gajyo jeth asad kawar teja ~

gajyo gajyo jeth,
aashadh kanvar teja re.
lagtoda lagya re,
savan bhadva.


sute kai suto bhere,
nind kanvar teja re.
thare to sathida to,
bine bajro.


etro to jhuth mat bolo,
mata jarni wo.
mara sathida khele,
gor me.


kathe padi ras perani,
bhavaj mhari re.
kathe to padya hai,
hali haliya.


khutya padi ras perani,
kanvar teja re.
bada me bandya re,
belya jodi ka.


gave gave thane hari,
budhak kanvar teja re.
kalyug re maya ne,
sacha devta.


gajyo gajyo jeth,
aashadh kanvar teja re.
lagtoda lagya re,
savan bhadva.


जरूर पढ़ें :- भोले बाबा का रूप निराला

जरूर पढ़ें :- गुरुजी बिना कोई काम ना आवे 

तेजाजी महाराज के भजन लिरिक्स

~ गाज्यो गाज्यो जेठ आषाढ़ कंवर तेजा ~

गाज्यो गाज्यो जेठ ,आषाढ़ कंवर तेजा रे।
लगतोड़ा लाग्या रे,सावण भादवा।

सूते कई सुतो भेरे ,नींद कंवर तेजा रे।
थारे तो साथीडा तो ,बीने बाजरो।

इतरो तो झूठ मत बोलो ,माता जरणी वो।
मारा साथीड़ा खेले ,गोर मे।

कठे पड़ी रास पेराणी,भावज म्हारी रे।
कठे तो पड्या है,हली हालिया।

खुट्या पड़ी रास पेराणी,कंवर तेजा रे।
बाड़ा में बंदया रे ,बैल्या जोड़ी का।

गावे गावे थने हरी,बूढ़क कवर तेजा रे।
कलयुग रे माया ने,साचा देवता।

गाज्यो गाज्यो जेठ ,आषाढ़ कंवर तेजा रे।
लगतोड़ा लाग्या रे,सावण भादवा।

prakash mali ke bhajan

भजन :- गाज्यो गाज्यो जेठ आषाढ़
गायक :- प्रकाश माली
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- मारा सतगुरु दीनदयाल

जरूर पढ़ें :- इंदर राजा म्हारी अर्जी साम्भलो

पिछला लेखसीताराम सीताराम सीताराम कहिए जाहि विधि राखे राम भजन लिरिक्स | sitaram sitaram sitaram kahiye bhajan lyrics
अगला लेखरामा राज कुंवर हो गई थारी मेहर भजन लिरिक्स | rama raj kunwar bhajan lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

three × two =